सोमवार, अक्टूबर 3Digitalwomen.news

Tag: WOMEN EMPOWERMENT

कोन्याक अगर राज्यसभा चुनाव जीतती हैं तो नागालैंड की पहली महिला होंगी, भाजपा ने बनाया प्रत्याशी
Latest News, Other States, States

कोन्याक अगर राज्यसभा चुनाव जीतती हैं तो नागालैंड की पहली महिला होंगी, भाजपा ने बनाया प्रत्याशी

Phangnon Konyak: BJP fields woman for lone Rajya Sabha seat from Nagaland JOIN OUR WHATSAPP GROUP इसी महीने 31 मार्च को होने वाले राज्यसभा चुनाव के लिए भाजपा ने नागालैंड से महिला प्रत्याशी को अपना उम्मीदवार बनाया है। 60 सदस्यीय विधानसभा में 35 विधायकों के साथ भाजपा की महिला मोर्चा अध्यक्ष एस फांगनोन कोन्याक को संसद के उच्च सदन में राज्य की एकमात्र सीट के लिए उम्मीदवार के रूप में नामित किया है। अगर फेंगनॉन राज्यसभा की मेंबर बनती हैं, तो 1963 के बाद पहला ऐसा मौका होगा जब कोई महिला संसद में नागालैंड को प्रतिनिधित्व करेंगी। इससे पहले 1963 में नागालैंड की रानो एम शाइजा लोकसभा सांसद चुनी गई थीं। नगालैंड विधानसभा में आज तक कोई महिला विधायक निर्वाचित नहीं हुई है। चुनाव के लिए पीठासीन अधिकारी के. रियो ने बताया कि प्रत्याशी सोमवार दोपहर 3 बजे तक नामांकन दाखिल कर सकते हैं। राज्य सभा के लिए 3...
सैकड़ों साल बाद वेटिकन प्रावधानों में हुए बदलाव, अब महिलाएं भी बन सकेंगी वेटिकन के विभागों की प्रमुख
Latest News

सैकड़ों साल बाद वेटिकन प्रावधानों में हुए बदलाव, अब महिलाएं भी बन सकेंगी वेटिकन के विभागों की प्रमुख

Vatican: Pope Francis Expands Potential Role of Women at Vatican JOIN OUR WHATSAPP GROUP वेटिकन के संविधान में जल्द ही अभूतपूर्व बदलाव होने वाले हैं, इसका ऐलान पोप फ्रांसिस ने शनिवार को किया है।नए संविधान के तहत बपतिस्मा (एक तरह का ईसाई संस्कार) करा चुके कोई भी कैथोलिक, चाहे वह महिला हो या पुरुष, वेटिकन के केंद्रीय प्रशासन के ज्यादातर विभागों का नेतृत्व कर सकेगा।मालूम हो कि सैकड़ों वर्षों से इन विभागों का नेतृत्व पुरुष कर रहे थे, जो सामान्य तौर पर कार्डिनल या बिशप होते थे। इस प्रैडिकेट इवांग्लियम (प्राक्लेमिंग द गास्पेल) नामक 54 पन्नों के संविधान को तैयार करने में लगभग नौ वर्षो से ज्यादा समय लगा है। नया संविधान पांच जून से होगा प्रभावी: Vatican: Pope Francis Expands Potential Role of Women at Vatican इस संविधान को पोप फ्रांसिस के पद संभालने की नौवीं वर्षगांठ जारी पर किया ...
Celebrating the 191st birthday of Fatima Sheikh, a social reformer who was the first Woman Muslim Teacher of Modern India
DW Editorial, Latest News, Other States, States

Celebrating the 191st birthday of Fatima Sheikh, a social reformer who was the first Woman Muslim Teacher of Modern India

देश के पहली महिला मुस्लिम शिक्षिका फातिमा शेख की 191वीं जयंती आज, समाज के गरीबों की शिक्षा में दिया था बड़ा योगदान Celebrating the 191st birthday of Fatima Sheikh, a social reformer who was the first Woman Muslim Teacher of Modern India JOIN OUR WHATSAPP GROUP आज भारत की पहली मुस्लिम महिला शिक्षिका फामिता शेख की 191 वीं जयंती है। इस मौके पर गूगल ने उन्हें डूडल बनाकर सम्मानित किया है। कौन थी फातिमा शेख: फातिमा शेख का जन्म आज के ही दिन 9 जनवरी 1831 को भारत के पुणे महाराष्ट्र में हुआ था। फातिमा एक महिला शिक्षिका के साथ-साथ महान समाज सुधारक ज्योतिबा फुले और सावित्रीबाई फुले की सहयोगी भी रही है। जब सावित्रीबाई फूले को दलित व गरीबों को शिक्षा देने के विरोध में उनके पिता ने घर से निकाल दिया था तो उस्मान शेख व फातिमा ने उन्हें शरण दी थी। उन्होंने समाज सुधारक ज्योति बा फुले और साव...
President Ram Nath Kovind Gives Assent to Surrogacy Act, 2021
DW Editorial, Latest News, TRENDING

President Ram Nath Kovind Gives Assent to Surrogacy Act, 2021

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सेरोगेसी कानून को दी मंजूरी, अब नहीं हो सकेगा दुरुपयोग President Ram Nath Kovind Gives Assent to Surrogacy Act, 2021 JOIN OUR WHATSAPP GROUP देश में अब सरोगेसी (विनियमन) अधिनियम 2021 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी दे दी है। राष्ट्रपति ने इसे शनिवार को मंजूरी दी और गजट प्रकाशन के साथ ही यह कानून लागू हो गया है। इस कानून में सरोगेसी को वैधानिक मान्यता देने और इसके व्यवसायीकरण को गैरकानूनी बनाने का प्रावधान है। Surrogacy Act, 2021 इस कानून से सरोगेसी के पैसे कमाने और इसके दुरुपयोग पर अंकुश लगेगा। इसके जरिये केवल मातृत्व प्राप्त करने के लिए सरोगेसी की अनुमति मिलेगी, जिसमें सरोगेट मां को गर्भ की अवधि के दौरान चिकित्सा खर्च और बीमा कवरेज के अलावा कोई और वित्तीय मुआवजा नहीं मिलेगा। बता दें की सरोगेसी का अर्थ किराये पर गर्भ होता है। इसका उपयो...
Union Cabinet passed a proposal to raise the legal age of marriage for women from 18 to 21 years
Breaking News, Latest News

Union Cabinet passed a proposal to raise the legal age of marriage for women from 18 to 21 years

लड़कियों की शादी का 18 साल का बदलेगा कानून, केंद्र सरकार करने जा रही नया संशोधन, कैबिनेट की मिली मंजूरी Union Cabinet passed a proposal to raise the legal age of marriage for women from 18 to 21 years अगर सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो जल्द ही हमारे देश में लड़कियों की शादी का बना 18 साल का कानून बदलेगा। इसके लिए मोदी सरकार ने अब एक नया कानून बनाने जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2020 में 15 अगस्त को दिल्ली के लाल किले से संबोधित करते हुए प्लानिंग शुरू कर दी थी। प्रधानमंत्री ने कहा था कि लड़कियों की शादी की सही उम्र क्या हो, इसके लिए कमेटी बनाई गई है।‌ तभी से देश में लड़कियों की शादी के लिए बना कानून को बदलने की तैयारी शुरू हो गई थी। नीति आयोग में जया जेटली की अध्यक्षता में बने टास्क फोर्स ने इसकी सिफारिश की थी। इसी सिफारिश के आधार पर बुधवार को हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में मह...
Unilever HR head Leena Nair is Chanel global CEO
Breaking News, Latest News, TRENDING

Unilever HR head Leena Nair is Chanel global CEO

विदेश में उपलब्धि, भारत मूल की लीना नायर फ्रांस की शनैल ग्रुप में ग्लोबल सीईओ नियुक्त Unilever HR head Leena Nair is Chanel global CEO सुनने में अच्छा लगता है जब कोई भारतीय मूल के विदेशों में बड़े पद पर विराजमान होते हैं। लेकिन यह सब वह अपनी मेहनत और लगन के बल पर मुकाम पाते हैं। ‌आज कई देशों की बड़ी कंपनियों में भारतीय सीईओ का बोलबाला है। ‌ट्विटर, माइक्रोसॉफ्ट या दुनिया की सबसे बड़ी सर्च सर्चिंग साइट गूगल के अलावा भी कई सीईओ या अन्य प्रमुख पदों पर भारतीय मूल के हैं। अब एक बार फिर भारत मूल की महिला लीना नायर को यूरोप के देश फ्रांस के लग्जरी ग्रुप शनैल ने लंदन में अपना नया ग्लोबल चीफ एडिटर नियुक्त किया है। बता दें कि 52 वर्षीय लीना नायर इससे पहले लीना यूनिलीवर की सबसे कम उम्र की मुख्य मानव संसाधन अधिकारी थी। ये इंटरनेशनल ब्रांड अपने ट्वीड सूट, क्विल्टेड हैंडबैग और परफ्यूम के लिए पहचान...
Afghan women have a long history of taking leadership and fighting for their rights
Latest News, News, WOMEN

Afghan women have a long history of taking leadership and fighting for their rights

Afghan women have a long history of taking leadership and fighting for their rights Afghan women hold ‘silent’ protests in Kabul against repressive measures under the Taliban regime. Bilal Guler/Anadolu Agency via Getty Images Wazhmah Osman, Temple University and Helena Zeweri, University of Virginia Ever since the Taliban recaptured Afghanistan, the question in much of the Western media has been, “What will happen to the women of Afghanistan?” Indeed, this is an important concern that merits international attention. The Taliban has already imposed many restrictions on women. At the same time, however, much of the Western media coverage appears to be reinforcing the idea that the U.S. military intervention helped expand the rights for Afghan...
Vandana Shiva fights patents on seeds to make farmers independent from Monsanto and Nestlé
Latest News

Vandana Shiva fights patents on seeds to make farmers independent from Monsanto and Nestlé

Vandana Shiva, the Indian scientist and activist stands for social justice and uncompromising sustainability. The Alternative Nobel Prize winner gained worldwide attention through her fight against the agricultural giant Monsanto. But Vandana Shiva does not only want to give the seeds back to the farmers who grow them. She is a well-known critic of globalisation, speaks out publicly against the concentration of wealth and fights for better coexistence on earth. Vandana Shiva: From physicist to activist A public lecture and press conference by Vandana Shiva and meeting with young farmers, NGOs and activists (2013) Before Vandana Shiva became a world-renowned social activist, she studied physics in India and Canada. As early as the 1970s, she became involved in the first Indian...
Menstrual cups are a cheaper, more sustainable way for women to cope with periods than tampons or pads
Latest News

Menstrual cups are a cheaper, more sustainable way for women to cope with periods than tampons or pads

Menstrual cups are a cheaper, more sustainable way for women to cope with periods than tampons or pads A woman holds a menstrual cup in Kenya. Gioia Forster/picture alliance via Getty Images Susan Powers, Clarkson University Every year in America, women spend at least US$2.8 billion on sanitary pads and tampons that can take hundreds of years to decompose. Is there a more economical and environmentally friendly way? To find out, we asked Susan Powers, a professor of sustainable environmental systems at Clarkson University about her work comparing the environmental impact of tampons, sanitary pads and menstrual cups. What is a menstrual cup? A menstrual cup is a type of reusable feminine hygiene product. It’s a small, flexible bell-shaped cup m...
Decided To Allow Women In National Defence Academy, Centre to Supreme Court 
DW Editorial, Latest News

Decided To Allow Women In National Defence Academy, Centre to Supreme Court 

लड़कियों में छाई खुशी: केंद्र की सुप्रीम कोर्ट को स्वीकृति के बाद बहादुर बेटियों के एनडीए में जाने के सच हुए 'सपने' Decided To Allow Women In National Defence Academy, Centre to Supreme Court  आज देश की उन बहादुर बेटियों के लिए बहुत ही गर्व का दिन है, जो कई वर्षों से एनडीए में शामिल होने के लिए संघर्ष कर रहीं थी। हालांकि 'पिछले महीने अगस्त की 18 तारीख को सुप्रीम कोर्ट ने लड़कियों के लिए एनडीए और नेवल एकेडमी में जाने के लिए फैसला सुनाया था और केंद्र सरकार से सीधा पूछा था आप इसे कब स्वीकृति दे रहे हैं आखिरकार बुधवार को केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को अपनी स्वीकृत देते हुए बताया कि नेशनल डिफेंस एकेडमी में लड़कियों को हम प्रवेश देने के लिए तैयार हैं'। जिसके बाद देश भर में उन लड़कियों में खुशी दौड़ गई जो सेना में शामिल होने के लिए 'सपने संजोए' हुए हैं। बता दें कि केंद्र सरकार की तरफ से ...