रविवार, सितम्बर 25Digitalwomen.news

Tag: History

गणेश चतुर्थी: शुभ और विशेष योग के साथ गणेशोत्सव शुरू, घरों और पंडालों में सजाए गए गणपति
DW Editorial, Latest News, Other States, States, TRENDING

गणेश चतुर्थी: शुभ और विशेष योग के साथ गणेशोत्सव शुरू, घरों और पंडालों में सजाए गए गणपति

Ganesh Chaturthi 2022: Subh Muhurat, History, Importance and Significance JOIN OUR WHATSAPP GROUP आज बात शुरू करेंगे गणेश मंत्र से। वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ आज गणेश चतुर्थी से भगवान गणपति उत्सव भी शुरू हो गया है। 10 दिनों तक गणेश उत्सव भक्ति भाव और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। ‌‌हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि और स्वाति नक्षत्र में दोपहर के समय भगवान गणपति का जन्म हुआ था। इस कारण से हर वर्ष गणेश जन्मोत्सव का त्योहार उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस बार गणेशोत्सव की शुरुआत बहुत ही शुभ और विशेष योग में हो रही है। बुधवार से गणेश उत्सव प्रारंभ है और बुधवार का दिन भगवान गणेश की पूजा-अर्चना के लिए विशेष महत्व रखता है। बुधवार के देवता भगवान गणेश जी को माना गया है और इस दिन के ऊपर बुध ग्रह का स्वामित्व ...
66 साल पहले भारत ने आज के दिन शुरू किया था अपना ‘न्यूक्लियर रिएक्टर अप्सरा’
DW Editorial, Latest News

66 साल पहले भारत ने आज के दिन शुरू किया था अपना ‘न्यूक्लियर रिएक्टर अप्सरा’

This Day in History: APSARA (India's First Nuclear Research Reactor) Was Commissioned - [August 4, 1956] JOIN OUR WHATSAPP GROUP आजादी के 9 साल बाद साल 1956 में आज के दिन भारत के लिए उपलब्धियों से भरा दिन था। ‌66 साल पहले 4 अगस्त 1956 को भारत ने अपना न्यूक्लियर रिएक्टर शुरू किया था। ये भारत के साथ ही पूरे एशिया का पहला न्यूक्लियर रिएक्टर था। रिएक्टर से निकलती नीली किरणें देख उस वक्त के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने इसे 'अप्सरा' नाम दिया था। 15 मार्च 1955 को भारत ने न्यूक्लियर रिसर्च रिएक्टर बनाने का फैसला लिया था। डॉक्टर होमी जहांगीर भाभा इस पूरे प्रोग्राम के हेड थे। देश के तमाम वैज्ञानिकों ने दिन-रात मेहनत कर केवल 15 महीने में इसका काम पूरा कर लिया था। अप्सरा लाइट वाटर स्विमिंग पूल-टाइप रिएक्टर है जिसमें अधिकतम वन मेगावॉट थर्मल का बिजली उत्पादन होता था। रिएक्टर की भट्ठी में एलम...
आज का इतिहास: 117 साल पहले लॉर्ड कर्जन ने बंगाल विभाजन का किया था एलान, देश में खूब हुआ विरोध
DW Editorial, Latest News

आज का इतिहास: 117 साल पहले लॉर्ड कर्जन ने बंगाल विभाजन का किया था एलान, देश में खूब हुआ विरोध

Partition of Bengal, 1905: All about the divide and rule JOIN OUR WHATSAPP GROUP 17वीं शताब्दी से लेकर 1947 तक अंग्रेजों का भारत पर शासन रहा। ‌अंग्रेजों के शासनकाल के दौरान देश में कई घटनाएं हुई। उन्हीं में से वायसराय लॉर्ड कर्जन की विभाजनकारी नीति आज भी भारत में नासूर बनी हुई है। 20 जुलाई 1905 में आज के ही दिन भारत के वायसराय लॉर्ड कर्जन ने बंगाल के विभाजन का एलान किया था। आखिरकार 16 अक्टूबर 1905 में बंगाल को दो हिस्सों में बांट दिया गया। लॉर्ड कर्जन के इस फैसले का पूरे देश में जबरदस्त विरोध हुआ। दरअसल, बंगाल विभाजन के पीछे हिन्दू-मुस्लिम एकता को तोड़ने की साजिश थी। अंग्रेजों ने मुस्लिम-बहुल पूर्वी हिस्से को असम के साथ मिलाकर अलग प्रांत बना दिया। दूसरी तरफ हिंदू-बहुल पश्चिमी हिस्से को बिहार और उड़ीसा के साथ मिलाकर पश्चिम बंगाल नाम दे दिया। अंग्रेज दोनों प्रांतों में दो अलग-अल...
Emergency 1975: भारतीय इतिहास की सबसे बदनुमा दाग ‘आपातकाल’ के पीछे की पूरी कहानी
DW Editorial, Latest News

Emergency 1975: भारतीय इतिहास की सबसे बदनुमा दाग ‘आपातकाल’ के पीछे की पूरी कहानी

1975: A State of Emergency was Declared in India JOIN OUR WHATSAPP GROUP नई दिल्ली, 25 जून। साल 1975, 26 जून की सुबह बाकी दिन की गर्मियों के जैसे ही थी। सब अपने काम में व्यस्त थे। तभी रेडियो पर आवाज सुनाई पड़ती है। भाइयों और बहनों राष्ट्रपति जी ने आपातकाल की घोषणा की है, इससे आतंकित होने का कोई कारण नहीं है। आवाज तत्कालिन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की थी। ऐलान में भले ही आतंकित न होने की बात कही गई थी, लेकिन 25 जून की रात जो कुछ हुआ वह किसी आतंकी से कम नहीं। तत्का्लीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के कहने पर राष्ट्र पति फखरुद्दीन अली अहमद ने आपातकाल के आदेश पर हस्ताीक्षर कर दिए। नतीजा- देश के लोकतंत्र पर सबसे बदनुमा दाग। अगले 21 महीने नागरिक अधिकार छीन लिए गए, सत्तार के खिलाफ बोलना अपराध हो गया, विरोधी जेलों में ठूंस दिए गए। उन दिनों देश ने जबरन नसबंदी का भयावह दौर भी देखा। Order gi...
Jawaharlal Nehru’s vision for a just and equitable post-colonial world, with India leading the way
Latest News

Jawaharlal Nehru’s vision for a just and equitable post-colonial world, with India leading the way

Jawaharlal Nehru’s vision for a just and equitable post-colonial world, with India leading the way Wikimedia Commons, CC BY Ian Hall, Griffith University This piece is part of a new series in collaboration with the ABC’s Saturday Extra program. Each week, the show will have a “who am I” quiz for listeners about influential figures who helped shape the 20th century, and we will publish profiles for each one. You can read the other pieces in the series here. Jawaharlal Nehru was not just the architect of modern India and the country’s first prime minister. He also played a central role in the discrediting of European imperialism and gave a voice to people across Asia and Africa struggling for self-determination and racial equality. An unlikel...
US Open 2021: Emma Raducanu creates history by winning ‘Women’s Singles’ Title
Uncategorized

US Open 2021: Emma Raducanu creates history by winning ‘Women’s Singles’ Title

यूएस ओपन में ऐमा रादुकानू ने रचा इतिहास, 53 साल बाद बनी खिताब जीतने वाली पहली ब्रिटिश महिला खिलाड़ी Emma Raducanu: Winner of US Open 2021 ब्रिटेन की टेनिस खिलाड़ी ऐमा रादुकानू ने कनाडा की लेलाह फर्नांडीज को हराकर महिला सिंगल यूएस ओपन खिताब जीत लिया है।ऐमा ने मात्र 18 साल की उम्र में ग्रैंड स्लैम खिताब अपने नाम कर लिया। उन्होंने फाइनल में कनाडा की लैला फर्नांडीज को हराया जो उनकी हमउम्र हैं। रादुकानू ने फर्नांडीज को 6-4, 6-3 से हराकर ग्रैंड स्लैम खिताब पर कब्जा कर लिया है। US Open 2021: Emma Raducanu creates history by winning 'Women's Singles' Title after 53 years बता दें की रादुकानू पेशेवर युग में ग्रैंडस्लैम फाइनल में पहुंचने वाली पहली क्वालिफायर हैं। अपने दूसरे ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट में खेल रही रादुकानू ने यूएस ओपन में अभी तक अपने सभी 18 सेट जीते हैं। इसमें क्वालिफाईंग...
Neeraj Chopra Creates History by winning Gold Medal in Men’s Javelin Throw
Breaking News, DW Editorial, In Pictures, Latest News, News, Sports, TRENDING, Videos, Viral Buzz

Neeraj Chopra Creates History by winning Gold Medal in Men’s Javelin Throw

रचा इतिहास: देश में आई 'सोने' की शुभ घड़ी, नीरज के गोल्ड जीतने के बाद मानो टोक्यो ओलंपिक मुट्ठी में Neeraj Chopra Creates History by winning Gold Medal in Men's Javelin Throw शनिवार शाम घड़ी 5:40 बजा रही थी। उसी दौरान एक 'सोने' जैसी खबर देशवासियों को लगी। फिर क्या था करीब एक अरब 35 करोड़ जनसंख्या वाला भारत तालियों की गड़गड़ाहट से 'गूंज' उठा। हालांकि देश के लोगों की निगाहें तो सुबह से ही लगी थी। लेकिन फिर भी लोग 'गोल्ड वाली शुभ घड़ी' का इंतजार कर रहे थे। https://videopress.com/v/o3FKzlyk?preloadContent=metadata Neeraj Chopra's Medal Ceremony when National Anthem Played at Tokyo Olympic आखिरकार जापान की राजधानी टोक्यो में देश का तिरंगा लहरा उठा, राष्ट्रगान बज गया। टोक्यो ओलंपिक से आई खुशियों से देश झूम उठा। ओलंपिक के 16वें दिन आखिरकार 23 वर्षीय नीरज चोपड़ा ने जेवलिन थ्रो (भाल...
Wikipedia at 20: Why it often overlooks stories of women in history
Latest News

Wikipedia at 20: Why it often overlooks stories of women in history

Wikipedia at 20: Why it often overlooks stories of women in history Less than a third of biographical entries on Wikipedia are about women. aradaphotography/shutterstock.com Tamar Carroll, Rochester Institute of Technology and Lara Nicosia, Rochester Institute of Technology Movements like #MeToo have drawn increased attention to the systemic discrimination facing women in a range of professional fields, from Hollywood and journalism to banking and government. Discrimination is also a problem on user-driven sites like Wikipedia. Wikipedia’s 20th birthday is on Jan. 15, 2021 and today it is the thirteenth most popular website worldwide. In December 2020, the online encyclopedia had over 22 billion page views. The volume of traffic on Wikipedia’...