गुरूवार, अक्टूबर 6Digitalwomen.news

Tag: 2021-22 Budget

Budget Overview: बजट में मिडिल क्लास मायूस, प्राइवेटाइजेशन और कॉर्पोरेट जगत को मिला ‘निर्मल आशीर्वाद’
Latest News

Budget Overview: बजट में मिडिल क्लास मायूस, प्राइवेटाइजेशन और कॉर्पोरेट जगत को मिला ‘निर्मल आशीर्वाद’

Union Budget 2021-22 Overview कोरोना संकटकाल के बाद मिडिल क्लास को बहुत उम्मीद थी कि केंद्र सरकार इस बार बजट में रियायत देगी । कई दिनों से मध्यमवर्ग बजट का बेसब्री से इंतजार कर रहा था । आज सुबह जब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद भवन में बजट का पिटारा खोल रही थी तब उम्मीद बढ़ती जा रही थी कि इस बार यह बजट मध्यमवर्ग को मायूस नहीं करेगा । लेकिन एक बार फिर वित्त मंत्री ने मिडिल क्लास के लोगों की मुस्कुराहट छीन ली । बता दें कि इस बार भी टैक्स भरने वाले करदाताओं को बजट में कुछ खास नहीं मिला । वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से टैक्स स्लैब में कोई भी बदलाव नहीं किया गया । ऐसे में मिडिल क्लास को बजट से पहले जितनी भी उम्मीदें थी, वो वैसी की वैसी ही रह गई । सरकार ने इनकम टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया, न ही कोई छूट दी। हालांकि, किफायती घर खरीदने वालों को ब्याज में 1.5 लाख रुपए की अतिरिक...
Highlights of Union Budget 2021-22:
Breaking News, Latest News

Highlights of Union Budget 2021-22:

Heights of Union Budget 2021-22 उज्जवला स्कीम में एक करोड़ और लाभार्थी शामिल होंगे। बीमा कंपनियों में FDI को 49% से बढ़ाकर 74 % करने का प्रावधान किया गया है: वित्त मंत्री 100 नए सैनिक स्कूल खोले जाएंगे, एजुकेशन के लिए जल्द होगा एक कमीशन का गठन आदिवासी इलाकों में खुलेंगे विश्वविद्यालय758 एकलव्य विद्यालय की होगी शुरुआत सभी मजदूरों को मिलेगा न्यूनतम वेतन किसानों के लिए बजट में बड़ा ऐलान, 2022 तक किसानों की आय दुगनी होगीइंडिया को इंटरनेट से जोड़ा जाएगा, बंगाल में चाय मजदूरों के लिए ₹1000 रुपए किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्यFY-21 गेहूं के लिए 75,060 करोड रुपए, FY-20 गेहूं के लिए 62,080 करोड रुपए गोल्ड एक्सचेंज की होगी शुरुआत, सेबी(SEBI) करेगा इसे रेगुलेट सरकारी बैंक के लिए हुए ₹20000 आवंटित बीमा क्षेत्र में सरकार का बड़ा फैसला, बीमा क्षेत्र में एफडीआई 74 फ़ीसदी क...
कोरोना संकटकाल और डूबती अर्थव्यवस्था के बीच मोदी सरकार का कल ‘बजट इम्तेहान’
कोविड 19, COVID19, Latest News, News

कोरोना संकटकाल और डूबती अर्थव्यवस्था के बीच मोदी सरकार का कल ‘बजट इम्तेहान’

Finance Minister Nirmala Sitharaman किसी भी केंद्र सरकार के लिए अपनी योजनाओं और नीतियों का बखान करने के लिए 'बजट' की परीक्षा सबसे बड़ी मानी जाती है ।‌ बजट यह बताता है कि केंद्र सरकार ने पिछले वर्ष क्या किया और आने वाले वर्ष में क्या करने जा रही है । सही मायने में बजट बीते साल का वह लेखा-जोखा होता है जो अगले वर्ष का भविष्य निर्धारण करता है । सबसे बड़ी बात यह है कि पिछले वर्ष पेश किए गए बजट की घोषणाओं में सरकार कितना खरा उतरी । कठिन चुनौतियों का सामना करते हुए भी केंद्र सरकारों को आम और खास लोगों की उम्मीदों को पूरा करने की बड़ी चुनौती होती है । बजट के पिटारे से निकली तमाम योजनाएं और वादे देश की अर्थव्यवस्था पर असर डालते हैं, साथ ही यह बजट आम और खास लोगों की जिंदगी से भी जुड़ा हुआ होता है । इसीलिए हर वर्ष फरवरी में पेश किए जाने वाले बजट पर पूरे देश की निगाहें लगी होती हैं । जी हां आज 31 ...