शनिवार, दिसम्बर 4Digitalwomen.news

Tag: सर्व पितृ अमावस्या

श्राद्ध पक्ष के आखिरी दिन पितर होते हैं विदा, श्राद्ध कर दिवंगत पूर्वजों से लें आशीर्वाद
Latest News, News

श्राद्ध पक्ष के आखिरी दिन पितर होते हैं विदा, श्राद्ध कर दिवंगत पूर्वजों से लें आशीर्वाद

Sarva Pitru Amavasya 2021 आज सर्वपितृ अमावस्या है। यानी पितरों की विदाई का दिन है। श्राद्ध पक्ष में पितर 16 दिन के लिए देव लोक से धरती पर आते हैं। देव लोग जाते पितर अपने परिजनों को आशीर्वाद देकर लौटते हैं। सर्व पितृ अमावस्या के दिन उन लोगों का श्राद्ध किया जाता है, जिनके परिजनों को पितरों की देहांत तिथि ज्ञात नहीं होती है या किसी कारणवश नहीं कर पाते। कहते हैं कि इस दिन श्राद्ध करने से भोजन पितरों को स्वथा रूप में मिलता है। कहते हैं कि पितरों को अर्पित किया गया भोजन उस रूप में परिवर्तित हो जाता है, जिस रूप में उनका जन्म हुआ होता है। अगर मनुष्य योनि में हो तो अन्न रूप में उन्हें भोजन मिलता है, पशु योनि में घास के रूप में, नाग योनि में वायु रूप में और यक्ष योनि में पान के रूप में भोजन पहुंचाया जाता है। मान्यता है कि श्राद्ध कर्म करने से पितर प्रसन्न होते हैं और उनका आशीर्वाद मिलता है। अमा...
Pitru Amavasya 2020: Sarvapritr Amavasya – पितृ अमावस्या पर आओ पितरों का तर्पण कर करें विदा
Latest News, News

Pitru Amavasya 2020: Sarvapritr Amavasya – पितृ अमावस्या पर आओ पितरों का तर्पण कर करें विदा

Pitru Amavasya 2020 15 दिन तक चलने वाले श्राद्ध पक्ष का आज समापन है । आज पितृ अमावस्या है । यह श्राद्ध पक्ष का आखिरी दिन माना जाता है । श्राद्ध का आखिरी दिन इसलिए महत्वपूर्ण होता है कोई अपने पितरों या पूर्वजों का श्राद्ध-तर्पण नहीं कर पाया है उसके लिए आज आखिरी मौका होता है । आज अपने मित्रों को याद करते हुए विदाई दें । मान्यता है कि इस दिन उन लोगों का श्राद्ध करना अच्छा होता है जिनके परिजनों को अपने पितर-पूर्वजों की मृत्यु की तिथि न पता हो। इसके अलावा इस दिन उन महिलाओं का श्राद्ध करना भी लाभदायक होता है जिनकी मृत्यु अपने पति के रहते होती है, यानि वे सौभाग्यवती होकर अपने प्राण त्यागते हैं। इस दिन वो लोग भी अपने पूर्वजों का श्राद्ध कर सकते हैं, जो किसी कारण वश सही तिथि पर अपने पितरों का पिंडदान आदि न कर पाए हों। ऐसे में इस तिथि के दिन श्राद्ध के करने से पितर प्रसन्न होते हैं और अपना आशीर्...