गुरूवार, अक्टूबर 6Digitalwomen.news

Tag: मदर्स डे

Mother’s Day 2021 Special: History, Significance and Importance
DW Editorial, Latest News, News, TRENDING, Views, WOMEN

Mother’s Day 2021 Special: History, Significance and Importance

मदर्स डे विशेष: संसार बदल गया लेकिन मां का बच्चों के प्रति समर्पण और ममता आज भी नहीं बदली Mother's Day आज बात फिल्म 'राजा और रंक' के गीत के साथ शुरू होगी । यह फिल्म 1968 में आई थी। इस गाने को आनंद बक्षी ने लिखा था और संगीत लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने दिया था । गीत के बोल लता मंगेशकर जी के थे । आइए इस गाने को पहले सुना जाए फिर बात को आगे बढ़ाते हैं । तू कितनी अच्छी है, तू कितनी भोली है, प्यारी-प्यारी है ओ मां, ओ मां, ये जो दुनिया है ये बन है कांटों का तू फुलवारी है ओ मां, ओ मां तू कितनी अच्छी है। दूखन लागी है मां तेरी अंखियां मेरे लिए जागी है तू सारी-सारी रतियां मेरी निंदिया पे, अपनी निंदिया भी, तूने वारी है ओ मां, ओ मां तू कितनी अच्छी है, मां तू कितनी अच्छी है तू कितनी भोली है… अब बात आगे बढ़ाते हैं। आज बात भी मां के प्यार और ममता को लेकर होगी । सदियां बदल गई, जमाना बदल गया या कहें पिछ...
Happy Mothers Day – हैप्पी मदर्स डे
Views

Happy Mothers Day – हैप्पी मदर्स डे

हैप्पी मदर्स डे दुआओं का बरगद माँजिसकी छाँव में रहना चाहते सबमोहब्बत की वो सरहद ‘माँ’उसके जैसा हो ही नहीं सकता कोई दूजाउसकी बोली आरती,  है ख़ुद ही वो पूजापास रहूँ या दूर रहूँ, हमेशा उसकी नज़र में हूँकभी उसका सच्चा बच्चा, कभी मैं सबसे झूठा  मेरी आँखों की हलचल पढ़ ले जोमेरे हिस्से का सारा ग़म सह ले जोकई पकवान खिला कर भीकितना कम खाया है, ये कह दे जो वो जिसके लिए महँगा नहीं कोई खिलौनावो जिसकी आँचल में छिपा है ख़्वाब सलोनाथका-हारा देख मुझे वो सिरहाने तक चली आएफिर धीरे से कह दे, खाना खा लो फिर आराम से सोनाप्रेम के अनहद राग की हद ‘माँ’दुआओं का बरगद माँजिसकी छाँव में रहना चाहते सबमोहब्बत की वो सरहद ‘माँ’‘सुमन'Happy Mother's Day! By Prashant Suman ...