शनिवार, दिसम्बर 10Digitalwomen.news

DW Editorial

Workers Fear Return of Virus Lockdown as Cases Surge
कोविड 19, लॉक डाउन, COVID19, DW Editorial, Latest News

Workers Fear Return of Virus Lockdown as Cases Surge

फिर व्यापार और काम धंधे ठप हो जाने की आशंका से सहमे कामगार Digital Women अभी कुछ महीनों पहले लग रहा था कि देश एक बार फिर पटरी पर लौट रहा है । लेकिन अब दोबारा से जिंदगी थमती नजर आ रही है। पिछले साल जैसे ही एक बार फिर कामगारों में आशंका बढ़ गई है कि इस बार भी व्यापार, काम-धंधे, प्राइवेट नौकरियों पर असर पड़ सकता है । बता दें कि यही हालात रहे तो एक बार फिर मजदूरों के पलायन करने से पावरलूम इंडस्ट्री सहित उससे जुड़े साइजिंग, डाइंग कंपनियों के अलावा मोती कारखाना एवं गोदामों के कामकाज, कंस्ट्रक्शन के काम भी प्रभावित होने के आसार बन रहे हैं । इसके अलावा कई राज्यों में भी सख्त प्रतिबंध लगा दिए गए हैं । लॉकडाउन के बाद अधिकतर मजदूर अपने परिवार को अपने गांव ही छोड़कर आए थे। वहीं, कोरोना के बढ़ते मामलों से बचाव के लिए कई राज्य बाहर से आने वालों पर तरह-तरह की पाबंदियां लगाने का एलान कर रहे हैं । इस...
COVID Second Wave: Night Curfews, Local Curbs and Rising COVID Cases spur another fleeing of migrants workers
कोविड 19, लॉक डाउन, COVID19, DW Editorial, Latest News

COVID Second Wave: Night Curfews, Local Curbs and Rising COVID Cases spur another fleeing of migrants workers

पिछले साल जैसा ही एक बार फिर शुरू हुआ पलायन, अपने गृह राज्य लौटने लगे प्रवासी Digital Women अब एक बार फिर सब कुछ वैसा ही शुरू हो गया है, जो देशवासियों ने पिछले साल 2020 में देखा था, वही हालात बनने लगे हैं । यानी जिंदगी बचाने की जद्दोजहद शुरू हो चुकी है । कोरोना महामारी ने देशवासियों के होश उड़ा दिए हैं । देश में फिर पलायन शुरू हो गया है । यानी प्रवासी कामगार अपने गृह राज्य की ओर लौटने लगे हैं । जो खबरें आ रही हैं वह इशारा कर रही हैं कि हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं । रोजी-रोटी की तलाश में गए मजदूर अपने-अपने सामान बांध कर घरों की ओर निकल पड़े हैं । पहले जैसे ही इन कामगारों की आंखों में दहशत और चेहरों पर उदासी छाई हुई है । इसका सबसे बड़ा कारण यह है आज कई राज्यों में कोरोना की दूसरी लहर के बीच फिर से लॉकडाउन के संकेत मिल रहे हैं। राजधानी दिल्ली में 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू की घोषणा...
World Health Day 2021: Be healthy, be safe…
कोविड 19, COVID19, DW Editorial, Latest News

World Health Day 2021: Be healthy, be safe…

वर्ल्ड हेल्थ डे विशेष: स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही न दिखाएं, महामारी के दौर में तंदुरुस्त रहें और दूसरों को भी रखें हेल्थ इज वेल्थ ।‌ स्वास्थ्य सबसे बड़ा धन है । अगर आपका स्वास्थ्य दुरुस्त है तो सभी कामों में मन लगेगा। अस्वस्थ मनुष्य हर समय चिंतित नजर आता है । आज हमारी स्टोरी सेहत पर ही आधारित है । पिछले एक वर्ष से देश ही नहीं बल्कि विश्व कोरोना वायरस की गिरफ्त में है । ऐसे में सबसे जरूरी हो जाता है अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत और जागरूक रहें । आज 7 अप्रैल है इस तारीख को पूरे दुनिया भर में विश्व स्वास्थ्य दिवस (वर्ल्ड हेल्थ डे) मनाया जाता है। जिस प्रकार से साल 2020 से लेकर अब तक कोविड-19 ने लोगों की सेहत पर बुरा प्रभाव डाला है । इस महामारी से लड़ने के लिए आपको अपनी प्रतिरोधक क्षमता (इम्युनिटी) के साथ अपने शरीर को भी मजबूत बनाना होगा । इस खतरनाक वायरस का वही लोग डटकर मुकाबला कर रहे ...
BJP’s 41st foundation day Special –
DW Editorial, Latest News

BJP’s 41st foundation day Special –

भगवा एजेंडा-राम मंदिर मुद्दे और राष्ट्रवाद की 'राज नीति' से सत्ता के शिखर पर पहुंची भाजपा आज 6 अप्रैल है । इस तारीख को भारतीय जनता पार्टी का जन्म हुआ था । आज बीजेपी को लेकर चर्चा करेंगे । इस राजनीतिक दल की शुरुआत कैसे हुई, किन के द्वारा और अब कहां पर विराजमान है, आदि मुद्दों पर विस्तार से जानेंगे । जब इस पार्टी की नींव रखी जा रही थी तब सोचा नहीं होगा कि आने वाले समय में यह देश ही नहीं बल्कि दुनिया का सबसे बड़ा राजनीतिक दल बन जाएगा । आज भाजपा 41 साल की हो गई है । इस पार्टी का इतिहास और विचारधारा जानने के लिए चार दशक पीछे लिए चलते हैं । यहां हम आपको बता दें कि 6 अप्रैल 1980 को भारतीय जनता पार्टी की स्थापना की गई थी। तब इस पार्टी के लिए सत्ता पाना बहुत ही मुश्किल कार्य था। उस समय देश में 'कांग्रेस का एकछत्र राज' हुआ करता था। लेकिन भाजपा ने धीरे-धीरे देश में अपना विस्तार शुरू कर दिया ।...
Assembly Elections 2021: Campaigning ends in Kerala, Assam, Tamil Nadu and Puducherry polling on 6 April
DW Editorial, Latest News

Assembly Elections 2021: Campaigning ends in Kerala, Assam, Tamil Nadu and Puducherry polling on 6 April

चारों राज्यों में प्रचार की हुई छुट्टी, बंगाल के आठ चरण केंद्र-चुनाव आयोग की बने गले की फांस असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में चुनाव प्रचार आज खत्म हो गया, इसी के साथ चुनावी जनसभाओं पर भी विराम लग गया । यानी कि इन राज्यों में अब सार्वजनिक मंचों से नेताओं की हुंकार सुनाई नहीं देगी और न एक स्थान पर हजारों, लाखों की संख्या में भीड़ भी मौजूद नजर नहीं आएगी । बता दें कि तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में एक ही चरण में 6 अप्रैल, मंगलवार को वोट डाले जाएंगे । ऐसे ही असाम में भी तीन चरण में मतदान 6 अप्रैल को समाप्त हो जाएंगे । असम में पहले दो चरण 27 मार्च और 1 अप्रैल को वोट डाले गए थे । लेकिन पश्चिम बंगाल में राजनीतिक दलों के नेताओं के भाषण और लोगों की भीड़ 27 अप्रैल तक चलने वाली है, क्योंकि इस राज्य में आठ चरणों में चुनाव आयोजित किए जा रहे हैं। आज हम चर्चा करेंगे मौजूदा समय में देश कोरोना महा...
West Bengal polls: ‘नंदीग्राम’ से निकलेगा बंगाल में सत्ता का रास्ता, भाजपा-टीएमसी की साख भी लगी दांव पर
DW Editorial, Latest News

West Bengal polls: ‘नंदीग्राम’ से निकलेगा बंगाल में सत्ता का रास्ता, भाजपा-टीएमसी की साख भी लगी दांव पर

एक अप्रैल गुरुवार को होने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा के दूसरे चरण के मतदान के लिए आज चुनाव प्रचार खत्म हो गया । प्रचार के आखिरी दिन मंगलवार को भाजपा-तृणमूल कांग्रेस के लिए नंदीग्राम विधानसभा देशभर की सुर्खियों में रहा । भाजपा हाईकमान का भी इस सीट पर शुरू से ही सबसे अधिक फोकस रहा है । दोनों पार्टियों को लग रहा है कि 'नंदीग्राम से ही बंगाल में सत्ता का रास्ता निकलेगा' । इस सीट को जीतने के लिए भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच जबरदस्त 'महासंग्राम' मचा हुआ है । प्रचार खत्म होने के आखिरी दिन बीजेपी और टीएमसी ताबड़तोड़ रोड शो और जनसभा कर जीत के दावे करते रहे। गृहमंत्री अमित शाह ने नंदीग्राम से भाजपा उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी के साथ रोड शो किया, तो दूसरी ओर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी यहां के व्हीलचेयर पर बैठकर पदयात्रा कर लोगों से भाजपा को हराने और तृणमूल कांग्रेस को जिताने की अपील की । गृहमंत...
Congress, BJP Spar Over PM Modi’s Remark in Bangladesh
DW Editorial, Latest News

Congress, BJP Spar Over PM Modi’s Remark in Bangladesh

"I must have been 20-22 years old when I and my colleagues did satyagraha for Bangladesh's freedom," PM Modi बांग्लादेश की आजादी के लिए पीएम मोदी का 'सत्याग्रह-गिरफ्तारी' कांग्रेस को नहीं हुई हजम आज बंगाल और असम में विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान हो रहे हैं । यानी इन दोनों राज्यों की जनता ने अपनी-अपनी सरकार चुनने के लिए कमर कस ली है । बंगाल में तो भाजपा और कांग्रेस के बीच सत्ता के सिंहासन को लेकर आज पहल परीक्षा है । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बांग्लादेश से और गृहमंत्री अमित शाह लोगों से अधिक से अधिक वोट डालने की अपील कर रहे हैं । दूसरी ओर तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने भी बंगाल की जनता से बढ़-चढ़कर मतदान में भाग लेने की अपील की है । इन दोनों राज्यों में शाम तक वोटिंग जारी रहेगी, जब तक कुछ और चर्चा कर ली जाए । पीएम मोदी दो दिवसीय दौरे पर शुक्रवार से बांग्लादेश में है...
50 years of Bangladesh’s independence, The crowning glory of India-Bangladesh friendship
DW Editorial, Latest News

50 years of Bangladesh’s independence, The crowning glory of India-Bangladesh friendship

बांग्लादेश की जश्न-ए-आजादी के 50 साल पर भारत आज भी मजबूत 'दोस्ती' के साथ खड़ा विदेश की धरती पर जाने के लिए 16 महीनों का लंबा इंतजार । कोरोना की बंदिशों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कई विदेशी दौरे रद करने पड़े । आखिरी बार पीएम मोदी नवंबर 2019 में ब्राजील गए थे । अपने कई विदेशी दौरे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विपक्ष के निशाने पर भी रहे । आखिरकार पीएम मोदी 2 दिन 26 और 27 मार्च को देश से दूर रहेंगे । प्रधानमंत्री आज दिल्ली से 1450 किलोमीटर दूर बांग्लादेश रवाना हुए । पीएम बांग्लादेश में ऐसे समय जा रहे हैं जब एक बार फिर कोविड-19 की रफ्तार तेज होती जा रही हैं । यहां हम आपको बता दें प्रधानमंत्री की बांग्लादेश यात्रा कूटनीतिक की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण मानी जा रही है । इसके साथ राजनीतिक मायने भी निकाले जा रहे हैं । बात को आगे बढ़ाने से पहले बता दे कि आज भारत का पड़ोसी 'बांग्ल...
शरद पवार गृहमंत्री अनिल देशमुख को बचा रहे हैं या अपने आप को
DW Editorial, Latest News, News, Politics

शरद पवार गृहमंत्री अनिल देशमुख को बचा रहे हैं या अपने आप को

यह मेरा आदमी है, गलत हो ही नहीं सकता है। इसे मैंने शिवसेना और कांग्रेस से लड़ झगड़ कर महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार में गृहमंत्री बनाया था। इस पर उंगली उठाने का मतलब हुआ कि मेरे पर उंगली उठाना । किसी भी मामले में अगर इसकी कुर्सी गई तो समझ लो मेरे राजनीतिक करियर में भी दाग लग जाएंगे । फिलहाल मैं यह नहीं चाहता हूं, क्योंकि मुझे अभी केंद्र की राजनीति में एक कद्दावर नेता के रूप में खड़ा होना है । ऐसा ही कुछ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सुप्रीमो शरद पवार महाराष्ट्र से लेकर दिल्ली तक संदेश देने की कोशिश करने में लगे हुए हैं । जी हां आज बात एक बार फिर 'एंटीलिया केस' में महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर लगे गंभीर आरोपों को लेकर होगी । 'मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के लगाए गए आरोपों के बाद अब शरद पवर अपने चहेते महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख को बचाने के लिए पूरी ताकत...
One year of lockdown: Learning From Pandemic
कोविड 19, लॉक डाउन, COVID19, DW Editorial, Latest News

One year of lockdown: Learning From Pandemic

महामारी को हराने के लिए आइए एक बार फिर समझदारी दिखाएं और स्वयं लें सख्त फैसले (जनता कर्फ्यू के एक वर्ष) अजीब महामारी है ! न हम समझ सके न तुम । कोई नहीं जानता यह संकटकाल हमें कहां ले जाएगा और कितने दिनों तक। जब-जब आगे बढ़ने की कोशिश करते हैं तब कदम फिर रुक जाते हैं। आज 22 मार्च है । यह तारीख देशवासी कभी नहीं भूल पाएंगे । आज बात भी कोरोना महामारी को लेकर होगी । वर्ष 2020 के मार्च महीने में कोविड-19 की शुरुआत जब देश में हो रही थी तब किसी ने सोचा नहीं था कि जिंदगी इतनी 'खौफनाक' हो जाएगी और कितने दिनों तक हमें 'डर के साए' में जीना पड़ेगा। इस महामारी ने लाखों-करोड़ों परिवारों पर ऐसा कहर ढाया कि अभी भी लोग 'सदमे' से उभर नहीं पाए हैं । सही मायने में कोरोना ने देशवासियों की जिंदगी ही पटरी से उतार दी, जो अभी तक पूरी तरह संभल नहीं पाई है । अब बात को आगे बढ़ाते हैं। पिछले वर्ष 19 मार्च दिन ...