रविवार, अक्टूबर 2Digitalwomen.news

DW Editorial

International Women’s Day 2021 – ‘Every day is Women’s Day’
DW Editorial, Latest News

International Women’s Day 2021 – ‘Every day is Women’s Day’

हर दिन ख़ास हो महिलाओं के लिए: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस अपने अस्तित्व के लिए समाज में लंबे समय से प्रयासरत महिलाएं आज 21वीं सदी में पुरुष से हर कदम से कदम मिलाकर चलती नजर आती हैं। नारी चाहे एक माँ की भूमिका में हो,या फिर किसी देश या राज्य के नेतृत्व की उसने अपनी काबिलियत से सबको लोहा मनवाया है। आज पूरी दुनिया आठ मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाती है। एक समय जहां भारत में महिलाओं को बोलने तक की आजादी नही थी वहीं आज इक्कीसवीं सदी की स्त्री ने स्वयं की शक्ति को पहचान लिया है और काफी हद तक अपने अधिकारों के लिए लड़ना सीख लिया है। आज महिलाओं ने साबित कर लिया है वह हर क्षेत्र में अपना नाम बनाने में सक्षम हैं, और इससे कोई भी क्षेत्र अछूता नहीं है। चाहे हम बात करें आकाश की या जमीन की महिलाओं ने हर क्षेत्र में एक बेहतर मुकाम हासिल किया है। आखिर क्यों 8 मार्च को मनाया जाता ह...
दक्षिण में राहुल गांधी के नए सियासी ठिकाने पर भाजपा भी सजाने लगी अपनी चुनावी फील्डिंग
DW Editorial, Latest News

दक्षिण में राहुल गांधी के नए सियासी ठिकाने पर भाजपा भी सजाने लगी अपनी चुनावी फील्डिंग

कांग्रेस पार्टी को उत्तर भारत ने जब-जब निराश किया तो दक्षिण भारत ने उसकी भरपाई कर दी । दक्षिण के राज्यों में कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी मुख्य रूप से आते हैं । इंदिरा गांधी और सोनिया गांधी ने अपनी राजनीति पारी की शुरुआत ही दक्षिण भारत से की थी । वर्ष 1978 में इंदिरा गांधी ने कर्नाटक के चिकमगलूर से लोकसभा का चुनाव लड़ा और जीत हासिल की । उसके बाद सोनिया गांधी ने कर्नाटक के ही बेल्लारी से 1998 में चुनाव लड़ा और सुषमा स्वराज को हराया । राहुल गांधी को जब उत्तर प्रदेश के अमेठी ने निराश किया तब वो केरल के वायनाड से वर्ष 2019 में लोकसभा चुनाव लड़े और जीते । अब एक बार फिर राहुल गांधी भी दक्षिण को अपना नया सियासी ठिकाना बनाना चाहते हैं । दो महीने से लगातार उनके केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी के तूफानी दौरे संकेत देने लगे हैं कि अब राहुल गांधी को दक्षिण की सियासत खूब फल-फूल रही...
अच्छा होता पीएम पिछली सरकारों को दोष देने की बजाय पेट्रोल की कीमतें कम करने का रास्ता तलाशते !
DW Editorial, Latest News, News, Views

अच्छा होता पीएम पिछली सरकारों को दोष देने की बजाय पेट्रोल की कीमतें कम करने का रास्ता तलाशते !

कई दिनों से देश में पेट्रोल-डीजल के दामों में बेतहाशा वृद्धि हो रही है । पेट्रोल के दाम कई राज्यों में 100 रुपए लीटर पार कर गए हैं । ऐसे ही डीजल के दामों में वृद्धि होती चली जा रही है‌ । गुरुवार को भी लगातार दसवें दिन पेट्रोल-डीजल के दामों में वृद्धि जारी रही । राजस्थान, महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश में पेट्रोल सेंचुरी पार कर गया है। ईंधन के दाम लगातार बढ़ने से आम और खास सभी की जेबों पर बुरा असर पड़ रहा है । ‌देशवासी कई दिनों से केंद्र की मोदी सरकार की ओर टकटकी लगाए बैठे थे कि सरकार पेट्रोल और डीजल के दामों में कुछ काम करने के उपाय सोचेगी ? लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पुराना सियासी हथकंडा देकर अपना पल्ला झाड़ते दिखे । 'पीएम मोदी ने कहा कि मौजूदा समय में जो पेट्रोल और डीजल के दामों में वृद्धि हो रही है वह पिछली सरकारों की ही देन है' । प्रधानमंत्री कहा कि पिछली सरकारों ने देश के ऊर्जा आ...