रविवार, अक्टूबर 2Digitalwomen.news

DW Editorial

53 साल पहले आज के दिन अमेरिका में रुपए निकालने वाली ‘एटीएम’ की शुरुआत हुई थी
DW Editorial, Latest News

53 साल पहले आज के दिन अमेरिका में रुपए निकालने वाली ‘एटीएम’ की शुरुआत हुई थी

The World's First ATM - 53 Years of Financial Technology Innovation and Counting JOIN OUR WHATSAPP GROUP आज पूरे दुनिया भर में सभी छोटे बड़े शहरों में आपको एटीएम मशीन दिखाई पड़ जाएगी। इस एटीएम मशीन की 53 साल पहले आज के दिन 2 सितंबर 1969 में अमेरिका में शुरुआत हुई थी। ‌यह ATM न्यूयॉर्क के रॉकविल सेंटर में लगाया गया था। केमिकल बैंक का यह ATM इतना सफल हुआ कि इसे बनाने वाली कंपनी डॉक्यूटेल ने अगले 5 साल में 70% ATM मार्केट पर कब्जा कर लिया था। इस ATM को डोन वेत्जेल ने बनाया था। इस मशीन में उपभोक्ताओं को सिर्फ कैश मिलता था, बिल या रशीद की शुरुआत नहीं हुई थी। इस मशीन की शुरुआत से पहले केमिकल बैंक ने विज्ञापन दिया था कि 2 सितंबर को हमारा बैंक 9 बजे खुलेगा और कभी बंद नहीं होगा। केमिकल बैंक के इस ATM मशीन को डॉक्यूलेटर का नाम दिया गया था। हालांकि शुरुआत में इससे सिर्फ पैसे निकलते थे। बाद म...
गणेश चतुर्थी: शुभ और विशेष योग के साथ गणेशोत्सव शुरू, घरों और पंडालों में सजाए गए गणपति
DW Editorial, Latest News, Other States, States, TRENDING

गणेश चतुर्थी: शुभ और विशेष योग के साथ गणेशोत्सव शुरू, घरों और पंडालों में सजाए गए गणपति

Ganesh Chaturthi 2022: Subh Muhurat, History, Importance and Significance JOIN OUR WHATSAPP GROUP आज बात शुरू करेंगे गणेश मंत्र से। वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ आज गणेश चतुर्थी से भगवान गणपति उत्सव भी शुरू हो गया है। 10 दिनों तक गणेश उत्सव भक्ति भाव और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। ‌‌हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि और स्वाति नक्षत्र में दोपहर के समय भगवान गणपति का जन्म हुआ था। इस कारण से हर वर्ष गणेश जन्मोत्सव का त्योहार उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस बार गणेशोत्सव की शुरुआत बहुत ही शुभ और विशेष योग में हो रही है। बुधवार से गणेश उत्सव प्रारंभ है और बुधवार का दिन भगवान गणेश की पूजा-अर्चना के लिए विशेष महत्व रखता है। बुधवार के देवता भगवान गणेश जी को माना गया है और इस दिन के ऊपर बुध ग्रह का स्वामित्व ...
National Sports Day 2022: Remembering The Wizard of Hockey “Major Dhyan Chand”
DW Editorial, Latest News

National Sports Day 2022: Remembering The Wizard of Hockey “Major Dhyan Chand”

देश में हॉकी के 'स्वर्णिम युग' की शुरुआत करने वाले मेजर ध्यानचंद का जादू दुनिया भर में छाया National Sports Day 2022: Remembering The Wizard of Hockey "Major Dhyan Chand" खिलाड़ियों के लिए आज खेल का सबसे बड़ा 'त्योहार' है। इसके साथ आज उन देशवासियों के लिए बहुत ही खास दिन है जो किसी न किसी खेल से जुड़े रहे हैं। आज 29 अगस्त को पूरे देश में 'राष्ट्रीय खेल दिवस' के रूप में मनाया जाता है। इस मौके पर खेल के साथ उस महान खिलाड़ी की भी चर्चा होगी जिन्होंने अपने शानदार खेल की बदौलत देश में एक 'स्वर्णिम युग' भी शुरू किया था। 'देशवासी इस दिन उन खिलाड़ियों को आदर और सम्मान के साथ याद करते हैं जिन्होंने अपने शानदार खेल दिखाते हुए हमारे देश का नाम पूरे दुनिया में रोशन किया'। ऐसे होनहार भारतीय खिलाड़ियों की लिस्ट बहुत लंबी है, जिन्होंने अपने बल पर खेल के साथ देश का 'मान' बढ़ाया। लेकिन आज खेल के त्य...
खरीदारी पर सस्पेंस: गौतम अडानी की डील पर एनडीटीवी ने कहा- ‘हमें इसकी कोई जानकारी नहीं न हमारी बात हुई’
DW Editorial, Latest News, States

खरीदारी पर सस्पेंस: गौतम अडानी की डील पर एनडीटीवी ने कहा- ‘हमें इसकी कोई जानकारी नहीं न हमारी बात हुई’

Indian billionaire Adani seeks to control NDTV; media group says move without consent JOIN OUR WHATSAPP GROUP मंगलवार शाम 6 बजे के बाद मीडिया और सोशल मीडिया में बहुत तेज हल्ला हुआ, 'न्यूज चैनल एनडीटीवी बिक-गया, बिक-गया, अडानी ग्रुप के चेयरमैन और एशिया के सबसे रईस बिजनेसमैन गौतम अडानी ने एनडीटीवी को अधिग्रहण कर लिया है'। इसके साथ मीडिया जगत में भी गौतम अडानी के एनडीटीवी खरीदने को लेकर होने जा रही डील पर भी तमाम प्रकार की बातें शुरू हो गई। सोशल मीडिया पर हजारों यूजर्स ने एनडीटीवी को लेकर अपनी अपनी प्रतिक्रिया देना शुरू कर दिया। यह पूरा घटनाक्रम एनडीटीवी मीडिया समूह 3 घंटे तक देखता रहा। उसके बाद मंगलवार रात अडानी के संभावित सौदे को लेकर न्यूज चैनल एनडीटीवी ने खुद खबर लिखी। ‌‌इस खबर के मुताबिक अडानी समूह की ओर से इस डील के लिए एनडीटीवी और उसके फाउंडर-प्रमोटर्स से कोई न चर्चा की गई और ...
इंटरनेशनल रेड क्रॉस सोसाइटी की 158 साल पहले आज के दिन आधिकारिक रूप से स्थापना हुई थी
DW Editorial, Latest News

इंटरनेशनल रेड क्रॉस सोसाइटी की 158 साल पहले आज के दिन आधिकारिक रूप से स्थापना हुई थी

158 years of IRCS, The International Red Cross Society was officially founded on 22nd August 1968 JOIN OUR WHATSAPP GROUP दुनिया में फैली इंटरनेशनल रेड क्रॉस सोसाइटी की 158 साल पहले आज के दिन नींव रखी गई थी। 22 अगस्त 1864 को ही इंटरनेशनल रेड क्रॉस सोसायटी की आधिकारिक स्थापना हुई। हेनरी डुनेंट स्विट्जरलैंड के थे इसलिए उनके सम्मान में रेड क्रॉस सोसायटी के झंडे को स्विट्जरलैंड के झंडे के रंग को उलटकर बनाया गया। स्विट्जरलैंड के झंडे में लाल बैकग्राउंड पर सफेद रंग का क्रॉस है। रेड क्रॉस के झंडे को सफेद बैकग्राउंड पर लाल रंग के क्रॉस से बनाया गया। इसका हेडक्वार्टर जिनेवा स्विट्जरलैंड में स्थित है और इसके द्वारा अलग-अलग देशों के सरकारों के बीच कोऑर्डिनेट किया जाता है । किसी भी युद्ध ,बीमारी और आपदा के समय ये संस्था लोगों की सहायता करती है। 19वीं सदी के शुरुआती 70 साल, ये वो दौर था जब पू...
Happy Independence Day 2022: लाल किले से पीएम मोदी ने अपने संबोधन के दौरान इन मुख्य विषयों पर दिया विशेष जोर
DW Editorial, Latest News, States, TRENDING

Happy Independence Day 2022: लाल किले से पीएम मोदी ने अपने संबोधन के दौरान इन मुख्य विषयों पर दिया विशेष जोर

Happy Independence Day 2022: Key Points of PM Modi's speech at Red Fort JOIN OUR WHATSAPP GROUP पूरा देश 75वें स्वतंत्रता दिवस के पूरे होने का जश्न मना रहा है। इस खास मौके पर पीएम ने लाल किले की प्राचीर पर लगातार 9वीं बार तिरंगा फहराया।इससे पहले प्रधानमंत्री ने राजघाट पहुंचकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दी। इस बार लाल किले का नजारा अलग दिखाई दिया। पीएम मोदी ने 82 मिनट तक लोगों को संबोधित किया। इस दौरान उन्हें 21 तोपों की सलामी भी दी गई। प्रधानमंत्री ने लाल किले की प्राचीर से अपने भाषण में कई बातों का उल्लेख किया। अपने भाषण में उन्होंने देश के सामने 5 संकल्प रखे। भ्रष्टाचार, परिवारवाद, भाषा और लोकतंत्र का जिक्र किया। महात्मा गांधी, पंडित जवाहर लाल नेहरू, वीर सावरकर को यादकर नमन किय...
128 साल पहले हुआ था शुरू: दुनिया में प्रसिद्ध ‘टैल्क बेबी पाउडर’ को कंपनी पूरी तरह से करेगी बंद, यह है इसकी वजह
DW Editorial, Latest News

128 साल पहले हुआ था शुरू: दुनिया में प्रसिद्ध ‘टैल्क बेबी पाउडर’ को कंपनी पूरी तरह से करेगी बंद, यह है इसकी वजह

Johnson & Johnson will stop selling talc-based baby powder globally in 2023 JOIN OUR WHATSAPP GROUP दुनिया भर में बच्चों के लिए प्रसिद्ध जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी का टैल्कम बेबी पाउडर अगले साल 2023 तक पूरी तरह बंद हो जाएगा। बता दें कि यह बेबी पाउडर भारत में भी बच्चों के लगाने में नंबर-1 माना जाता था। यह एक ऐसा पाउडर रहा है जो दुकानों और केमिस्ट स्टोरों पर नाम से ही बिकता था। लेकिन पिछले कुछ समय से देश में भी इस बेबी पाउडर की बिक्री में गिरावट आई है। इसकी वजह है कि कुछ वर्षों से पाउडर को बनाने वाली कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन दुनिया भर में इसके खिलाफ चल रहे मुकदमों से परेशान हैं। कंपनी का कहना है कि वह कानूनी लड़ाई से ऊब चुकी है। बता दें कि कंपनी का पाउडर अमेरिका और कनाडा में सालभर पहले ही बंद हो चुका है। दरअसल आरोप लगाया गया था कि इस बेबी पाउडर से कैंसर होता है और इसके बाद कंपनी के खिला...
India has completed 80 years on ‘Quit India Movement’ on August 8, 2022
DW Editorial, Latest News

India has completed 80 years on ‘Quit India Movement’ on August 8, 2022

देश को आजादी दिलाने और अंग्रेजों को भगाने में 'भारत छोड़ो आंदोलन' ने जगाई थी अलख India has completed 80 years on 'Quit India Movement' on August 8, 2022 JOIN OUR WHATSAPP GROUP देश की आजादी को लेकर आज बहुत ही ऐतिहासिक दिन है। भारत जब अंग्रेजों से गुलामी में जकड़ा हुआ था उस दौरान स्वतंत्रता सेनानियों और क्रांतिकारियों ने अंग्रेजों को देश से भगाने के लिए कई आंदोलनों का सहारा लिया, जिसमें कुछ उग्र भी आंदोलन किए गए थे। इसके बावजूद अंग्रेजों पर कोई खास असर नहीं हुआ। उसके बाद 8 अगस्त साल 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन से देश को आजादी की नई राह मिल गई थी। अंग्रेजों की गुलामी से आजाद कराने के लिए महात्मा गांधी ने भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत की गई थी। इससे पहले ब्रिटेन ने बिना किसी सलाह के भारत को दूसरे विश्व युद्ध में झोंक दिया था। इससे कांग्रेस और ब्रिटिश सरकार के बीच टकराव हो गया। इसे खत...
Hiroshima Day|तबाही के 77 साल: दुनिया ने आज के दिन पहली बार ‘एटम बम’ का देखा खौफनाक मंजर, हिरोशिमा हो गया था खाक
DW Editorial, Latest News

Hiroshima Day|तबाही के 77 साल: दुनिया ने आज के दिन पहली बार ‘एटम बम’ का देखा खौफनाक मंजर, हिरोशिमा हो गया था खाक

Hiroshima Day: 77 years of devastation: The world saw the dreadful sight of 'Atom Bomb' for the first time on this day JOIN OUR WHATSAPP GROUP आज ऐसी तारीख है जिसे 77 साल बाद भी दुनिया भुला नहीं पाई है। खास तौर पर जापान के लोग आज भी उस घटना को याद कर सहम जाते हैं। अभी भी जापान में खौफनाक मंजर के घाव भरे नहीं है। इसकी चर्चा हम बाद में करेंगे पहले आइए जान लेते हैं करीब 8 महीने पहले रूस और यूक्रेन के बीच शुरू हुए युद्ध ने पूरी दुनिया में उथल-पुथल मचा दी थी। यूक्रेन के साथ युद्ध में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने 'परमाणु बम' से हमले करने की भी धमकी दे दी थी। जिसके बाद विश्व के कई देशों में बेचैनी बढ़ गई । हालांकि दोनों देशों के बीच अभी भी मिसाइलों और बंदूकों की गरज सुनाई दे रही है। इस बीच दुनिया अभी रूस और यूक्रेन के बीच भीषण युद्ध से उभर भी नहीं पाई थी कि अब एशिया के दो देशों क...
यह यात्रा भले ही महंगी लेकिन रोमांच से भरी है, जैफ बेजॉस ने दुनिया को “स्पेस टूर” कराना शुरू किया, आपको देने होंगे एक टिकट के इतने रुपये
DW Editorial, Latest News

यह यात्रा भले ही महंगी लेकिन रोमांच से भरी है, जैफ बेजॉस ने दुनिया को “स्पेस टूर” कराना शुरू किया, आपको देने होंगे एक टिकट के इतने रुपये

Blue Origin makes its sixth flight, how much does space tourism cost JOIN OUR WHATSAPP GROUP यह यात्रा भले ही महंगी लेकिन रोमांच से भरी है, जैफ बेजॉस ने दुनिया को "स्पेस टूर" कराना शुरू किया, आपको देने होंगे एक टिकट के इतने रुपये --शंभू नाथ गौतम आज हम चर्चा करेंगे एक "महंगी खबर" की । यह उन लोगों के लिए है, जिनके पास अनाप-शनाप या अपार दौलत है। एक ऐसी यात्रा जो अलग अनुभव के साथ रोमांच से भरी हुई है। ‌देशवासी ही नहीं बल्कि दुनिया के तमाम "रिचमैन" इस यात्रा पर जाने के लिए सपना पाले हुए हैं। उनका यह ड्रीम पूरा हो जाएगा। हालांकि "आकाशीय जर्नी" अभी आम लोगों से दूर है। लेकिन आने वाले समय में साधारण नागरिकों के लिए भी उम्मीद जाग गई है। ‌ हम बात कर रहे हैं आज "स्पेस टूर" की। पिछले काफी समय से अमेजन के फाउंडर जैफ बेजॉस दुनिया को स्पेस की यात्रा कराने के लिए प्लानिंग कर रहे थे। पिछले मह...