Fri, September 22, 2023

DW Samachar logo

मोदी सरकार के खिलाफ विपक्षी नेताओं का बेंगलुरु में जमावड़ा शुरू, कल विपक्ष और भाजपा साल 2024 के लिए ‘नए साथियों’ के साथ दिखाएंगे ताकत

Opposition Meeting in Bengaluru
Opposition Meeting in Bengaluru
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

देश में राजनीति की दृष्टि से 2 दिन आज और कल (17 18 जुलाई) को सत्ता पक्ष भाजपा (एनडीए) और विपक्ष के लिए काफी महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं। सबसे खास बात यह है कि विपक्षी पार्टियां कर्नाटक की राजधानी बंगलुरु में साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए आज और कल महाबैठक करने जा रही है। वहीं दूसरी ओर भाजपा अपने सहयोगी एनडीए दलों के साथ राजधानी दिल्ली में लोकसभा चुनाव को लेकर महाबैठक करेगी। पक्ष और विपक्ष की इस बैठक को लेकर राजधानी दिल्ली से लेकर बेंगलुरु तक सियासी पारा गरमाया हुआ है। विपक्ष को एकजुट होता देख अब भाजपा ने भी आक्रामक रणनीति बनानी शुरू कर दी है। पिछले दिनों भाजपा हाईकमान की ओर से कई छोटे दलों को मंगलवार 18 जुलाई को दिल्ली में होने वाली बैठक के लिए आमंत्रित किया गया है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दलों ने भी 8 राजनीतिक दलों को बंगलुरु में आज से शुरू हो रही दो दिवसीय महाबैठक में बुलाया है। विपक्ष के साथ अब आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी आ गए हैं। बता दें कि विपक्षी दलों की दूसरी बैठक कांग्रेस के नेतृत्व में हो रही है। ये बैठक पहले शिमला में होने वाली थी, लेकिन खराब मौसम के कारण जगह बदली गई। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने 17 जुलाई को बेंगलुरु में विपक्षी दलों के लिए रात्रिभोज आयोजित किया है। विपक्ष के नेताओं की बैठक सोमवार शाम 6-8 बजे के बीच आयोजित की जाएगी। यह एक औपचारिक बैठक होगी और इसके बाद 8 बजे कर्नाटक के मुख्यमंत्री द्वारा सभी विपक्षी दलों के लिए रात्रि भोज का आयोजन किया गया है। 18 जुलाई को सभी बैठकें सुबह 11 बजे शुरू होंगी और शाम 4 बजे तक चलेंगी। कांग्रेस पार्टी से कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया और राहुल गांधी, और केसी वेणुगोपाल मौजूद रहेंगे। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और शरद पवार आज बेंगलुरु नहीं आएंगे। दोनों कल की बैठक में शामिल होंगे। पवार के साथ सुप्रिया सुले भी आएंगी। टीएमसी की ओर से अभिषेक बनर्जी रात्रिभोज में शामिल होंगे। उधर, शरद पवार आज मुंबई में अपने विधायकों से मिलने वाले हैं, लिहाजा वह भी बेंगलुरु में रात्रिभोज में शामिल नहीं होंगे। पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आने पर भी संशय बना हुआ था, लेकिन कांग्रेस ने रविवार को दिल्ली में केंद्र की तरफ से लाए गए अध्यादेश के खिलाफ आप को समर्थन देने की घोषणा कर दी। इसके बाद केजरीवाल ने मीटिंग में शामिल होने की बात कही।

एनडीए और विपक्ष ने अपनी-अपनी महाबैठक के लिए इन नए राजनीतिक दलों को किया आमंत्रित–

विपक्ष और एनडीए ने अपनी-अपनी महाबैठक के लिए नए-नए राजनीतिक दलों को आमंत्रित किया है। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्‌डा ने 18 जुलाई को दिल्ली के अशोका होटल में एनडीए की मीटिंग बुलाई है। बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। भाजपा अध्यक्ष नड्‌डा ने 15 जुलाई को बिहार से चिराग पासवान, उपेंद्र कुशवाहा, मुकेश सहनी और जीतनराम मांझी को न्योता भेजा था। इसके अलावा उन्होंने उत्तर प्रदेश से रविवार को एनडीए में शामिल हुए ओपी राजभर और आंध्र में पवन कल्याण की पार्टी जनसेना को मीटिंग में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया है। बता दें कि पिछले महीने 23 जून को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विपक्ष की बैठक पटना में बुलाई थी, जिसमें 17 राजनीतिक दल शामिल हुए थे। इस बार विपक्षी कुनबे को और मजबूत करने के लिए 8 और दलों को न्योता भेजा गया है।विपक्ष की पटना में हुई पहली बैठक में जनता दल यूनाइटेड, राष्ट्रीय जनता दल, आम आदमी पार्टी, द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम, तृणमूल कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया मार्क्सिस्ट, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी, नेशनल कॉन्फ्रेंस, कांग्रेस, शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट), सपा, झारखंड मुक्ति मोर्चा, एनसीपी शामिल हुए थे। वहीं इस बार विपक्षी कुनबे को और मजबूत करने के लिए 8 और दलों को न्योता भेजा गया है। इनमें मरूमलारची द्रविड़ मुनेत्र कड़गम , कोंगु देसा मक्कल काची, विदुथलाई चिरुथिगल काची, रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी, ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग, केरल कांग्रेस (जोसेफ) और केरल कांग्रेस (मणि) ने हामी भरी है। इन नई पार्टियों में से केडीएमके और एमडीएमके 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा के साथ थीं।
इस प्रकार बेंगलुरु में आज और कल विपक्ष की होने वाली बैठक में करीब 25 से 26 पार्टियां दिखाई देंगी। वहीं विपक्ष की इस बैठक से तेलंगाना मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव, आंध्र प्रदेश के सीएम जगन मोहन रेड्‌डी, आंध्र के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने दूरी बना रखी है।

2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर बेंगलुरु में आयोजित विपक्ष इन मुद्दों पर करेगा चर्चा

विपक्ष की बैठक का मकसद मौजूदा मोदी सरकार के खिलाफ 2024 के आम चुनाव से पहले विपक्षी दलों को एक मंच पर लाने की कोशिश है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का कहना है कि अभी सभी पार्टियों को एकजुट करने की कोशिश की जा रही है। विपक्ष में प्रधानमंत्री का चेहरा कौन होगा? इस पर चर्चा नहीं की जाएगी। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी टॉप अपोजिशन लीडर्स को अगली बैठक में शामिल होने के लिए न्योता भेजा था। उन्होंने चिट्ठी में लिखा था कि विपक्षी एकता को लेकर चर्चाओं को जारी रखना है।
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, बैठक में उन सामान्य मुद्दों पर चर्चा होने की संभावना है, जिन्हें हासिल किया जा सकता है। पार्टियों को भविष्य में क्या करने की आवश्यकता है?
वर्तमान राजनीतिक स्थिति का आकलन करना। आकलन के बाद आगामी संसद सत्र के लिए रणनीति बनाएं।2024 के आम चुनावों के लिए कॉमन मिनिमम प्रोग्राम की ड्रॉफ्टिंग और गठबंधन के लिए जरूरी कम्यूनिकेशन पॉइंट्स तैयार करने के लिए एक सब कमेटी स्थापित करना।‌ पार्टियों के सम्मेलनों, रैलियों और दो दलों के बीच विरोधाभासों को दूर करने के लिए एक सबकमेटी बनाना राज्य के आधार पर सीट साझा करने के मामले पर चर्चा करना। ईवीएम के मुद्दे पर चर्चा करना और चुनाव आयोग के लिए सुधार सुझाव देना। गठबंधन के लिए एक नाम सुझाव देना। प्रस्तावित गठबंधन के लिए एक सामान्य सचिवालय की स्थापना करना। मीटिंग से पहले कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा- विपक्ष की पहली बैठक के बाद अब एनडीए में जान फूंकने की कोशिश की जा रही हैं। अब तक एनडीए का जिक्र नहीं हुआ करता था।

विपक्ष की बैठक में कांग्रेस समेत इन राजनीतिक दलों के नेता होंगे शामिल–

बता दें कि बेंगलुरु में आज से शुरू हो रही विपक्ष की बैठक में यह नेता होंगे शामिल। कांग्रेस: सोनिया गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे, राहुल गांधी, केसी वेणुगोपाल,
टीएमसी: ममता बनर्जी, अभिषेक बनर्जी, सीपीआई: डी राजा। सीपीआईएम: सीताराम येचुरी,एनसीपी: शरद पवार, जितेंद्र आह्वाड़, सुप्रिया सुले। जदयू: नीतीश कुमार, ललन सिंह, संजय झा। डीएमके: एमके स्टालिन, टी.आर बालू, आम आदमी पार्टी: अरविंद केजरीवाल, झारखंड मुक्ति मोर्चा: हेमंत सोरेन, शिवसेना (यूबीटी): उद्धव ठाकरे, आदित्य ठाकरे, संजय राउत, आरजेडी: लालू प्रसाद यादव, तेजस्वी यादव, मनोज झा, संजय यादव। समाजवादी पार्टी: अखिलेश यादव, राम गोपाल यादव, जावेद अली खान, लाल जी वर्मा, राम अचल राजभर, आशीष यादव। जम्मू और कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस: उमर अब्दुल्ला। पीडीपी: महबूबा मुफ्ती, सीपीआई: दीपांकर भट्टाचार्य, आरएलडी: जयंत सिंह चौधरी, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग: केएम कादर मोहिदीन और पीके कुणाली कुट्टी,कांग्रेस (एम): जोश के मणि,एमडीएमके: थिरु वाइको, जी रेणुगादेवी, वीसीके: थिरु थिरुमावालवन, रवि कुमार, आरएसपी: एनके प्रेमचंद्रन, केरला कांग्रेस: पीजे जोसेफ, फ्रांसेस जॉर्ज के, केएमडीके: थिरु ई.आर ईस्वरम, एकेपी चिनराज और एआईएफबी: जी देवराजन की बैठक में शामिल होंगे।

Relates News
Breaking news live updates

Breaking news and live update: ‘राज्यसभा में महिला आरक्षण बिल पारित हुआ। बिल के पक्ष में 215 वोट पड़े जबकि किसी ने भी बिल के खिलाफ वोट नहीं डाला।
राज्यसभा में महिला आरक्षण बिल पारित हुआ। बिल के पक्ष में 215 वोट पड़े जबकि किसी ने भी बिल के खिलाफ वोट नहीं डाला।
राज्यसभा में महिला आरक्षण बिल पारित हुआ। बिल के पक्ष में 215 वोट पड़े जबकि किसी ने भी बिल के खिलाफ वोट नहीं डाला।

लेटेस्ट न्यूज़