Wed, September 27, 2023

DW Samachar logo

सीहोर में बोरवेल में फंसी बच्ची जिंदगी की जंग हार गई, रोहतास में भी पाइप में फंसे बच्चे को भी बचाया नहीं जा सका

Two-year-old girl who fell into 250-foot borewell dies
Two-year-old girl who fell into 250-foot borewell dies
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

आखिरकार एक बच्ची और एक बच्चा जिंदगी की जंग हार गए। रेस्क्यू टीम ने इन दोनों को बचाने का पूरा प्रयास किया लेकिन बचाया नहीं जा सका। एक मामला मध्यप्रदेश के सीहोर और दूसरा बिहार के रोहतास का है। मध्यप्रदेश के सीहोर के मुंगावली गांव में 300 फीट गहरे बोरवेल में गिरी बच्ची जिंदगी की जंग हार गई। 3 साल की मासूम सृष्टि को करीब 52 घंटे बाद बोरवेल से बाहर निकाला गया। रेस्क्यू टीम ने उसे रोबोटिक टेक्निक से बाहर खींचा। बच्ची कोई रिस्पॉन्स नहीं कर रही थी। उसे एंबुलेंस से सीधे जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया। बच्ची 150 फीट की गहराई पर फंसी थी। सृष्टि नाम की 3 साल की ये बच्ची मंगलवार दोपहर करीब एक बजे खेलते-खेलते खेत में बने बोर में गिर गई थी। उस वक्त वह 29 फीट गहराई पर अटक गई थी। लेकिन रेस्क्यू के दौरान हुई खुदाई के कंपन से वह नीचे खिसकती गई। मौके पर एसडीआरएफ, एनडीआरएफ और आर्मी की रेस्क्यू में जुटी थी। गुरुवार को सुबह 9 बजे दिल्ली की रोबोटिक टीम ने भी मौके पर पहुंचकर ऑपरेशन शुरू किया। दोपहर बाद तेज हवा और बारिश होने से रेस्क्यू प्रभावित भी हुआ। रोबोटिक टीम ने शाम करीब साढ़े 5 बजे बच्ची को बाहर निकाला। उसके बाद एंबुलेंस से बच्ची को सीधे अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। ‌ वहीं दूसरी ओर बिहार के रोहतास जिले में फ्लाईओवर के पिलर के बीच फंसे 11 साल के रंजन की मौत हो गई है। उसे रेस्क्यू कर अस्पताल ले जाया गया था, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बच्चे को निकालने के लिए 24 घंटे से अधिक समय तक एनडीआरएफ और स्थानीय प्रशासन की टीम ने रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया था। इसके लिए एप्रोच रोड का स्लैब बुलडोजर से तोड़ा गया और आखिरकार घंटों की कड़ी मशक्कत से बाद बच्चे को बाहर निकाल लिया गया। जानकारी के मुताबिक डॉक्टरों का कहना है कि बच्चे की मौत 8 से 10 घंटे पहले ही हो गई थी। बच्चे को यहां मृत लेकर आए थे। उधर, बच्चों की मौत के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। दरअसल, मामला नासरीगंज दाऊदनगर में स्थित सोन पुल का है। यहां 11 साल का बच्चा रंजन बुधवार सुबह से घर से गायब था। वह मानसिक रूप से विक्षिप्त है। जब बेटा घर नहीं लौटा तो उसकी तलाश की गई। इस दौरान एक महिला ने पुल के पास से रोते हुए बच्चे की आवाज सुनी। इसके बाद महिला ने परिजनों को बच्चे के बारे में जानकारी दी थी।

Relates News

लेटेस्ट न्यूज़