बुधवार, फ़रवरी 8Digitalwomen.news

Shri Sammed Shikharji: इस राज्य में स्थित है सम्मेद शिखर, जानिए जैन समाज इसे पर्यटन स्थल घोषित करने के फैसले में क्यों कर रहा विरोध

JOIN OUR WHATSAPP GROUP

कई दिनों से पूरे देश भर में जैन समाज झारखंड में स्थित तीर्थ स्थल ‘सम्मेद शिखर’ पर्यटन स्थल घोषित करने के राज्य सरकार के फैसले को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहा है। वहीं मंगलवार को सम्मेद शिखर को पर्यटन स्थल घोषित करने के फैसले के विरोध में अनशन पर बैठे जैन मुनि सुज्ञेय सागर का जयपुर में निधन हो गया। सरकार के फैसले को लेकर जयपुर में निकाले गए शांति मार्च में भाग लेने के बाद जैन मुनि शहर के सांगानेर इलाके स्थित संघीजी मंदिर में अनशन पर बैठ गए थे। उन्होंने बीते 25 दिसंबर से न कुछ खाया था और न ही कुछ पिया था। जैन मुनि सुज्ञेयसागर जी महाराज राजस्थान के ही बांसवाड़ा जिले के रहने वाले थे। बता दें कि सम्मेद शिखरजी झारखंड के पारसनाथ पहाड़ियों में एक जैन तीर्थस्थल है। राज्य सरकार ने इसे एक पर्यटक आकर्षण में बदलने का फैसला किया है, जिससे समुदाय नाराज है। देशभर में जैन समुदाय एकजुट होता जा रहा है। पिछले एक सप्ताह से झारखंड, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और दिल्ली में जैन समुदाय के लोग अपनी मांग को लेकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं। समुदाय के लोग झारखंड स्थित जैनों के पवित्र स्थल सम्मेद शिखर जी को पर्यटन स्थल घोषित करने के फैसले के खिलाफ हैं और इसे वापस लिए जाने की मांग कर रहे हैं। जैन समुदाय के लोगों का कहना है कि इसे पर्यटन स्थल बनाने से इसकी पवित्रता नष्ट हो जाएगी। इस मामले में अब उन्हें दूसरे धर्म के प्रमुख लोगों का भी साथ मिल रहा है। झारखंड के गिरिडीह जिले में एक पहाड़ी है जिसे भगवान पारसनाथ पर्वत के नाम से जाना जाता है। इस पर्वत का नाम जैन धर्म के 23वें तीर्थंकर पारसनाथ के नाम पर है। इसी पर्वत पर सम्मेद शिखर जी है, जिसे कई बार ‘शिखर जी’ भी कहा जाता है। जैन समुदाय खासतौर पर श्वेताम्बर समाज के लिए बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। मान्यता है कि जैन धर्म से 24 में से 20 तीर्थंकरों को यही पर मोक्ष प्राप्त हुआ था। दुनियाभर से हर साल हजारों जैन श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं और 27 किलोमीटर की परिक्रमा पूरी कर शिखर पर पहुंचते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: