रविवार, नवम्बर 27Digitalwomen.news

UNESCO foundation Day: United Nations Educational Scientific and Cultural Organization (UNESCO) was born on 16 November 1945

77 साल पहले आज के दिन ‘यूनेस्को’ की स्थापना हुई थी, संस्था का उद्देश्य दुनिया में शांति-सुरक्षा स्थापित करना

JOIN OUR WHATSAPP GROUP

यूनेस्को के लिए आज की तारीख की बहुत ही महत्वपूर्ण है। 77 साल पहले आज के दिन 16 नवंबर 1945 को यूनेस्को की स्थापना की गई थी। साल 1942 का समय था। दुनिया सेकंड वर्ल्ड वॉर से जूझ रही थी और दो हिस्सों में बंटी थी। एक तरफ नाजी जर्मनी और सहयोगी देश थे, जिन्हें धुरी राष्ट्र कहा जाता था। दूसरी तरफ यूरोप के अन्य देश थे, जिन्हें मित्र राष्ट्र कहा जाता था। इसी समय इंग्लैंड में मित्र राष्ट्र के सभी एजुकेशन मिनिस्टर की मीटिंग हुई। मीटिंग का नाम केम ​​​​​​​यानी कॉन्फ्रेंस ऑफ अलाइड एजुकेशन मिनिस्टर रखा गया। सभी शिक्षा व्यवस्था को सुधारने और दुनिया में शांति स्थापित करने के लिए एक तरह का संगठन बनाने पर विचार करने लगे। मीटिंग में शैक्षिक और सांस्कृतिक क्षेत्र में काम करने वाली संस्था बनाने के मसौदे पर चर्चा हुई। 16 नवंबर 1942 से दिसंबर 1945 तक केम की मीटिंग होती रही।

16 नवंबर 1945 को यूनेस्को नाम से संस्था का गठन हुआ। दूसरे विश्व युद्ध के बाद यूनेस्को में और सदस्य जुड़ते गए। 1951 में जापान और 1953 में फेडरल रिपब्लिक ऑफ जर्मनी भी इसका सदस्य बन गया। स्पेन को 1953 में सदस्यता मिली। शीत युद्ध और उपनिवेशों के खत्म होने एवं यूएसएसआर के टूटने का भी यूनेस्को पर असर पड़ा। 1954 में यूएसएसआर भी यूनेस्को का हिस्सा बन गया। 1992 में यूएसएसआर के स्थान पर रूसी फेडरेशन यूनेस्को का सदस्य बना जिसके साथ 12 पूर्व सोवियत गणराज्य भी थे। 1960 में अफ्रीका के 19 स्टेट्स ने भी सदस्यता हासिल की। बीच में कुछ देशों का यूनेस्को में आना-जाना लगा रहा लेकिन बाद में लगभग सभी देश इसमें शामिल हो गए। दक्षिण अफ्रीका 1957 से 1994 तक इससे बाहर रहा, संयुक्त राज्य अमेरिका 1985 से 2003 तक, यूनाइटेड किंगडम ऑफ ग्रेट ब्रिटेन और नॉर्दर्न आयरलैंड 1986 से 1997 तक तो सिंगापुर 1986 से लेकर 2007 तक इससे बाहर रहा। बता दें कि यूनेस्को संयुक्त राष्ट्र संघ की एक इकाई है। इसकी स्थापना का मकसद शिक्षा, संस्कृति और विज्ञान के प्रचार-प्रसार के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय शांति, सुरक्षा विकास और संबंधों को बढ़ावा देना है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: