रविवार, नवम्बर 27Digitalwomen.news

भारतीय मूल के लोगों से मिले पीएम मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन और ऋषि सुनक से मुलाकात की

JOIN OUR WHATSAPP GROUP

जी-20 शिखर सम्मेलन में शामिल होने इंडोनेशिया के बाली पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां रह रहे भारतीय मूल के लोगों से मुलाकात की। ‌इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत और इंडोनेशिया के संबंधों पर भी खुलकर चर्चा की। ‌ बाली में पीएम मोदी ने भारतीय समुदाय को संबोधित भी किया।‌‌ प्रधानमंत्री ने कहा कि इंडोनेशिया, बाली आने के बाद हर हिंदुस्तानी को एक अलग ही अनुभूति होती है, एक अलग ही एहसास होता है। मैं भी वही वाइब्रेशन महसूस कर रहा हूं, जो भारत के लोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बाली में एक अलग प्रकार का माहौल है और हमें यह माहौल अलग प्रकार की ऊर्जा देता है। इंडोनेशिया ने पंरपरा को जीवंत रखा है। आज हम बाली की पंरपरा के गीत गा रहे हैं। भारत के कटक शहर में महानदी के किनारे बाली यात्रा चल रहा है। बाली से 1500 किमी दूर ओडिशा में बाली यात्रा चल रही है। ओडिशा के लोगों का मन बाली में है। लहर की तरह इंडोनेशिया से हमारा रिश्ता है। पीएम मोदी ने कहा, ‘हम बाली में हैं और यहां से डेढ़ हजार किलोमीटर दूर कटक में बाली जात्रा (यात्रा) चल रही है। समंदर की लहरों ने दोनों देशों के नातों को जीवंत बना रखा है। भारतीय यहां के विकास में सहयात्री बने हुए हैं। उन्होंने कहा कि हमने इंडोनेशिया के कलाकार को पद्मश्री से सम्मानित किया था। तब राष्ट्रपति भवन तालियों से गूंज उठा था। वो कहते थे कि भारत की सबसे बड़ी विशेषता अतिथि देवो भव: है। इंडोनेशिया के लोगों का अपनत्व भी कम नहीं है। पीएम मोदी ने कहा, ‘भारत में अगर हिमालय है, तो बाली में अगुंग पर्वत है। भारत में अगर गंगा हैं, तो बाली में तीर्थ गंगा है, हम भी भारत में हर शुभ कार्य का श्रीगणेश करते हैं। यहां भी श्री गणेश घर-घर विराजमान हैं और सार्वजनिक स्थानों पर शुभता फैला रहे हैं। वहीं दूसरी ओर बाली में जी-20 शिखर समिट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूक्रेन-रूस जंग रोकने पर जोर दिया। समिट के पहले सत्र में जी-20 नेताओं के बीच फूड एंड एनर्जी सिक्योरिटी पर चर्चा हुई। इसमें प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना और इसके बाद यूक्रेन संकट ने दुनिया में तबाही मचाई है। यूएन भी इन मुद्दों पर कुछ नहीं कर पाया। हमें यूक्रेन-रूस जंग को रोकने का रास्ता खोजना होगा। इसकी वजह से ग्लोबल सप्लाई चेन पर बुरा असर पड़ा है। इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात हुई। ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌ प्रधानमंत्री ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को बुलाया और उनसे भी बातचीत की। वहीं ब्रिटेन के नवनिर्वाचित भारतीय मूल के राष्ट्रपति ऋषि सुनक और पीएम मोदी के बीच भी मुलाकात हुई। ‌ बता दें कि जी-20 शिखर सम्मेलन का आयोजन कल बुधवार को भी चलेगा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: