बुधवार, नवम्बर 30Digitalwomen.news

इस बार चार धाम यात्रा से हजारों कारोबारियों के साथ उत्तराखंड सरकार भी हुई ‘मालामाल’

JOIN OUR WHATSAPP GROUP

उत्तराखंड स्थित विश्व प्रसिद्ध चार धाम में से तीन धाम गंगोत्री, यमुनोत्री और बाबा केदारनाथ के कपाट पूरे विधि विधान के साथ बंद हो गए हैं। ‌ इस बार चार धाम यात्रा में रिकॉर्ड तोड़ श्रद्धालु उमड़े। जिसकी वजह से राजस्व के साथ स्थानीय लोग, दुकानदार, घोड़े और खच्चरों के मालिकों और प्रसाद बेचने वाली महिला समूहों की खूब कमाई हुई है। वहीं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को ट्वीट करते हुए कहा कि चारधाम यात्रा के सफल संचालन एवं यात्रियों की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि का ही परिणाम है कि केवल प्रसाद विक्रय कर महिला समूहों ने लगभग 44 लाख का कारोबार किया है। जिससे 100 से अधिक महिलाओं को सीधा रोजगार प्राप्त हुआ है। इससे पहले भी सीएम धामी ने केदारनाथ यात्रा के दौरान 190 करोड़ का अधिक कारोबार होने पर भी ट्वीट करके जानकारी दी थी। इसकी बड़ी वजह रही कि देश में कोरोना महामारी की वजह से 2 साल चार धाम के कपाट बंद रहे थे। ‌इस साल चार धाम कपाट खुलने से पहले ही उत्तराखंड सरकार ने कहा था कि चार धाम में तीर्थ यात्रियों की इस बार रिकार्ड तोड़ भीड़ उमड़ेगी। इस बार यात्रा से न सिर्फ सरकार उत्साहित है बल्कि स्थानीय लोगों के भी चेहरे खिले हैं। वहीं तीर्थ पुरोहित भी यात्रा सीजन से काफी खुश हैं और उनका मानना है कि सरकार आगामी दिनों में बेहतर व्यवस्था करेगी तो यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या दोगुनी हो जाएगी। उत्तराखंड में चार धाम यात्रा आर्थिकी का सबसे बड़ा साधन मानी जाती है। यात्रा पड़ाव पर रहने वाले लाखों लोगों की कमाई का सबसे बड़ा साधन चार धाम यात्रा ही है। यात्रा भले ही 6 महीने चले लेकिन इन 6 महीने में व्यापारी से लेकर तमाम स्थानीय लोग अच्छी कमाई कर लेते हैं‌। इस बार चार धाम यात्रा में अब तक तकरीबन 43 लाख के करीब यात्री पहुंच चुके हैं जो कि अब तक का रिकॉर्ड माना जा रहा है। हर साल चार धाम यात्रा करने के लिए देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु आते हैं। ‌इन चारों धामों के कपाट अप्रैल-मई में श्रद्धालुओं के लिए खोले जाते हैं। वहीं अक्टूबर-नवंबर में चारों धामों के कपाट शीतकालीन यानी 6 महीने के लिए बंद कर दिए जाते हैं। ‌ गंगोत्री, यमुनोत्री और केदारनाथ धाम के कपाट बंद हो चुके हैं।बाबा बद्रीनाथ धाम के कपाट अगले महीने 19 नवंबर को पूरे विधि विधान के साथ बंद किए जाएंगे। चारधाम यात्रा के दौरान इस बार रिकार्ड तोड़ श्रद्धालु पहुंचे हैं। सरकारी आंकडों के अनुसार, इस साल 24 अक्टूबर तक 43 लाख 9 हजार 634 यात्री चारधाम दर्शन के लिए आ चुके हैं। इस बार की केदारनाथ यात्रा में केदारनाथ मंदिर का भी स्वरूप बदला है। महाराष्ट्र के भक्तों ने बाबा केदार के धाम को सोने से ढकने का आग्रह किया था। जिसके बाद मंदिर समिति ने गर्भ ग्रह के अंदर की दीवारों को सोने की परत चढ़ाई गई है।

चार धाम यात्रा से जुड़े स्थानीय लोगों और व्यापारियों के खिले चेहरे–

गंगोत्री, यमुनोत्री और बाबा केदारनाथ धाम के कपाट पूरे विधि विधान के साथ बंद हो गए हैं लेकिन इस बार राजस्व के साथ हजारों लोगों की बंपर कमाई होने से चेहरे खिले हुए हैं। बता दे कि उत्तराखंड में चार धाम यात्रा के दौरान सर्वाधिक राजस्व की प्राप्ति होती है। उत्तराखंड में चार धाम यात्रा का सबसे बड़ा आकर्षण केदारनाथ धाम बन चुका है। हर साल यहां यात्रियों की संख्या में रिकॉर्ड बढ़ोत्तरी हो रही है। इस बार जब केदारनाथ यात्रा शुरू हुई तो यह बात न केवल राज्य सरकार को बल्कि मंदिर समिति को पता थी इस बार की यात्रा में कई तरह के रिकॉर्ड कायम होंगे। दो सालों से महामारी के चलते यात्रा में चार धाम यात्रा करने के लिए श्रद्धालु कम आ रहे थे। इस बार चारों धामों के कपाट खुलने के साथ ही श्रद्धालुओं की भीड़ शुरू हो गई थी। हालांकि इस बार हार्ट अटैक की वजह से 100 से अधिक श्रद्धालुओं की जान भी चली गई। केदारनाथ यात्रा में इस बार घोड़े खच्चर वालों ने बंपर कमाई की है। कमाई के मामले में घोड़े-खच्चर वालों ने हेली कंपनियों को भी पीछे छोड़ दिया। एक अनुमान के मुताबिक घोड़े खच्चर वालों ने इस बार केदारनाथ यात्रा में एक अरब से अधिक का कारोबार किया है। वहीं अगर हेली कंपनियों की बात करें तो उन्होंने लगभग 75 करोड़ से अधिक का कारोबार किया ।सरकारी आंकड़ों के अनुसार, केदारनाथ धाम में इस बार घोड़ा-खच्चर और डंडी-कंडी व्यवसाइयों ने करीब 101.34 करोड़ रुपये का रिकॉर्ड कारोबार किया, जिससे सरकार को भी 8 करोड़ रुपये से ज्यादा का राजस्व प्राप्त हुआ। श्रद्धालुओं की यात्रा सुगम बनाने के लिए प्रशासन ने इस बार 4,302 घोड़ा मालिकों के 8,664 घोड़े-खच्चर पंजीकृत किए थे और इस सीजन में 5.34 लाख तीर्थयात्री घोड़े-खच्चरों की सवारी कर केदारनाथ धाम तक पहुंचे। उधर, यमुनोत्री में घोड़े-खच्चरों वालों ने 21.75 करोड़ रुपये का कारोबार किया और यह आंकड़ा भी नया रिकार्ड है। यमुनोत्री धाम में लगभग 2,900 घोड़े-खच्चर पंजीकृत किए गए थे। वहीं हेलीकॉप्टर सेवा प्रदान करने वाली कंपनियों ने भी 75.40 करोड़ रुपये का कारोबार किया। यही नहीं गाड़ियों की पार्किेंग से भी सरकार को अच्छी आय हुई। सीतापुर और सोनप्रयाग पार्किंग से राज्य सरकार को भी लगभग 75 लाख रुपये का राजस्व मिला। इसके अलावा चारधाम यात्रा मार्ग के सभी होटल, होमस्टे, लॉज और धर्मशालाएं भी पिछले 6 माह तक लगातार बुक रहीं। काफी समय से आर्थिक नुकसान झेल रहे सरकारी उपक्रम गढ़वाल मंडल विकास निगम (जीएमवीएन) को भी इस साल अगस्त तक 40 करोड़ की आय हो चुकी थी। अतिथि गृहों का संचालन करने वाले जीएमवीएन के प्रबंध निदेशक बंशीधर तिवारी ने बताया कि यह आंकड़ा 50 करोड़ रुपये के करीब पहुंचने का अनुमान है। चारधाम यात्रा से जुड़े टैक्सी व्यवसायों ने भी पिछले सालों की औसत आय से तीन गुना अधिक का कारोबार किया है।

महिला समूहों ने भी प्रसाद और स्थानीय उत्पाद बेचकर कमाए लाखों रुपए–

केदारनाथ के कपाट बंद हो चुके हैं। इस बार केदारनाथ यात्रा विभिन्न महिला समूहों के लिए सौगात लेकर आई। उत्तराखंड में चार धाम यात्रा के दौरान कई महिला संगठनों ने भी प्रसाद और स्थानीय उत्पादों को बेचकर लाखों रुपए की कमाई की है। ‌‌बता दें कि करीब 20 महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार चौलाई के लड्डू, हर्बल धूप, चूरमा, बेलपत्री, शहद, जूट एवं रेशम के बैग आदि पहुंचता है। इसके अलावा गंगा जल के लिए पात्र एवं मंदिर की भस्म भी प्रसाद पैकेज का हिस्सा हैं। पूरे पैकेज की कीमत 250 रुपए निर्धारित की गई है। जिसके अतिरिक्त 50 रुपए मंदिर समिति एवं हैली कंपनियों को राॅयल्टी दी जाती है। इस बार की केदारनाथ यात्रा में विभिन्न महिला समूहों ने 48 लाख का कारोबार किया। यात्रा में इस बार 100 से अधिक महिलाओं को सीधा रोजगार मिला। चारधाम यात्रा के सफल संचालन एवं यात्रियों की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि का ही परिणाम है कि केवल प्रसाद विक्रय कर महिला समूहों ने लगभग 44 लाख का कारोबार किया है। जिससे 100 से अधिक महिलाओं को सीधा रोजगार प्राप्त हुआ है। वहीं जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने केदारनाथ धाम यात्रा को सफल एवं सुगम बनाने के लिए तीर्थ पुरोहित समाज, मंदिर समिति, व्यापार मंडलों, जनप्रतिनिधियों, घोड़ा-खच्चर संचालकों, टैक्सी यूनियन समेत यात्रा से जुड़े सभी लोगों एवं संस्थानों का धन्यवाद दिया। साथ ही जिले के सभी अधिकारियों, स्वास्थ्य विभाग, पुलिस प्रशासन, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, यात्रा मैनेजमेंट फोर्स, आपदा प्रबंधन, जल एवं विद्युत निगम, सफाई कर्मचारियों और मीडिया का धन्यवाद देते हुए यात्रा के सफल संचालन की बधाई दी। उन्होंने कहा कि यात्रा मार्ग पर प्लास्टिक कचरे के निस्तारण के लिए शुरू की गई क्यूआर कोड योजना से प्लास्टिक निस्तारण में काफी मदद मिली। हर साल अप्रैल-मई में चारों धाम के कपाट खोले जाते हैं। इन चारों धामों के कपाट खुलने और बंद होने की धार्मिक और विशेष प्रक्रिया अपनाई जाती है। ‌

Leave a Reply

%d bloggers like this: