रविवार, नवम्बर 27Digitalwomen.news

वोटों की गिनती शुरू: 24 साल बाद आज कांग्रेस को मिलेगा गांधी परिवार से बाहरी अध्यक्ष, मलिकार्जुन खड़गे की जीत तय

Counting of votes begins: After 24 years, Congress will get outside president from Gandhi family, Malikarjun Kharge’s victory is fixed
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

सोमवार को कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए डाले गए वोटों की गिनती शुरू हो चुकी है। देश भर के राज्य मुख्यालयों से मतपेटियां मतगणना स्थल यानी कांग्रेस दफ्तर पहुंच चुकी हैं। यह मतगणना नई दिल्ली के 24 अकबर रोड स्थित ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के ऑफिस में हो रही है। ‌‌‌‌‌इसी के साथ 24 साल बाद गांधी परिवार से बाहरी कोई नेता देश की सबसे पुरानी पार्टी का अध्यक्ष चुना जाएगा। दोपहर तक पूरे परिणाम आ सकते हैं। कांग्रेस के तमाम नेताओं और कार्यकर्ताओं को नए अध्यक्ष को लेकर भी काफी समय से इंतजार है। पार्टी के कई दिग्गज नेता कांग्रेस में पूर्णकालिक अध्यक्ष बनाने के लिए मांग भी लगातार उठाते रहे हैं । इस मुद्दे को लेकर पार्टी में कई बार विरोध के स्वर भी सामने आए थे। आज कांग्रेस पार्टी को नया अध्यक्ष मिलने जा रहा है। इन चुनावों में मलिकार्जुन खड़गे की जीत तय मानी जा रही है। इसका औपचारिक एलान आज हो जाएगा। ‌बता दें कि चुनाव में मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर आमने-सामने हैं, लेकिन रुझानों में खड़गे की जीत तय बताई जा रही है, क्योंकि उन्हें गांधी परिवार का समर्थन हासिल है। चुनाव में 9900 वोटर्स में से 9500 ने वोट डाले थे। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कई अन्य वरिष्ठ नेताओं समेत करीब 9500 डेलीगेट (निर्वाचक मंडल के सदस्यों) ने पार्टी के नए अध्यक्ष के चुनाव के लिए सोमवार को मतदान किया था। कांग्रेस में अध्यक्ष पद के लिए आखिरी बार साल 1998 में वोटिंग हुई थी। तब सोनिया गांधी के सामने जितेंद्र प्रसाद थे। सोनिया गांधी को करीब 7,448 वोट मिले, जबकि जितेंद्र प्रसाद 94 वोटों पर ही सिमट गए। सोनिया गांधी के अध्यक्ष बनने पर गांधी परिवार को कभी कोई चुनौती नहीं मिली। वहीं शशि थरूर ने निर्वाचकों से ‘बदलाव अपनाने’ का साहस दिखाने का आह्वान करते हुए कहा था कि वह जिन बदलावों के बारे में सोच रहे हैं, उनमें पार्टी के ‘मूल्यों’ में कोई बदलाव नहीं होगा और केवल लक्ष्य पाने के तरीकों में परिवर्तन आएगा। वहीं खड़गे ने कहा था कि अगर वह अध्यक्ष बनते हैं तो उन्हें पार्टी के मामलों में गांधी परिवार की सलाह और सहयोग लेने में कोई झिझक नहीं होगी, क्योंकि उस परिवार ने काफी संघर्ष किया है और पार्टी के विकास में बड़ा योगदान दिया है। मल्लिकार्जुन खड़गे या शशि थरूर, दोनों में से किसी एक की जीत के साथ ही एक नया इतिहास बन जाएगा, क्योंकि इस चुनाव से 24 साल बाद गांधी परिवार के बाहर कोई नेता देश की सबसे पुरानी पार्टी का अध्यक्ष चुना जाएगा। इससे पहले सीताराम केसरी गैर-गांधी अध्यक्ष रहे थे। इस बार चुनाव में मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर में से जो भी जीतेगा वह कांग्रेस अध्यक्ष बनने वाला 65 वां नेता होंगे। अगर मल्लिकार्जुन खड़गे चुनाव जीतते हैं तो वह कांग्रेस अध्यक्ष बननने वाले तीसरे दलित नेता होंगे। उनसे पहले बाबू जगजीवन राम कांग्रेस अध्यक्ष बनने वाले पहले दलित नेता थे। उसके बाद सीताराम केसरी बने थे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: