गुरूवार, दिसम्बर 8Digitalwomen.news

Telangana: Rs 1 crore cash recovered from car ahead of Munugode by-polls

तेलांगना में भाजपा नेता के गाड़ी से पकड़ा गया एक करोड़ कैश, जब हिसाब मांगा तो कोई जवाब नहीं

Telangana: Rs 1 crore cash recovered from car ahead of Munugode by-polls
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

तेलांगना में उपचुनाव है। उसके पहले ही कई बड़े अपडेट आ गए हैं। टीआरएस के पूर्व सांसद बूरा नरसैय्या गौड़ यह कहते हुए पार्टी छोड़ भाजपा में शामिल हो गए कि लोगों की समस्याओं का प्रतिनिधित्व करने के लिए टीआरएस नेतृत्व उनके लिए सही नहीं रहा है। गौड़ ने कहा कि उन्हें लगता था कि अगर चीजें इसी तरह बनी रहीं तो उनका राजनीतिक जीवन व्यर्थ होगा। अब ऐसे में टीआरएस को बड़ा झटका के रूप में देखा जा रहा है। उपचुनाव की सरगर्मी तेज है तो पैसों का खेल शुरू होना भी स्वाभाविक है।

कुछ ऐसी ही घटना तेलंगाना के नालगोंडा जिले में पुलिस चेकिंग के दौरान हुई जहां कथित रूप से बीजेपी नेता की कार से 1 करोड़ रुपये निकले। खबर के मुताबिक जिले की चेलमेडा चेक पोस्ट पर तैनात पुलिस ने बीजेपी नेता से इस पैसे का हिसाब मांगा था। लेकिन वो कोई जानकारी नहीं दे पाए। इसके बाद पुलिस ने रुपये जब्त कर लिए। आगामी 3 नवंबर को नालगोंडा की मुनुगोडे विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है। उससे कुछ दिन पहले इस रकम का पकड़ा जाना कई सवाल खड़े कर गया है।

नालगोंडा की पुलिस अधीक्षक रेमा राजेश्वरी ने इस पूरे मामले की छानबीन कर रही हैं और उन्होंने बताया कि सोमवार, 17 अक्टूबर को जिला पुलिस की टीम गाड़ियों की नियमित चेकिंग कर रही थी. उसी दौरान दोपहर 3 बजे चेलमेडा चेक पोस्ट एक टाटा सफारी को रोका गया। कार को एस वेणु नाम का शख्स चला रहा था, जो तेलंगाना के करीमनगर से बीजेपी की पार्षद सीजे वेणु के पति हैं। जब पुलिस की टीम ने भाजपा नेता की कार चेकिंग की। उसकी डिक्की खोली गई तो उसमें से बड़ा बैग मिला।

बैग को जब खोलने को कहा गया तो भाजपा नेता हिचकने लगा लेकिन जब पुलिस ने जोर देकर कहा तो उसमें से भारी रकम निकली। गिनती की गई तो नोटों की कुल कीमत 1 करोड़ रुपये निकली। वेणु से इस बारे में सवाल किए गए. लेकिन वो कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सके। पुलिस अधिकारी के मुताबिक बीजेपी पार्षद से पूछा गया कि उनके पास इतनी बड़ी रकम कहां से आई। लेकिन उन्होंने ना तो इसकी जानकारी दी, ना ही ऐसा कोई डॉक्युमेंट दिखा पाए जिससे पता चले कि बेहिसाब पैसे का सोर्स क्या है। इसके बाद पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी। वही बरामद हुई रकम आयकर विभाग को भेज दी गई है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: