गुरूवार, दिसम्बर 8Digitalwomen.news

Ankita murder case: Uttarakhand CM Dhami’s bulldozer rolls over BJP neta’s son’s resort

पुलिस ने शव किया बरामद: अंकिता भंडारी हत्याकांड में सीएम धामी ने भाजपा नेता के आरोपी बेटे के रिजॉर्ट में आधी रात चलाया बुलडोजर

Ankita murder case: Uttarakhand CM Dhami’s bulldozer rolls over BJP neta’s son’s resort
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

अंकिता भंडारी मर्डर केस में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बड़ा एक्शन लिया है। सीएम धामी के निर्देश पर प्रशासन ने भाजपा नेता और पूर्व राज्य मंत्री विनोद आर्य के बेटे पुलकित आर्य के रिजॉर्ट में आधी रात बुलडोजर चलाया गया। रिजॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी हत्या के मामले में सीएम पुष्कर सिंह धामी के आदेश के बाद आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई शुरू हो गई है।

सीएम के विशेष प्रमुख सचिव अभिनव कुमार ने बताया कि सीएम के आदेश पर पुलकित आर्य के ऋषिकेश के वनतारा रिजॉर्ट पर बुलडोजर चलाया गया है। वहीं सीएम के आदेश से आरोपियों की संपत्ति पर भी कारवाई की जा रही है। इसके साथ मुख्यमंत्री धामी ने उत्तराखंड के सभी रिजॉर्ट की जांच के लिए जिलाधिकारियों को आदेश दे दिए हैं। मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि जो रिजॉर्ट अवैध बने हैं या अवैधानिक रूप से संचालित हैं, उनके खिलाफ तत्काल आवश्यक कार्रवाई की जाए। इसके अलावा सीएम ने प्रदेश भर के होटल, रिजॉर्ट, गेस्ट हाउस के कर्मचारियों से उनकी स्थिति के बारे में जानकारी देने को कहा है और उनसे संबंधित शिकायतों को गंभीरता से लेने के आदेश दिए हैं। अंकिता भंडारी की हत्या को लेकर पूरा उत्तराखंड गुस्से में है।

वहीं अंकिता का शव पुलिस ने बरामद कर लिया है। अंकिता की हत्या के माले में पुलिस ने रिजॉर्ट मालिक पुलकित आर्य, मैनेजर सौरभ भास्कर और अंकित उर्फ पुलकित गुप्ता को गिरफ्तार किया है। सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 302, 201, 120-B के तहत केस दर्ज किया गया है। हत्या का मुख्य आरोपी पुलकित आर्य पूर्व राज्य मंत्री विनोद आर्य का बेटा है। 19 वर्षीय अंकिता भंडारी ऋषिकेश-चीला मोटर मार्ग पर गंगा भोगपुर क्षेत्र में स्थित रिजॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट के रूप में काम करती थी। अंकिता 18-19 सितंबर से गायब थी। 19 सितंबर की सुबह अंकिता अपने कमरे में नहीं दिखी। उसके पिता रिसॉर्ट पहुंचे और कर्मचारियों से पूछताछ की। बेटी का पता नहीं चलने पर गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। सोशल मीडिया पर गुमशुदा की तलाश के लिए कैंपेन चल रहा था। पुलिस पूछताछ में तीनों आरोपी पहले कहानी बताते रहे बाद में सख्ती करने पर सभी ने सच्चाई बयां कर दी। ‌शुक्रवार को सीसीटीवी फुटेज और सर्विलांस से जानकारी जुटाने के बाद जब अंकिता भंडारी मर्डर केस में भाजपा नेता और राज्य के पूर्व मंत्री विनोद आर्य के बेटे पुलकित आर्य को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलकित के साथ उसके दो अन्य साथियों अंकित उर्फ पुलकित गुप्ता और सौरभ भास्कर को भी अरेस्ट किया गया है। तीनों आरोपियों को पकड़कर जीप से थाने ले जा रही थी तभी भीड़ ने जीप को रोक लिया। भीड़ ने आरोपियों को जमकर पीटा। उनके कपड़े तक फाड़ दिए। वहीं लोगों ने पुलकित के रिजॉर्ट में भी जमकर तोड़फोड़ की है। भीड़ का गुस्सा इतना ज्यादा था कि अगर पुलिस न होती तो इन आरोपियों का बच पाना मुश्किल था।

पूछताछ के दौरान पुलकित आर्य ने पुलिस को बताया कि रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी रिसॉर्ट के एक अलग कमरे में रहती थी। कुछ दिनों से वह मानसिक तनाव से गुजर रही थी। इसी के चलते 18 सितंबर को उसे ऋषिकेश घुमाने के लिए ले गए थे। उसने आगे बताया कि देर रात सभी वहां से वापस लौट आए। इसके बाद रिजॉर्ट में बने अलग-अलग कमरों में सभी लोग सोने चले गए। मगर, 19 सितंबर की सुबह अंकिता अपने कमरे से गायब थी। पुलिस जांच में यह कहानी झूठी पाई गई। पुलिस ने पहले रिजॉर्ट के कर्मचारियों से पूछताछ की। उन्होंने बताया कि ऋषिकेश जाते समय अंकिता इन लोगों के साथ थी, लेकिन वापस नहीं लौटी। वहीं पुलिस ने ऋषिकेश जाने के दौरान रास्ते के सीसीटीवी भी चेक किए। इनमें देखा गया कि जाते हुए चार लोग थे, लेकिन वहां से आते हुए तीन लोग थे। इसके बाद पुलिस ने तीनों से सख्ती से पूछताछ की। आरोप है कि अंकिता को तीनों आरोपियों ने पहाड़ी से नीचे गंगा में धक्का देकर मार डाला। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि वह तीनों अंकिता को लेकर बैराज तक आए। यहां सभी ने शराब पी। इसके बाद अंकिता धमकी देने लगी कि वह सभी को बता देगी कि पुलकित उस पर रिजॉर्ट के कस्टमर्स के साथ शारीरिक संबंध बनाने का दबाव बनाता है।

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने ऋषिकेश घटना को बहुत दुखद बताते हुए कहा कि जिस किसी ने ये जघन्य अपराध किया है, उसे हर हाल में कड़ी सजा दिलाई जाएगी। पुलिस अपना कार्य कर रही है। मामले में न्याय दिलाना सुनिश्चित किया जाएगा। पहले यह मामला राजस्व पुलिस के पास था। बाद में मामले की गंभीरता को देखते हुए इसके बाद इसे लक्ष्मण झूला पुलिस को ट्रांसफर कर दिया गया। मामले में पौड़ी के डीएम ने लापरवाही बरतने पर पटवारी विवेक कुमार को निलंबित कर दिया है। मौजूदा समय में विनोद आर्य बीजेपी ओबीसी मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य हैं और यूपी के सह प्रभारी भी हैं। वो पूर्व में राज्य मंत्री भी रह चुके हैं। उनके दूसरे बेटे अंकित को राज्य मंत्री का दर्जा मिला है। वह इस वक्त राज्य पिछड़ा आयोग में उपाध्यक्ष हैं। विनोद आर्य ने बेटे पर लगे आरोपों को झूठ बताया है। बता दें कि अंकिता भंडारी का परिवार ग्राम श्रीकोट, पट्टी नादलस्यूं, पौड़ी गढ़वाल का रहने वाला है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की रिसोर में की गई बुलडोजर कार्रवाई के बाद भी लोगों में गुस्सा बना हुआ। ‌आक्रोशित लोग आरोपियों को सख्त सजा दिलाने की मांग कर रहे हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: