मंगलवार, अक्टूबर 4Digitalwomen.news

IND vs AUS|2nd T20I: टिकट लेने गए दर्शकों पर हैदराबाद पुलिस ने किया लाठी चार्ज, एचसीए के खिलाफ मामला दर्ज

IND vs AUS|2nd T20I: Stampede In Hyderabad As Fans Jostle Tickets
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

आज भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच नागपुर में दूसरा मैच खेला जाना है। लेकिन इसके साथ ही हैदराबाद में होने वाले तीसरे टी20 मैच के टिकट के लिए भारी संख्या में दर्शक राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम पहुँच गए। तीन मैचों की टी20 सीरीज का तीसरा और आखिरी मुकाबला यही खेला जाएगा लेकिन 25 सितंबर को होने वाले इस मैच से पहले टिकट की बिक्री को लेकर जमकर बवाल हुआ।

मैच का इतना क्रेज लोगों के सर चढ़कर बोलने लगा कि टिकट खरीदने को लेकर जिमखाना ग्राउंड के बाहर लोगों का सैलाब उमड़ पड़ा। और यह सैलाब कब भगदड़ में तब्दील हो गया किसी को कुछ नहीं पता चल पाया। टिकट बिक्री के दौरान अफरा-तफरी मच गई। ऐसे में पुलिस को क्रिकेट प्रेमियों पर काबू पाने के लिए लाठीचार्ज भी करना पड़ा। जिसका वीडियो सामने आते ही सोशल मीडिया पर हैदराबाद पुलिस के बारे में लोगों ने खूब खरी खोटी सुनानी शुरू कर दी।

सोशल मीडिया पर जो जो वीडियो सामने आए हैं उनके अनुसार, फैन्स जिमखाना ग्राउंड के बाहर पूरी रात लाइन में खड़े रहे ताकि उन्हें जल्द से जल्द टिकट मिल सके। कुछ ट्वीट के मुताबिक तो फैन्स करीब 12 घंटे से लाइन में अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे। भारी भीड़ के कारण वहां जाम भी लग गया। इसके बाद पुलिस को बुलाना पड़ा। भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा।लाठी चार्ज के दौरान चार लोग घायल भी हो गए हैं। पूरे मामले को लेकर हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन (एचसीए) के खिलाफ मामला दर्ज कर किया गया है।

सुबह 10 बजे जब टिकट बिक्री शुरू हुई तो लोगों की भीड़ लगातार समय के साथ बढ़ती चली गईं। शायद क्रिकेट एसोसिएशन को भी इस बात की जानकारी नहीं थी कि लोग इतनी संख्या में एक साथ आ जाएंगे। सोशल मीडिया पर फैन्स पुलिस द्वारा किए गए लाठीचार्ज का विरोध भी कर रहे हैं। साथ ही हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष से इस्तीफे की मांग भी कर रहे हैं।

दिसम्बर 2019 के बाद अब तक कोई अंतर्राष्ट्रीय मैच हैदराबाद में नहीं हो पाया है।यही कारण है कि लगभग तीन साल बाद होने इस मैच के लिए सभी उत्साहित थे। ऑफलाइन सिर्फ 3000 ही टिकट उपलब्ध था और लोगों की भीड़ लगभग 30,000 के पार थी। जबकि ऑनलाइन टिकट की बिक्री को कुछ ही मिनटों में बंद कर दिया गया था। साथ ही ऑफलाइन टिकट को लेकर कल रात तक कोई जानकारी नहीं दी गई थी। ऐसे में अचानक से टिकट बिक्री के फैसले से ही इतनी संख्या में लोग जमा हुए।

अमन पांडेय

Leave a Reply

%d bloggers like this: