मंगलवार, अक्टूबर 4Digitalwomen.news

आईआईटी बॉम्बे में मोहाली जैसा एमएमएस कांड, कैंटीन कर्मचारी ने बाथरूम का बनाया वीडियो, गिरफ्तार

IIT Bombay, Canteen Worker Arrested For Filming Girl Student in Hostel Washroom
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

चंडीगढ़ से मोहाली के यूनिवर्सिटी में हुए एमएमएस कांड के बाद अब आईआईटी मुंबई से भी एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां एक 22 साल के कैंटीन वर्कर को कथित रूप से बाथरूम में एक छात्रा का वीडियो बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। आरोपी का नाम पिंटू गरिया बताया जा रहा है। पिंटू पर बाथरूम के बाहरी हिस्से में लगे नल के पाइप पर चढ़कर विडियो रिकॉर्ड करने का आरोप है। वहीं संस्थान ने कैंटीन को भी बंद कर दिया है। और आरोपी पिंटू को आईपीसी की धारा 354 के तहत आज मैजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया जाएगा।

इस मामले के बारे में डीसीपी (जोन-10) महेश्वर रेड्डी ने बताया कि, ‘पिंटू खिड़की से झांक रहा था जब पीड़िता ने उसे नोटिस किया और हॉस्टल अथॉरिटी को अलर्ट किया। जिसके बाद आरोपी का फोन सीज कर लिया गया। जब पुलिस को मोबाइल में कोई वीडियो नहीं मिला तब उसके बाद उसे फरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है। कैंटीन वर्कर के मोबाइल के डिलीट फुटेज मिला जिसे उसने पुलिस को फोन सौंपने से पहले डिलीट कर दिया था।

इस घटना के बाद आईआईटी बॉम्बे ने बयान जारी कर कहा कि उन्होंने संदिग्धों की ओर से इस्तेमाल किए गए नल के पाइप के गैपों को बंद कर दिया है। सुरक्षा के मुद्दों पर कैंपस के छात्रों के साथ चर्चा कर रहे हैं। फिलहाल इस विवादित कैंटीन को बंद कर दिया गया है। अब यह केवल महिला कर्मचारियों की मदद से दोबारा खोली जाएगी।

पीड़िता ने सुनाई आपबीती:
पीड़ित छात्रा ने मीडिया को बताया कि वह देर रात वॉशरूम गई थी। इस दौरान उसे लगा कि खिड़की से कोई मोबाइल के जरिए उसका विडियो बना रहा है। इसके बाद वह चिल्लाई और अपने दोस्तों के अलावा कॉलेज मैनेजमेंट को इस घटना की जानकारी दी। इसके बाद आईआईटी के छात्रों का एक समूह और कुछ प्रतिनिधिओं के साथ वह तुरंत शिकायत दर्ज कराने के लिए पवई पुलिस स्टेशन पहुंची थी।

आईआईटी बॉम्बे के स्टूडेंट विंग के डीन प्रफेसर तपनेंदु कुंडू ने बताया, ‘घटना को गंभीरता से लेते हुए आईआईटी प्रंबंधन समिति ने कई कदम उठाए हैं। हॉस्टल से बाहरी इलाके तक से रास्ते को सील कर दिया गया है। विभिन्न जगहों पर सीसीटीवी लगाया गया है। नए सिरे से लाइटिंग की गई है। महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रात्रि पाली की कैंटीन में महिलाओं को नियुक्त करने का फैसला किया गया है।’

Leave a Reply

%d bloggers like this: