रविवार, अक्टूबर 2Digitalwomen.news

भारतीय महिला टीम ने इंग्लैंड को 7 विकेट से हराया, मंधाना बनी नवर्स नाइंटी का शिकार

India beat England by 7 wickets in first women’s ODI
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

भारतीय महिला क्रिकेट टीम टी-20 सीरीज हारने के बाद इंग्लैंड के साथ तीन वनडे मैचों की सीरीज खेलने उतरी हैं। और पहले ही मैच में इंग्लैंड को 7 विकेट से हरा दिया। भारत को इस मैच से ही नहीं बल्कि काफी समय से रन चेज मशीन मिला हुआ है जिसने इस मैच में अपनी पहचान को और पुख्ता कर दिया। स्मृति मंधाना, यह नाम याद रखिये क्योंकि यह काफी समय तक याद रखने और हमें प्राउड फील कराते रहने वाला नाम है। भले ही स्मृति आज अपने शतक पूरा न होने पर अफसोस कर रही होगी लेकिन आज भारतीय क्रिकेट फैंस उनके गुणगान कर रहे हैं। 10 चौके और एक छक्के से सजी 99 गेंदों में 91 रनों की पारी खेलकर सिर्फ इंग्लैंड से मैच छीना ही नहीं बल्कि झूलना गोश्वामी को एक बेहतर याद देने की तैयारी भी शुरू कर दी है।

यह सीरीज झूलन गोश्वामी का अंतिम सीरीज है। इसलिए जो भी होगा वह सब झूलन दीदी के लिए होगा। मैच के बाद मंधाना ने जब यह बातें कही तो ऐसा लगा कि अब कुछ बड़े धमाके की बड़ी तैयारी है। स्मृति मंधाना वैसे भी भारतीय महिला क्रिकेट टीम की चेज मास्टर है। 32 इनिंग में 60 के औसत से 1552 रन बना चुकी है जिंसमें 2 शतक और 15 अर्धशतक शामिल है। लेकिन अगर बात यहां कप्तान हरमनप्रीत कौर की ना हो तो गुनाह होगा। पहले कमाल की कप्तानी और फिर मैच जिताऊ पारी। 94 गेंदों में 74 रनों की पारी खेलकर भारत की झोली में जीत डाल दिया। इस जीत में अगर नाम यास्तिका भाटिया की ना हो फिर जीत का रंग थोड़ी फीकी पड़ जाएगी।

यास्तिका ने दूसरे ओवर में ही शेफाली के आउट होने के बाद ही क्रीज पर उतरीं और उन्होंने रन बनाने का रिस्पॉन्स खुद लिया ताकि मंधाना सेट हो सके और गेम को चलाये। 8 बेहतरीन चौके और एक छक्के की मदद से 47 गेंदों पर 50 रन बनाकर एक प्लेटफॉर्म सेट करके टीम को दिया। इसके पहले भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया और भारतीय गेंदबाजों ने हरमनप्रीत कौर के इस फैसले को सही साबित किया। अपना अंतिम सीरीज खेल रही गोश्वामी की गेंदों में वही धार देखने को मिली। 10 ओवर में एक विकेट और सिर्फ 20 रन देकर इंग्लैंड के गेंदबाजों को बांधकर रखा।


दीप्ति शर्मा और राजेश्वरी गायकवाड़ ने भी बेहतर गेंदबाजी की। दीप्ती को 2 जबकि मेघना, राजेश्वरी, स्नेह और हरलीन को एक-एक विकेट मिले। Wyatt ने 43 रनों की पारी और डेविडसन ने 50 रनों की पारी खेलकर इंग्लैंड को फाइटिंग स्कोर तक ले गई। एस्क्लेस्टोन ने भी 31 रनों की पारी खेली जबकि डीन ने बेहद महत्वपूर्ण 24 रनों की पारी खेली। इंग्लैंड ने 227 रनों का स्कोर खड़ा किया लेकिन आज उसकी गेंदबाजी में वह धार नहीं देखने को मिली और भारत ने आसानी से यह स्कोर 28 गेंद रहते ही प्राप्त कर लिया।

अमन पांडेय

Leave a Reply

%d bloggers like this: