मंगलवार, अक्टूबर 4Digitalwomen.news

Asia Cup 2022: India needs Afghanistan to beat Pakistan

भारत को एशिया कप में बने रहना है तो पाकिस्तान को आज का मैच हराना होगा

JOIN OUR WHATSAPP GROUP

भारतीय टीम या भारतीय फैन जब रोहित शर्मा क्रीज पर खड़े होकर बॉल को बाउंडरी के बाहर भेज रहे थे तब किसी ने नहीं सोचा होगा कि भारत यह मैच हार जाएगा। श्रीलंका से मिली 6 विकेट की हार ने भारत को इस समय एशिया कप से बाहर का रास्ता दिखाने के लिए तैयार है। सिर्फ इंतजार है आज के मैच पाकिस्तान अफगानिस्तान में किसकी हो रही है जीत। और फिर अफगानिस्तान के खिलाफ भारत को बड़े अंतर से जीत पर भी बहुत कुछ निर्भर करेगा। लेकिन फिलहाल ये सब एक चमत्कार जैसा लग रहा है। भारत की हार के बाद कई सारे सवाल चाहे वह प्लेइंग इलेवन को लेकर हो या फिर भारत की रणनीति को लेकर।

भारतीय टीम लगातार आलोचना झेल रही है। पहली बात कि गेंदबाजी और खासकर फ़ास्ट कॉम्बिनेशन बेहद ही साधारण रहा। टीम में सिर्फ 3 तेज गेंदबाज को चुना गया था जिसमें से आवेश खान चोटिल होकर बाहर चले गए। अब सिर्फ दो तेज गेंदबाजों के बदौलत कोई टीम एक एशिया कप जैसी सीरीज कैसे खेल सकती है। भुवनेश्वर कुमार और अर्शदीप सिंह के दम पर भारत इस मैच में उतरा था लेकिन पिछले मैच की तरह से इस मैच में भी भारत की उम्मीदों पर भुवनेश्वर कुमार खड़ा नहीं उतर पाए।

बात गेंदबाजी तक ही रहती तो ठीक था लेकिन दिनेश कार्तिक की जगह दीपक हुड्डा को टीम में लेना और उनसे बॉलिंग न करवाने की रणनीति भी समझ से परे हैं। जब हुड्डा टीम में हैं तो उम्मीद की जा सकती है कि जरूरत पड़ने पर एक या दो ओवर ओ करेंगे जैसा वह करते आये हैं, लेकिन ऐसा देखने को मिला नहीं। इसके अलावा अगर उन्हें ऊपर न उतारकर नीचे ही बल्लेबाजी करवानी है तो इसके लिए शायद अनुभव और तजुर्बा में दिनेश कार्तिक काफी आगे हैं। उन्हें आपने पिछले 2 सालों में लास्ट 5 ओवर का बल्लेबाज यानी फिनिशर भी बना चुके हैं। जबकि हुड्डा ऊपर 4 या 5 नंबर पर बल्लेबाजी करने वाले खिलाड़ी हैं तो उन्हें आप फिनिशर के रूप में देख रहे हैं।

फिलहाल भारत के लिए एशिया कप में आगे का सफर काफी कठिन है या यह कहे कि भारत लगभग एशिया कप से बाहर हो चुका है तो शायद गलत नही होगा। श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का निर्णय लिया क्योंकि इससे पहले क दो मैचों में वह 180 प्लस का स्कोर बड़े आराम से चेज कर चुकी थी। इसलिए भारत को बैटिंग के लिए आमंत्रित करना स्वाभाविक था। लेकिन भारत के लिए फिर से एक बार शुरुआत अच्छी नहीं रही। 13 के स्कोर पर ही अपने दो विकेट गंवा दिए। केएल राहुल छह रन बनाकर आउट हुए जबकि विराट कोहली खाता खोले बिना बोल्ड हो गए।

उसके बाद कप्तान रोहित ने सूर्यकुमार के साथ मिलकर तीसरे विकेट के लिए 58 गेंदों पर 97 रनों की साझेदारी करके भारत को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया। रोहित 72 रन बनाकर आउट हुए। उन्होंने 41 गेंदों पर 5 चौके और चार छक्के लगाए। उनके आउट होने के बाद सूर्यकुमार यादव भी 34 रन बनाकर आउट हो गए। 19वें ओवर में भारत ने दो गेंदों पर लगातार दो विकेट गंवा दिए। दीपक हुड्डा के बाद पंत भी 17 रन बनाकर आउट हो गए। अंत में रविचंद्रन अश्विन ने सात गेंदों पर एक छक्के की मदद से 15 रनों की नाबाद बहुमूल्य पारी खेली।भारत ने निर्धारित 20 ओवर में 8 विकेट पर 173 रन का स्कोर बनाया और श्रीलंका के सामने जीत के लिए 174 रनों का लक्ष्य रखा।

साधारण रही भारतीय गेंदबाजी

भारत से मिले 174 रनों के लक्ष्य का पीछा कर रही श्रीलंका की ओपनिंग जोड़ी ने बेहतरीन शुरुआत दी। पथुम निसंका और कुसल मेंडिस ने पहले विकेट के लिए 67 गेंदों पर 97 रनों की साझेदारी की। यह साझेदारी नहीं बल्कि एक अलार्म था मैच जीतने से पहले भारत के लिए। भारतीय टीम की पावर प्ले हो या फिर मैच का फर्स्ट हाफ एकदम साधारण गेंदबाजी रही। हालांकि इसके बाद चहल ने एक ही ओवर में निसंका और चरिथ असालंका को आउट करके भारत को लगातार दो सफलता दिलाई। निसंका ने 52 रन बनाए जबकि असालंका खाता खोले बिना आउट हो गए।

लेकिन कुसल मेंडिस ने अपना आठवां अर्धशतक पूरा कर लिया। उनके फिफ्टी होते ही अश्विन ने गुनातिलका को पवेलियन भेजकर भारत को तीसरी सफलता दिलाई। श्रीलंका ने 110 के स्कोर पर अपना चौथा विकेट गंवाया। लेकिन इसके बाद भानुका राजपक्षा और कप्तान दासून शानका ने पांचवें विकेट के लिए 34 गेंदों पर 64 रनों की साझेदारी करके श्रीलंका को छह विकेट से जीत दिला दी। शानका ने नाबाद 33 और राजपक्षा ने नाबाद 25 रन बनाए। भारत के खिलाफ श्रीलंका के कप्तान का पिछले तीन पारियों में शानदार रिकॉर्ड रहा है। पिछले तीन मैचों में उन्होंने 19 गेंद में 49, 38 गेंदों पर 74 और 18 गेंदों में 33 रन बनाकर नाबाद रहे हैं।

फाइनल में पहुँचने का समीकरण

फाइनल में पहुंचने के लिए टीम इंडिया को अपना आखिरी मुकाबला अफगानिस्तान के खिलाफ एक बड़े अंतर से जीतना होगा। इतना ही नहीं अपनी जीत के साथ भारतीय टीम को ये भी दुआ करनी होगी कि दूसरी टीमें अपना मैच हार जाएं। जैसे कि आज अफगानिस्तान अगर पाकिस्तान को हरा देती है तो भारतीय टीम टूर्नामेंट में बनी रहेगी। वहीं अगर पाकिस्तान जीता तो भारत का बाहर होना पक्का है। अब ऐसे में आज के मैच पर बहुत कुछ निर्भर करता है। भारत की मुसीबत यहीं खत्म नहीं होती हैं। अफगानिस्तान से अगर पाकिस्तानी टीम हार भी जाती है तो टीम इंडिया को फिर एक और मैच का इंतजार करना होगा ये मैच होगा पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच। अगर श्रीलंका इस मैच को जीत जाती है तो वो लगातार 3 जीत के साथ फाइनल में पहुंच जाएगी. जिसके बाद अफगानिस्तान, पाकिस्तान और भारत की 1-1 जीत होंगी। फिर फाइनल में पहुंचने वाली टीम का निर्णय नेट रन रेट के आधार पर किया जाएगा।

अमन पांडेय

Leave a Reply

%d bloggers like this: