रविवार, सितम्बर 25Digitalwomen.news

Supertech twin towers demolition: D-day on 28 August, details here

नोएडा के सुपरटेक ट्विन टॉवर के 62 मंजिल को आखिर क्यों और कैसे गिराया जा रहा है?

Supertech twin towers demolition: D-day on 28 August, details here
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

नोएडा का सुपरटेक ट्वीन टॉवर, इस समय अपने गिरने की उल्टी गिनती काउंट कर रहा है। 28 अगस्त को दोपहर 2:30 बजे ढहा दिया जाएगा। अगर सब कुछ प्लान के मुताबिक हुआ तो महज 12 सेकंड में अपैक्स टॉवर 32 और 30 मंजिला सियान इमारत समतल बन जाएगी। बताया जा रहा है कि ट्विन टॉवर में रहना या काम करना खतरे की घण्टी है। इसलिए इसको गिरना जरूरी है। टावर को गिराने की जिम्मेदारी मिली है एडिफिस और साउथ अफ्रीका की कम्पनी जेट को। उसके इंजीनियर का कहना है कि इतनी बड़ी बिल्डिंग को गिराना काफी रिस्की है इसलिए हमने पूरे टॉवर के अंदर 96400 होल किये हैं जिंसमें 3700 किलोग्राम बारूद डाला गया है।

19 अगस्त को नोएडा प्राधिकरण ने अपने बैठक में इसे गिराने की बात का फैसला तो ले लिया लेकिन फिलहाल समस्या यह है कि इस टॉवर के आसपास की बनी सोसायटी जैसे की एमराल्ड कोर्ट और एटीएस विलेज में रहने वाले 7000 परिवारों को कैसे मैनेज किया जाएगा। बताया जा रहा है कि इस टॉवर के आसपास बनी सड़को को पूरी तरह से सील किया जाएगा। साथ ही नोएडा एक्सप्रेस वे को भी दोपहर 2.15 से 2.45 तक बन्द रखा जाएगा। जो लोग 500 मीटर के अंदर रहते हैं उन्हें नोटिस जारी किया गया है कि 28 अगस्त की सुबह 6.30 बजे तक वह मकान खाली कर देंगे। इसके साथ ही 7 बजे तक बिजली-पानी कनेक्शन कट कर दी जाएगी।

प्रशासन की ओर से जारी नोटिस में लोगों को यह भी कहा गया है कि घर से निकलते वक्त सभी अपने घरेलू गैस सिलेंडर और बिजली का मुख्य स्विच को पूरी तरह से बन्द कर देंगे। विस्फोट से पहले सभी सड़के बन्द कर दी जाएगी। बताया जा रहा है कि 25 अगस्त तक बारूद का कनेक्शन का काम पूरा कर लिया जाएगा। इसके बाद अलग-अलग सरकारी एजेंसी जांच करेगी जिसमें नोएडा ऑथिरिटी भी शामिल हैं।

दोनों टॉवर को ध्वस्त करने के समय आपातकालीन सेवाएं जैसे कि एम्बुलेंस, फायर ब्रिगेड और पुलिस की तैनाती रहेगी। इस वक्त उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन सकते हैं खुद मीडिया एजेंसी या खासकर यूट्यूबर। क्योंकि सभी उसी के आसपास से लाइव या रिकॉर्डिंग करने की जगह ढूंढना शुरू कर चुके हैं। इसलिए सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए वहां 500 से अधिक पुलिसकर्मियों की तैनाती होगी। जबकि गौतमबुद्ध नगर पुलिस ने एक डीसीपी, एडिशनल डीसीपी, एसीपी और इंस्पेक्टर रैंक के पांच अधिकारियों की भी तैनाती की जाएगी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: