शुक्रवार, सितम्बर 30Digitalwomen.news

झीलों की नगरी भोपाल बारिश के कहर से कराह उठी, बोट क्लब पर खड़ा क्रूज डूबने लगा, शहर हुआ अस्त-व्यस्त

Heavy rains wreak havoc Madhya Pradesh, schools closed in Bhopal
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

आज बात करेंगे मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की। भोपाल को झीलों का शहर कहा जाता है। लेकिन सोमवार को यह झीलों की नगरी देश भर में चर्चा में रही। रविवार से लगातार मूसलाधार बारिश ने पूरे भोपाल शहर को अस्त-व्यस्त कर दिया। सभी कुछ ठप हो गया।

Heavy rains wreak havoc Madhya Pradesh, schools closed in Bhopal, Watch Video

बारिश के कहर में यह शहर कराह उठा। ट्रेन, बस और फ्लाइट सब कुछ रद करनी पड़ी। ‌ 6 साल बाद भोपाल में रिकॉर्ड तोड़ बारिश ने हाहाकार मचा दिया। सोमवार को ही भोपाल में मध्य क्षेत्रीय परिषद की बैठक हो रही थी। जिसमें गृह मंत्री अमित शाह, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी समेत तमाम भाजपा के नेता मौजूद थे।

MP and UK CM meeting with Home minister Amit shah

वहीं इस बैठक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भी आना था लेकिन इन दोनों मुख्यमंत्रियों के विमान को भोपाल एयरपोर्ट पर उतरने की अनुमति नहीं मिली। जिसकी वजह से यह दोनों नेता मध्य क्षेत्रीय परिषद की बैठक में नहीं पहुंच पाए। ‌ बता दें कि मध्यप्रदेश समेत देश के 6 राज्यों में 48 घंटे से भारी बारिश हो रही है। भोपाल में अब तक 60 इंच बारिश हो चुकी है। 2016 में यहां 56.58 इंच बारिश हुई थी।

Heavy rains wreak havoc Madhya Pradesh, schools closed in Bhopal

50 से ज्यादा डैम ओवर फ्लो हो गए हैं। बारिश के चलते भोपाल के बड़ा तालाब के बोट क्लब पर खड़ा क्रूज आधा डूब गया है। वहीं भोपाल आने वाली कुछ फ्लाइट कैंसिल कर दी गई हैं तो कुछ को डायवर्ट कर दिया गया है। एयर इंडिया की दिल्ली फ्लाइट इंदौर डायवर्ट की गई है।

Heavy rains wreak havoc Madhya Pradesh, schools closed in Bhopal

एयर इंडिया की मुंबई फ्लाइट को नागपुर में उतारा गया। इंडिगो एयर की दिल्ली फ्लाइट खराब मौसम के कारण कैंसिल कर दी गई है। बारिश से मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के बीच सड़क संपर्क टूट गया है। इधर, राजस्थान के टोंक, बूंदी, कोटा में शहरों में सड़कों पर कई फीट पानी भर गया है। वहीं राजस्थान में 200 डैम ओवरफ्लो हो गए हैं। उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में गंगा किनारे वाले इलाकों में बाढ़ से 50 हजार छात्र पलायन कर गए हैं। इन सभी राज्यों में मंगलवार के लिए भी भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। यानी अगले 48 घंटे बारिश से राहत मिलने के आसार नहीं हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: