बुधवार, अक्टूबर 5Digitalwomen.news

What is the Procedure to become BCCI Umpire?

बीसीसीआई में अंपायर बनने की चाहत है तो पहले उसकी प्रक्रिया को यहां समझ लें

What is the Procedure to become BCCI Umpire?
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

बीसीसीआई, ऐसे तो क्रिकेट को लेकर काफी सख्त है और उसका कारण है उसका बेहतरीन अनुशासन। अनुशासन को लेकर बीसीसीआई हमेशा से सख्त रहा है। यह अनुशासन आता है उसके मेम्बर्स से। बीसीसीआई के सख्ती के लपेटे में सिर्फ क्रिकेटर ही नहीं बल्कि अंपायर भी हैं। क्रिकेट में अंपायरिंग का स्तर बढाने के लिए हाल ही में अहमदाबाद में अंपायरों के लिए लेवल-दो परीक्षा का आयोजन किया गया था, इस परीक्षा का स्टैंडर्ड इतना हाई था, 140 परीक्षार्थियों में से महज तीन ही इस परीक्षा को पास कर सके। बाकी 137 अभ्यर्थियों को निराश होकर लौटना पड़ा।

बीसीसीआई के साथ अंपायर बनने के लिए, पहले स्थानीय क्रिकेट मैचों में अंपायरिंग करनी होगी और फिर बीसीसीआई लेवल 1 और लेवल 2 की परीक्षा पास करनी होगी। इसके अलावा अंपायर बनने के लिए निम्नलिखित योग्यताएं और कौशल जरूरी हैं.

What is the Procedure to become BCCI Umpire?

शैक्षिक योग्यता- बीसीसीआई अपने अंपायरों को पढ़ाई का कोई पैमाना नहीं मानता है लेकिन सीखने के लिए पढ़ा लिखा होना जरूरी है। जबकि बात अगर इंटरनेशनल अंपायर की करें तो उसे अंग्रेजी में संवाद आना जरूरी है।

थ्योरी परीक्षा के लिए ऐसे करें क्वालीफाई:

किसी को खेल की पूरी समझ होनी चाहिए। 42 क्रिकेट कानूनों की समझ होनी चाहिए। MCA (मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन) और DDCA (दिल्ली एंड डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन) जैसे राज्य संगठनों द्वारा प्रशासित थ्योरी टेस्ट पास करना अंपायर बनने की योग्यताओं में से एक है। थ्योरी परीक्षा पास करने के बाद ही आप बीसीसीआई द्वारा प्रशासित परीक्षा देने के योग्य होते हैं। अंपायरों को मान्यता देने और अंपायर के रूप में शामिल करने के लिए अंपायरों को बीसीसीआई परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी। उम्मीदवार को इसके साथ ही फिजिकल फिटनेस का भी विशेष ध्यान रखना होता है। जानकारी के लिए व्यक्ति को राज्य क्रिकेट संघ से संपर्क करना होगा।

चरण 2 में अंपायर प्रमाणन परीक्षा उत्तीर्ण करने की आवश्यकता होती है, जो क्रिकेट अंपायर बनने की दिशा में सबसे महत्वपूर्ण चरणों में से एक है।

अंपायर प्रमाणन परीक्षा

अधिकांश राज्य क्रिकेट संघ चार दिवसीय अंपायर प्रमाणन कार्यक्रम प्रदान करते हैं। जिसमें सभी आवश्यक प्रशिक्षण और जानकारी शामिल होती है। पहले तीन दिनों में प्रशिक्षण और ज्ञान हस्तांतरण शामिल है और अंपायर प्रमाणन परीक्षा चौथे दिन होती है।

प्रमाणन परीक्षा क्या है?

यह तीन राउंड में बांटा गया है। राउंड वन में थ्योरी शामिल है। थ्योरी राउंड पास करने वाले उम्मीदवार व्यावहारिक और मौखिक प्रश्न के अगले दौर के लिए पात्र हैं। यदि उम्मीदवार इन सभी दौरों को पास कर लेता है, तो वह उस राज्य क्रिकेट संघ द्वारा अंपायर के रूप में आयोजित मैचों के निर्णय के लिए पात्र होता है। मैचों के दौरान, उम्मीदवारों के प्रदर्शन का मूल्यांकन अंपायर के रूप में किया जाता है और प्रत्येक मैच के अंत में रिकॉर्ड किया जाता है। आपके प्रदर्शन के आधार पर, किसी को 2-3 साल तक अंपायर के रूप में काम करना पड़ सकता है। BCCI स्तर 1 परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद, उम्मीदवार को BCCI द्वारा प्रस्तावित एक वर्ष का पाठ्यक्रम पूरा करना होगा। इसके बाद आता है लेवल 2 लेकिन 2019 तक, BCCI स्तर 1 परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद पुनश्चर्या पाठ्यक्रम लेने की बाध्यता को प्रक्रिया से हटा दिया गया है। लेवल 2 की परीक्षा पास करना होता है। लेवल 2 टेस्ट को भी तीन भागों में बांटा गया है- थ्योरी, प्रैक्टिकल और वाइवा। यदि कोई बीसीसीआई स्तर 2 परीक्षा उत्तीर्ण करता है तो उसे बीसीसीआई अंपायर के रूप में नियुक्त किया जाता है। इसका मतलब है कि कोई भी बीसीसीआई द्वारा आयोजित घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों मैचों में प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम होगा।

अमन पांडेय

Leave a Reply

%d bloggers like this: