शुक्रवार, सितम्बर 30Digitalwomen.news

दिल्ली की सड़के हुई भगवामई, हिंदुओं की लगातार हो रही निर्मम हत्या के खिलाफ कई हिन्दू संगठनों का विरोध प्रदर्शन

Hindu Organisations takes out Peace March in Delhi
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

नुपूर शर्मा का एक बयान और उसपर शुरू हुआ बवाल का सिलसिला थमने के बजाय अब और बढ़ता ही जा रहा है। देश के अलग अलग हिस्सों में कई ऐसी घटनाएं हुई जो लोगों के सौहार्द और धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के लिए काफी था। लेकिन लोगों की भावनाएं भी बड़ी अजीब है। देश की आर्थिक स्थिति इस वक्त जर्जर हो चुकी है, गरीब और गरिब और अमीर दिनप्रतिदिन अमीर होता जा रहा है, इस पर लोगों की भावनाएं आहत नहीं हुई लेकिन धर्म के नाम पर लोग एक दूसरे को जान से मारने पर भी पीछे नहीं हट रहे।

उदयपुर में हुई घटना के बाद पूरा देश दो भागों में बंट चुका है। इस विभाजन को और मजबूती देने का काम अमरावती और छतीसगढ़ में हुई धर्म के नाम पर निर्मम हत्याओं ने कर दिया। आज इस धर्म की आहट देश की राजधानी दिल्ली में भी सुलगने लगी। आज हिन्दू विश्व परिषद सहित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और अन्य हिन्दू दलों ने दिल्ली के मंडी हाउस से लेकर पैदल जंतर-मंतर तक ‘हिन्दू संकल्प मार्च’ निकाला और हिंदुओं के साथ हो रहे अत्याचार को रोकने के लिए विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों के हाथों में विभिन्न प्रकार के बैनर थे जिसपर अलग-अलग स्लोगन लिखा हुआ था-”भारत संविधान से चलेगा शरीयत या जिहाद से नहीं”।

हालांकि यह प्रत्यक्ष रूप से भाजपा द्वारा आयोजित नहीं किया गया था लेकिन इसमें भाजपा नेताओं की संलिप्तता भी देखी गई। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता,सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा, कपिल मिश्रा जैसे शख्स भी इस प्रदर्शन के गवाह बने। भाजपा नेताओं ने एक ओर इस प्रदर्शन का समर्थन किया और उसमें भाग लिया लेकिन इस प्रदर्शन की जरूरत आज अगर पड़ी है तो इसके गुनाहगार भी भाजपा के नेता या प्रवक्ता ही हैं। ऐसा हम नहीं बल्कि सुप्रीम कोर्ट कह चुका है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने व्यक्तव्य में साफ कहा था कि देश में धर्म के नाम पर लगातार हो रहे मर्डर सिर्फ नूपुर शर्मा के उस बयान पर हुआ है, जो उन्होंने लाइव डिबेट में बैठकर पैगम्बर मोहम्मद के बारे में दिया था।

कपिल मिश्रा जिनकी छवि हिन्दू नेता के रूप में हैं उन्होने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हिन्दू सड़क पर पत्थर लेकर नहीं बल्कि इरादा और विश्वास लेकर उतरता है। आज दिल्ली की सड़कों पर महिलाएं, युवा और सभी वर्ग के लोग हैं। पिछले कई महीनों सर भारत के करोड़ो हिंदुओं के देवी-देवताओं का अपमान किया जा रहा है लेकिन हिन्दू चुप बैठा रहा आज वह धैर्य जवाब दे दिया है और सभी लोग सड़कों पर हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: