बुधवार, नवम्बर 30Digitalwomen.news

अमरनाथ यात्रा पर निकले 15 यात्रियों की अचानक बादल फटने से मौत 60 से अधिक लापता

At least 15 dead, many injured after cloudburst in Amarnath
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

नई दिल्ली, 9 जुलाई। दक्षिण कश्मीर में स्थित पवित्र अमरनाथ गुफ़ा के नजदीक उस समय अफरा तफरी मच गई जब शुक्रवार शाम को बादल फटने से आयी आकस्मिक बाढ़ से कम से कम 15 लोगों की मौत हो गई है। इतना ही नहीं इस त्रासदी में लगभग 60 लोग लापता हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अमरनाथ गुफा के पास और पंचतरणी में दो से तीन हजार लोगों के फंसे होने की सूचना है।

हादसे के बाद पहले तो अमरनाथ यात्रा फिलहाल दोनों रास्तों बालटाल और पहलगाम अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया और फिलहाल राहत कार्य जारी है। यात्रा बीते तीन जून को ही अमरनाथ यात्रा शुरू हुई थी। भारतीय सेना और ITBP के जवान, राहत और बचाव अभियान में जुटे हैं। लोगों का मानना है कि लापता यात्रियों की संख्या में इजाफा हो सकता था। पुलिस और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के कर्मी भी बचाव अभियान में लगे हैं।

घटना के बाद उपराज्यपाल प्रशासन और श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने अमरनाथ यात्रा के लिए चार हेल्पलाइन टेलीफोन नंबर जारी किए हैं जिस पर संपर्क कर लोग जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। श्राइन बोर्ड ने ट्वीट किया, “अमरनाथ यात्रा के लिए हेल्पलाइन नंबर: एनडीआरएफ: 011-23438252, 011-23438253, कश्मीर डिविजनल हेल्पलाइन: 0194-2496240, श्राइन बोर्ड हेल्पलाइन: 0194-2313149″

Govt Advisory After Cloud Burst in Amarnath

त्रासदी के बाद स्वास्थ्य सेवा निदेशालय ने सभी पदाधिकारी, कर्मचारी की छुट्टियां कैंसिल कर दी है और उन्हें तुरंत रिपोर्ट करने का आदेश जारी किया है। साथ ही अधिकारियों को अपना मोबाइल हमेशा ऑन रखने के निर्देश जारी किए गए हैं। बताया जा रहा है कि घायलों की सहायता के लिए सोनमार्ग एवं अन्य स्थानों पर अस्थायी अस्पताल बनाये गये हैं। अगर अधिकारियों के बयान की माने तो दक्षिण कश्मीर के अंनतनाग, श्रीनगर और दिल्ली में हेल्पलाइन स्थापित की गई हैं ताकि प्रभावित परिवारों की मदद की जा सके। जम्मू कश्मीर प्रशासन ने बचाव अभियान के लिए उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर लगाये हैं।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने केंद्रीय बलों और जम्मू कश्मीर प्रशासन को निर्देश दिया कि अमरनाथ गुफा के पास बादल फटने से प्रभावित लोगों को बचाने का कार्य तेजी से किया जाए। शाह ने ट्वीट कर कहा कि उन्होंने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल मनोज सिन्हा से बात कर के स्थिति का जायजा लिया।

इस घटना पर देश के प्रधानमंत्री मोदी ने दुख जताते हुए ट्वीट कर लिखा कि श्री अमरनाथ गुफा के पास बादल फटने की घटना से दुखी हूं। शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना। मनोज सिन्हा जी से बात की और स्थिति की जानकारी ली।

हादसे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का भी ट्वीट आया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट किया, ‘‘ शोकसंतप्त परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है। बचाव एवं राहत कार्य वहां फंसे लोगों की मदद के लिए पूरी गति से चल रहा है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: