मंगलवार, अक्टूबर 4Digitalwomen.news

गुजरात प्रतिनिधि मंडल दिल्ली क्या आया पूरा बवाल खड़ा हो गया

BJP delegation from Gujarat to ‘inspect’ Kejriwal’s Delhi Model of governance
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

दिल्ली और गुजरात ऐसा लग रहा है कि दोनों राज्यों में इस वक्त खलबली मची हुई है। गुजरात में इसलिए क्योंकि वहां चुनाव होने वाला है और आम आदमी पार्टी वहां अपनी छाप दिल्ली मॉडल के सहारे छोड़ने की कोशिश कर रही है। उसी मॉडल में खामियां निकालने के लिए भाजपा का प्रतिनिधिमंडल दिल्ली तो आ गया लेकिन भाजपा का यह पैतरा अब उल्टा पड़ता दिखाई दे रहा है। आप विधायक आतिशि मार्लेन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर गुजरात के भाजपा प्रतिनिधिमंडल को आमंत्रित किया है और कहा कि दिल्ली में आप के विधायक गुजरात से आई भाजपा की टीम को दिल्ली के स्कूल और अस्पताल दिखाने में मदद करेंगे। हालांकि गुजरात से आई भाजपा की टीम ने इसका खंडन किया है।

गुजरात भाजपा की टीम के सदस्य अमित ठाकेर का कहना है कि गुजरात भाजपा की एक टीम दिल्ली आई जरूर है, लेकिन यह टीम दिल्ली में केंद्र सरकार व भाजपा के निकायों द्वारा किए गए विकास कार्यो को देखने के लिए आई है। इन विकास कार्यो में सेंट्रल विस्ता जैसे प्रोजेक्ट शामिल हैं। शायद अमित ठाकेर की यह बात दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को समझ नहीं आई और उन्होंने ट्वीट कर कहा कि पता चला कि गुजरात भाजपा की टीम दिल्ली के स्कूल-मोहल्ला क्लिनिक देखने आ रही है। हमने गुजरात की इस टीम के स्वागत के लिए और इन्हें स्कूल व मोहल्ला क्लिनिक दिखाने के लिए 5 विधायकों की टीम बनाई है। दिल्ली की टीम में आम आदमी पार्टी के विधायक सौरभ भारद्वाज, संजीव झा, आतिशी, कुलदीप कुमार और गुलाब सिंह को रखा गया है। मुझे भरोसा है कि गुजरात सरकार भी इसी प्रकार उनका स्वागत करेगी और जहां भी हमारे विधायक चाहें, उन्हें अपने स्कूल और अस्पताल दिखाएगी।”

मनीष सिसोदिया के ट्वीट पर जवाब देते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने उन्हें दिल्ली के स्वस्थ्य एवं शिक्षा पर खुली बहस करने की चुनौती दी है। आदेश गुप्ता ने ट्वीट कर लिखा- आप इधर उधर की बात मत करो। मैं आपको चैलेंज करता हूं स्थान आपका, समय आपका। हो जाए दिल्ली की बदहाल शिक्षा और स्वास्थ्य व्यवस्था पर खुली बहस। आदेश गुप्ता ने कहा कि दिल्ली में इस वक्त 41 फीसदी नॉन टीचिंग स्टॉफ और 42 फीसदी स्थायी शिक्षकों के पद खाली हैं। 80 फीसदी स्कूलों में प्रधानाध्यापक और उपप्रधानाध्यापक नहीं है। 70 फीसदी स्कूलों में साइंस की पढ़ाई तक नहीं होती। इतना ही नहीं केजरीवाल 10वीं और 12वीं में बच्चों के रिजल्ट बेहतर करने के लिए 9वीं और 11वीं में फेल करते हैं।

आज आतिशि ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर 17 सदस्यी भाजपा प्रतिनिधिमंडल के कुछ सदस्यों का नाम लिया और उनके कारनामें भी गिनाएं और उन्होंने कई सारे आरोप भी लगाए। आतिशी ने कहा कि पिछले दो सालों में लगभग 6 हज़ार सरकारी स्कूलों को बंद कर दिया गया और गुजरात में 19000 कमरों की कमी है। यह गुजरात सरकार के आंकड़ें हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा प्रतिनिधिमंडल में वैसे सदस्य भी शामिल हैं जो खुद का निजी स्कूल चलाते हैं और जिनके शिक्षामंत्री रहते हुए गुजरात में सबसे ज्यादा सरकारी स्कूलों को बंद करना पड़ा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: