बुधवार, जुलाई 6Digitalwomen.news

फर्जी वीजा बनवाकर पोलैंड भेजने वाले दम्पति गिरफ्तार होने के बाद जो कहा वह आपको हैरान कर देगी

Delhi Police bust fake visa racket
Delhi Police bust fake visa racket
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

अंतरराष्ट्रीय इमीग्रेशन रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए लोगों को पोलैंड का फर्जी वीजा देने वाले पति-पत्नी को आईजीआई एयरपोर्ट थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी प्रवीण व प्रियंका लोगों को पोलैंड का फर्जी रेजिडेंश वीजा उपलब्ध कराकर विदेश भेजने का झांसा देते थे। मामले की जांच के बाद एक अन्य आरोपी सरबजीत सिंह को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से भारत के 18 पासपोर्ट, 11 डेबिट कार्ड, छह मोबाइल, 7200 रुपये, सात चेक बुक बरामद की गई है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि 15 जून को सरबजीत सिंह भारतीय पासपोर्ट और पोलिश रेजिडेंश वीजा के साथ पेरिस जाने के लिए इमीग्रेशन काउंटर पर पहुंचा। छानबीन के दौरान अधिकारियों को लगा कि पोलैंड का रेजिडेंश वीजा फर्जी है। इस वीजा पर यूवी फीचर्स नहीं हैं। इसके बाद अधिकारियों को धोखा देने की कोशिश का मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। मामले की जांच के लिए एक टीम का गठन किया गया। पूछताछ के दौरान सरबजीत ने पुलिस को बताया कि वह पंजाब पुलिस में एएसआइ जसवीर के संपर्क में आया था और उसने पोलैंड का रेजिडेंश वीजा बनवाने की बात कही। इसके लिए जसवीर ने 12 लाख रुपये की मांग की थी। उसने सरबजीत को बताया कि दिल्ली में प्रियंका व प्रवीण ये काम करते हैं।

सरबजीत ने इस कार्य के लिए 12 लाख रुपये देने की हामी भर दी और 60 हजार रुपये बतौर एडवांस जसवीर को दे दिया। जसवीर ने सरबजीत को प्रियंका और प्रवीण से संपर्क करने को कहा। उसने बताया कि ये दोनों जनकपुरी जिला केन्द्र में स्टायल आफ फ्लाइंग स्टार ओवरसीज प्राइवेट लिमिटेड के नाम से कंपनी चलाते हैं। जसवीर ने सरबजीत के कागजात प्रवीण के वाट्सएप पर भेज दिया। इसके बाद प्रवीण व प्रियंका ने सरबजीत का कान्टीन्यूअस डिस्चार्ज सर्टीफिकेट मुंबई से बनवाया और सरबजीत को भेज दिया। कुछ समय बाद यह सर्टीफिकेट प्रवीण ने सरबजीत से ले लिया और कहा कि पोलिश रेजिडेंश वीजा विशाल उर्फ पाजी नामक शख्स उसे देगा। कुछ समय तक जब वीजा नहीं मिला, तो सरबजीत सीधे विशाल से बात करने लगा। बाद में वह नकली वीजा सरबजीत को उपलब्ध करा दिया और डील के मुताबिक पैसे विशाल को पोलैंड पहुंचने के बाद देने की बात तय हुई।

सरबजीत के गिरफ्तार होने के बाद प्रवीण व प्रियंका अपने द्वारका स्थित किराए के घर से फरार हो गए। वे बार-बार अपनी लोकेशन बदल रहे थे। टेक्निकल सर्विलांस की मदद से पुलिस को पता चला कि ये पति-पत्नी जयपुर में हैं। इसके बाद इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि यूरोप के किसी भी देश का रेजिडेंश वीजा मिलने के बाद उन्हें इसका फायदा मिलता है। इस कारण लोग रेजिडेंश वीजा प्राप्त करना चाहते हैं लेकिन कुछ असामाजिक तत्व लोगों को झांसा देकर ठगी का शिकार बना लेते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: