शुक्रवार, सितम्बर 30Digitalwomen.news

Delhi Agnipath Scheme Protests: अग्निपथ योजना के खिलाफ वरोध करने वालों 18 लोगों को गिरफ़्तार कर दर्ज किया गया मामला

One arrested, 18 detained during Agnipath protest in Delhi
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

अग्निपथ योजना के खिलाफ दिल्ली देहात इलाके में शुक्रवार को प्रदर्शन कर रहे लोगों के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने बाबा हरिदास नगर थाने में एफआईआर दर्ज की है। प्रदर्शन के मामले में दिल्ली में यह दूसरी एफआइआर दर्ज की गई है। हरिदास नगर थाना पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए 18 युवकों को हिरासत में लिए हैं। जबकि एक शख्स को लोगों को भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने गिरफ्तार शख्स पर आईपीसी एक्ट की धारा 186/353/332 में केस दर्ज किया है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को ढांसा बस स्टैंड के सामने स्थित एमसीडी कार्यालय के गेट के सामने हुए खैरा मोड की तरफ से आए 50 से 60 युवक पहुंचे और अग्निपथ योजना को लेकर नारेबाजी शुरू कर दी। लोगों की नारेबाजी और भीड़ के चलते सड़क जाम हो गई।
पुलिस उपायुक्त एम. हर्षवर्धन ने बताया कि ट्रैफिक सुचारू रहे इसलिए पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे। जहां पुलिस टीम ने प्रदर्शनकारियों को सड़क से एक तरफ हटाया। प्रदर्शनकारी पुलिस के समझाने पर हट गए, लेकिन इस दौरान वहां मौजूद सुरेंद्र उर्फ फौजी योजना को लेकर लोगों को भड़काने लगा और नारेबाजी करने लगा। जिसके बाद लोगों ने दोबारा प्रदर्शन शुरू कर दिया।

पुलिस अधिकारी का कहना है कि सुरेंद्र उर्फ फौजी नाम के व्यक्ति ने इस विरोध प्रदर्शन में शामिल होकर भड़काऊ भाषण देने शुरू किए। इसे लेकर उसकी पुलिस के साथ काफी नोकझोंक भी हुई। पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे युवाओं को वहां से हटाकर 18 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया। इन सभी पर प्रीवेंटिव एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। वहीं जनकपुरी के असालतपुर के रहने वाले आरोपी सुरेंद्र शर्मा के खिलाफ धारा 186/353/332 तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिय गया है।

इससे पहले शुक्रवार को भी दिल्ली पुलिस के खुरेजी खास थाने में अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। हालांकि खबर लिखे जाने तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई थी। इस मामले में सोशल मीडिया पर कुछ लोगों के वीडियो वायरल हो गए थे। जो इलाके में माहौल खराब करने के लिए तोड़ फोड़ करते हुए दिखाई दे रहे थे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: