बुधवार, जुलाई 6Digitalwomen.news

तिहाड़ से छूटे बदमाश के स्वागत में पहुंचा काफिला, हंगामा कर रहे 83 बदमाश गिरफ्तार

Delhi: Late-night hooliganism in south Delhi after the release of a friend from Tihar Jail, 83 arrested
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

नई दिल्ली, 18 जून। तिहाड़ जेल में बंद बदमाश के छूटने पर उसके स्वागत में बदमाशों का काफिला तिहाड़ जेल के बाहर पहुंच गया। बदमाशों ने अपने सरगना को दिल्ली का सबसे बड़ा गैंगस्टर बनाने के लिए उसकी आजादी परेड निकाली। जेल से छूटा बदमाश लग्जरी गाड़ी की सनरूफ से बाहर खड़ा होकर अपने समर्थकों का अभिवादन स्वीकार कर रहा था। बदमाशों की आजादी परेड जब दिल्ली कैंट पहुंची, तो दिल्ली पुलिस ने उन्हें रोक लिया। पुलिस ने बदमाशों पर कार्रवाई करते हुए 83 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। जबकि एक नाबालिग को हिरासत में लिया। पुलिस ने बदमाशों की 19 गाड़ियों और 2 बाइकों को जब्त कर लिया। इन सभी गाड़ियों और छतों पर बदमाश बैठे हुए थे। फिलहाल पुलिस सभी को कोर्ट में पेश कर जेल भेज रही है।

जिस सरगना को लेकर ये जश्न चल रहा था वह हत्या और रंगदारी के मामले में जेल में बंद था।
दक्षिण-पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त मनोज सी ने बताया कि आरोपी 37 वर्षीय आबिद अहमद अपने परिवार के साथ तुगलकाबाद एक्सटेंशन इलाके में रहता है। आबिद गोविंदपुरी थाने का घोषित अपराधी है। उस पर 14 से ज्यादा मामले दर्ज है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि वसंतकुंज नॉर्थ थाने में दर्ज हत्या का प्रयास और रंगदारी के मामले में पुलिस ने आबिद को गिरफ्तार किया था। जिसके बाद उसे जेल भेजा गया था। 16 जून को उसे जमानत मिली थी, जिसके बाद तिहाड़ जेल से बाहर आया था। उसके परिजनों ने आबिद के बाहर आने की सूचना उसके गुर्गो को दी थी। जिसके बाद गुर्गो ने आबिद की आजादी परेड निकालने की तैयारी की।

पुलिस सूत्रो का कहना है कि आरोपी आबिद का 16 जून की शाम से ही तिहाड़ के बाहर इंतजार कर रहे थे। देर शाम आबिद जब जेल से बाहर आया तो ढोल नगाड़ों के साथ उसका स्वागत किया गया। उसे लेने के लिए आए लोगों ने उन्हें हार पहनाए और गाड़ी में बैठाकर आजादी परेड़ शुरू की। पुलिस सूत्रो ने बताया कि तिहाड़ जेल से गोविंदपुरी स्थित आबिद के घर तक यह परेड निकाल ने वाले थे। तिहाड़ जेल से गोविंदपुरी इलाका करीब 24.5 किलोमीटर दूर पड़ता है। ऐसे में बदमाश दिल्ली पुलिस को खुल चुनौती दे रहे थे।

सड़क पर हंगामा कर रहे बदमाशों की सूचना मिलने के बाद दिल्ली पुलिस एक्टिव हुई। दक्षिण-पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त मनोज सी के नेतृत्व में दिल्ली कैंट थाना पुलिस ने बैरिगेट्स लगाए और जब बदमाशों का काफिला वहां पहुंचा, तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया। पुलिस ने सभी के बयान लिए और गाड़ियों के दस्तावेजों की जांच के बाद 83 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही पुलिस ने 19 कार और 2 बाइकों को भी जब्त किया।

पुलिस की प्राथमिक जांच में सामने आया कि 83 लोग जो गिरफ्तार किए गए हैं। उनमें से 33 लोग ऐसे हैं, जिन पर आईपीसी की गंभीर धाराओं में केस दर्ज हैं। आरोपियों पर हत्या, हत्या का प्रयास, डकैती जैसी धारा लगी हुई है। जबकि आबिद खुद भी गोविंदपुरी थाने का घोषित अपराधी होने के साथ इलाके का कुख्यात गुंडे हैं। पुलिस अधिकार ने बताया कि आरोपियों ने पूछताछ में बताया है कि उन्होंने आबिद की आजादी परेड़ दक्षिणी, दक्षिण-पश्चिमी और दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के इलाके में अपना वर्चस्व स्थापित करने के लिए यह आजादी परेड़ निकाली। आरोपियों का कहना है कि वह अपने सरगना को दिल्ली का सबसे बड़ा गैंगस्टर बनाना चाहते हैं। ऐसे में उसकी आजादी परेड़ का वीडियो बनाकर वह दूसरे गैंग के लोगों को दिखाते, साथ ही परेड़ की बात बदमाशों के बीच फैल गई थी। जिससे अपराध की दुनिया में उनका दबदबा बढ़ जाता।

Leave a Reply

%d bloggers like this: