शनिवार, दिसम्बर 10Digitalwomen.news

केजरीवाल के ‘दिल्ली में इन्वर्टर और जरनेटर की दुकान बंद होने’ वाले बयान पर राजनीति गरमाई गई है

खुद दुकानदार बता रहे हैं कि दिल्ली में इन्वर्टर और जरनेटर की बिक्री में लगातार बढ़ोतरी हो रही है- आदेश गुप्ता

केजरीवाल बिजली के नाम पर निजी कम्पनियों से सांठ गांठ कर दिल्लीवालों को लूट रहे हैं-आदेश गुप्ता

Arvind Kejriwal again lies about ‘free electricity’
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केरल में जाकर बयान दिया है कि दिल्ली में हमने 24 घण्टे बिजली की ऐसी व्यवस्था की है कि अब बाजार से इन्वर्टर और जरनेटर की दुकाने बन्द हो चुकी है क्योंकि हमने मुफ्त बिजली देने का काम किया है। केजरीवाल के इस बयान के बाद भाजपा नेता इस बात को झूठ साबित करने के पीछे लग गए। पहले पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद मनोज तिवारी ने एक इन्वर्टर की दुकान पर पहुचकर दुकानदार से ही पूछने लगे कि क्या आपके इन्वर्टर की बिक्री में कमी आई है? जिसके जवाब में दुकानदार खुद कहता है कि नहीं बल्कि पहले से और ज्यादा बढोतरी हुई है।

इसके बाद आज दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने इस बिजली प्रकरण मामले में दिल्ली सरकार पर कई आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि बिजली के नाम पर प्राइवेट कंपनियों से सांठगांठ कर लोगों को केजरीवाल सरकार लूटने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि गरीबों की बात करने वाली आम आदमी पार्टी महामारी के वक़्त भी आम जन को नहीं छोड़ा। लॉक डाउन के दौरान जब सभी आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे, उस वक़्त दुकानें बंद थी इसलिए बिजली की खपत 7409 मेगावाट रहीं लेकिन केजरीवाल सरकार ने 22876 मेगा वाट के फिक्स चार्ज के बिल वसूल किया था।

आदेश गुप्ता ने कहा कि कोरोना काल के दौरान सभी राज्यों ने बिजली बिल माफ किये थे लेकिन केजरीवाल ऐसे पहले मुख्यमंत्री थे जिन्होंने आर्थिक मार झेल रहे व्यपारियों से कोरोना काल के दौरान 935 करोड़ रुपये वसूल किये थे। इतना ही नहीं अन्य राज्य सरकारें किसानो को बिजली मुफ्त देती है लेकिन केजरीवाल किसानो से बिजली शुल्क फिक्स चार्ज पर वसूल करते हैं। यह बेहद शर्म की बात है। उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों में जाकर खुद को किसान हितैषी बताने का ढोंग करने वाले केजरीवाल को दिल्ली के किसानो की आवाज सुनाई तक नहीं देती। अपनी मांगों को लेकर लगातार 50 दिनों से अधिक समय तक सीएम आवास के बाहर बैठे किसानों से केजरीवाल के पास मिलने तक का समय नहीं था।

Leave a Reply

%d bloggers like this: