मंगलवार, जुलाई 5Digitalwomen.news

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने डीटीसी की बसों की बर्बादी की जांच सीबीआई से कराने की मांग को लेकर गृहमंत्री अमित शाह को लिखा पत्र

Delhi BJP demands CBI investigation into DTC busses bad conditions
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

नई दिल्ली, 18 मई। पिछले एक महीने के अंदर छह बसों का बीच सड़क पर धू-धू कर जलने से अब बसों में सफर करने वालों के अंदर एक डर बैठ गया है। लोग चाहकर भी बसों में सफर नहीं करना चाहते। एक तो गर्मी से बुरा हाल हो रहा है और यही गर्मी बसों को आग के गोले में परिवर्तन होने का कारण भी बन रही है। इसी को देखते हुए आज प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने इस पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने के लिए माननीय गृहमंत्री श्री अमित शाह को एक पत्र लिखा है। आदेश गुप्ता ने आशंका जताते हुए कहा कि इसलिए 5000 करोड़ रुपये के बजट पर काम करने वाला डीटीसी परिवहन निगम आज बर्बादी के कगार पर पहुंच गया। डीटीसी जो बस के माध्यम से सुविधाएं देता था, आज लोगों की जान ले रहा है। डीटीसी आज पूरी तरह से भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुका है।

Delhi BJP Cheif Adesh Gupta letter to Home Minister Amit Shah

पिछले एक महीने के अंदर ही छह डीटीसी की बसे धू-धू कर जल चुकी है- आदेश गुप्ता

केजरीवाल के लिए पानी से सस्ती हो चुकी है आम आदमी की जान की कीमत- आदेश गुप्ता

आदेश गुप्ता ने आज पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि पिछले एक महीने के अंदर छह डीटीसी बसे धू-धू कर जल गई और यह दिल्ली सरकार की बर्बादी की कहानी बयां कर रही है। केजरीवाल के सत्ता में आने से पहले डीटीसी 6200 बसे थीं जो आज घटकर 3700 रह गई हैं। जबकि दिल्ली की आबादी में पिछले सात सालों में 20 से 25 लाख का इजाफा हुआ है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने खुद कोर्ट में हलफनामा पेश कर कहा था कि दिल्ली में 11000 बसों की जरुरत है। इतना ही घोषणा पत्र में आम आदमी पार्टी ने कहा था कि उनकी सरकार आते ही 11000 बसे लेकर आएंगे। लेकिन उन 11000 बसों का आज भी जनता को इंतजार है।

आदेश गुप्ता ने कहा कि आज डीटीसी की बसें जीती जागती जानलेवा बन गई है। केजरीवाल सरकार ने जिन बसों की उम्र समाप्त हो गई है, उन 1000 बसों को 500 करोड़ रुपये मेंटनेंस के लिए एग्रिमेंट किया। यानि जिन बसों की उम्र समाप्त हो गई है उनके मरम्मत पर 50 लाख रुपये प्रतिवर्ष केजरीवाल सरकार पानी की तरह बहाने का एग्रीमेंट किया हुआ है। उन्होंने कहा कि एक बस की उम्रसीमा 8 से 12 सालों की होती है और आज दिल्ली के अंदर 99 फीसदी बसों की उम्रसीमा 12 साल के पार हो चुकी है। आज डीटीसी के अंदर 32 बसे 12 साल पुरानी है जबकि 3700 बसें 10 से 12 साल पुरानी है। यानि उम्रसीमा को पार कर चुकी बसों को दिल्ली की सड़कों पर चलाकर केजरीवाल लोगों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: