सोमवार, मई 16Digitalwomen.news

मिशन हिमाचल:- क्या राज्यों में होने वाले चुनाव में विकास और राज्य का भविष्य ‘खालिस्तान’ के इर्द गिर्द तय होगा!

Khalistani Flags Put Up At Himachal Pradesh Assembly Complex in Dharamshala
Khalistani Flags Put Up At Himachal Pradesh Assembly Complex in Dharamshala
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

पांच राज्यों में चुनाव होने के बाद अब अगला चुनाव हिमाचल में होना है। हिमाचल में चुनावी फुहारे अब छूटने लगे हैं क्योंकि इसकी आहट आज विधानसभा भवन की दीवारों पर लगी खालिस्तान के झंडे वाली पोस्टरों ने दे दी है। जिस विधानसभा मंदिर से हिमाचल का भविष्य तय होता हो, उसके दीवार पर चिपकाया गया खलिस्तानी झंडे का पोस्टर हिमाचल की भविष्य पर कई सवालिया निशान खड़े कर रहा है। इस तरह की गतिविधियां देश की कानून व्यवस्था को शर्मसार करने की साजिश है और कुछ नहीं।

खालिस्तानी पोस्टर पर जमकर बवाल होना शुरू हो गया है। इस पर सबसे अधिक बवाल देश को बदलने और एक अलग राजनीति करने का दावा करने वाली आम आदमी पार्टी ने किया। हालांकि उसके इस दावे में कितनी सच्चाई है और खालिस्तानी झंडे के पीछे किसकी भूमिका है, इन दोनों की परतें समय दर समय खुलेगी जरूर, लेकिन पूरा विवाद फ़िलहाल दो राजनैतिक दलों के बीच हो रहा है भाजपा और आम आदमी पार्टी। क्योंकि आप को हिमाचल में कुछ उम्मीद की किरणें दिखती नजर आ रही है और भाजपा दोबारा से सत्ता में आने की कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती।

इस मुद्दे पर कई नेताओं में ट्वीट किया जिसके बाद इस मुद्दे पर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट करके जयराम ठाकुर की बर्खास्तगी तक मांग कर डाली। उन्होंने अपने ट्वीटर पर लिखा,

बेहद कड़ी सुरक्षा वाले हिमाचल विधासभा भवन पर ख़ालिस्तानी झंडा सुरक्षा की बहुत बड़ी नाकामी है। हिमाचल के मुख्यमंत्री को तुरंत इस्तीफ़ा देना चाहिए या फिर केंद्र सरकार को तुरंत जयराम ठाकुर सरकार को बर्खास्त करना चाहिए।

इसके बाद उन्होंने एक और ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा

पूरी भाजपा एक गुंडे को बचाने में लगी है और उधर ख़ालिस्तानी झंडे लगाकर चले गए। जो सरकार विधान सभा ना बचा पाए, वो जनता को कैसे बचाएगी। ये हिमाचल की आबरू का मामला है, देश की सुरक्षा का मामला है। भाजपा सरकार पूरी तरह फेल हो गयी।

मनीष सिसोदिया के इन दोनों ट्वीट के बाद प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने ट्वीट कर कहा,

“जो सरकार खुद खालिस्तान समर्थक हो, जिनके पूर्व नेता स्पष्ट करते हो कि किसकी मंशा खालिस्तान के प्रधानमंत्री बनने की है। जिनके शासित प्रदेश पंजाब में खालिस्तान मुर्दाबाद के नारों पर पुलिस पकड़ने आ जाती हो, उनके मुंह से देश की आबरू और सुरक्षा की बातें शोभा नहीं देती।”

आदेश गुप्ता ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि आज आम आदमी पार्टी खालिस्तानी समर्थक पार्टी बन गई है। खुद आतंकवादी पन्नू भी आरोप लगा चुका है कि पंजाब चुनाव जीतने के लिए हमने विदेशों में चंदे दिए थे। हिमाचल प्रदेश में चुनाव शुरू हो रहा है तो हिमाचल को बदनाम करने के लिए विधानसभा भवन के बाहर खालिस्तानी झंडा लगाया गया है। उन्होंने कहा कि खालिस्तानी शक्तियां अपना रंग भी दिखाने लगी। पहले पटियाला में रंग दिखाया गया और आज धर्मशाला में विधानसभा भवन के दीवार पर खलिस्तानी झण्डा लगाना कोई संयोग नहीं बल्कि एक प्रयोग हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: