गुरूवार, जुलाई 7Digitalwomen.news

Char Dham Yatra 2022: Uttarakhand Govt Issues Guidelines. Details Here

चारों धामों के कपाट खुलने और देव डोलियों के निकलने का कार्यक्रम तय, यह है पूरा शेड्यूल

Uttarakhand Govt Issues Guidelines. Details Here
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

चार धाम आने वाले तीर्थ यात्रियों के लिए खुशखबरी है। इस साल गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने और देव डोलियों के निकलने के कार्यक्रम तय हो गए हैं। इसके साथ पवित्र हेमकुंड साहिब के भी धाम के कपाट खुलने की तिथि की घोषणा कर दी गई है। तीन मई को अक्षय तृतीया के पर्व पर उत्तरकाशी जिले में स्थित गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ ही इस वर्ष की चारधाम यात्रा शुरू हो जाएगी। केदारनाथ का कपाट छह मई को जबकि बद्रीनाथ मंदिर के कपाट आठ मई को खोला जाएगा। यह कार्यक्रम इस प्रकार हैं। पहले गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने की शुरुआत होगी। ‌‌मंदिर समिति गंगोत्री एवं मंदिर समिति यमुनोत्री से प्राप्त जानकारी के अनुसार गंगोत्री धाम के कपाट 3 मई मंगलवार दोपहर 11:15 पर खुलेंगे। ऐसे ही उसी दिन 3 मई प्रातः काल यमुना जी की डोली (खुशीमठ) खरसाली से प्रस्थान करेगी। दोपहर 12:15 पर पूरे विधि विधान के साथ यमुनोत्री के कपाट खोले जाएंगे। ऐसे ही बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़ ने जानकारी देते हुए बताया है कि केदारनाथ धाम कपाट 6 मई शुक्रवार को खोले जाएंगे। उससे पहले भगवान केदारनाथ जी की पंचमुखी डोली भैरव पूजा के साथ 1 मई को धाम में प्रस्थान करेगी। 2 मई सोमवार प्रात: 9 बजे होगा प्रथम पड़ाव विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी प्रवास रहेगा, 3 मई मंगलवार गुप्तकाशी से 8 बजे प्रात: फाटा प्रस्थान एवं प्रवास रहेगा। 4 मई फाटा से प्रात: 8 बजे श्री गौरामाई मंदिर गौरीकुंड प्रस्थान एवं प्रवास गौरीकुंड रहेगा। 5 मई गौरीकुंड से प्रात: 6 बजे भगवान की पंचमुखी डोली गौरीकुंड से केदारनाथ धाम प्रस्थान करेगी। 6 मई शुक्रवार प्रात: 6 बजकर 15 मिनट पर केदारनाथ धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे। ऐसे ही भगवान बदरीनाथ धाम के कपाट 8 मई को खुलेंगे। मीडिया प्रभारी हरीश गौड़ ने बताया कि देवडोली प्रस्थान कार्यक्रम के अंतर्गत 6 मई शुक्रवार प्रात: 9 बजे श्री नृसिंह मंदिर जोशीमठ से आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी एवं तेल कलश गाडू घड़ा सहित बद्रीनाथ धाम के रावल योग ध्यान बदरी प्रस्थान एवं प्रवास पांडुकेश्वर रहेगा । 7 मई शनिवार प्रात: योग बदरी पांडुकेश्वर से आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी, रावल जी सहित देवताओं के खजांची कुबेर जी एवं भगवान के सखा उद्धव जी, गाडू घड़ा तेल कलश बद्रीनाथ धाम को पांडुकेश्वर से प्रात: 9 बजे श्री बदरीनाथ धाम को प्रस्थान कर बद्रीनाथ धाम पहुंचेेंगे। 8 मई प्रात: 6 बजकर 25 मिनट पर पूरे विधि विधान के साथ बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलेंगे। इसी प्रकार पवित्र हेमकुंड साहिब एवं लोकपाल तीर्थ के कपाट 22 मई को खुलेंगे।

चारधाम यात्रियों के लिए बॉर्डर पर अब नहीं होगी कोविड की जांच–

चौथी लहर को देखते हुए पहले उत्तराखंड सरकार चार धाम आने वाले यात्रियों को बॉर्डर पर कोविड-19 टेस्ट करने की तैयारी शुरू कर दी थी । लेकिन अब सरकार ने बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए इन कोविड टेस्ट और सर्टिफिकेट दिखाने की अनिवार्यता खत्म कर दी है। शुक्रवार देर रात उत्तराखंड सरकार ने अधिसूचना जारी की। राज्य के मुख्य सचिव डॉ एस एस संधू ने बताया कि उत्तराखंड के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के खिलाफ कोविड टेस्ट और वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट पेश करने की जरूरत नहीं होगी। इसके साथ ही राज्य की सीमा पर पर्यटकों को किसी प्रमाण पत्र के दिखाने की भी जरूरत नहीं होगी। बता दें कि पिछले दो सालों से कोविड-19 की वजह से चारधाम यात्रा रोक दी गई थी। चारों धामों के करीब और रास्ते में पड़ने वाले होटल और धर्मशालाएं यात्रा शुरू होने से पहले ही बुक हो चुके हैं। इसके साथ ही पर्यटन विभाग के पोर्टल पर भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पंजीकरण करवा चुके हैं। करीब 2 लाख श्रद्धालुओं ने चारधाम यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: