बुधवार, दिसम्बर 7Digitalwomen.news

Hanuman Jayanti 2022: संकटों को दूर करते हैं ‘संकट मोचन’, प्रभु और भक्त के रूप में की जाती है हनुमान जी की पूजा

आप सभी को श्री हनुमान जन्मोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाइयां।

Hanuman Jayanti 2022
Hanuman Jayanti 2022
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के प्रिय भक्त प्रभु हनुमान जी का आज का जन्मोत्सव पूरे देश भर में धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। ‌‌बजरंगबली भगवान के साथ प्रभु राम के भक्त भी हैं। इन्हें हनुमान, संकट मोचन, मारुति नंदन, पवन पुत्र, अंजनी पुत्र और बजरंगबली समेत कई नामों से बुलाते हैं। कहा जाता है कि संसार में ऐसा कोई संकट नहीं है, जिसका समाधान परम शक्तिशाली हनुमान पर न हो। संकट के समय उन्हें याद करे तो वे अपने भक्त की मदद के लिए जरूर पहुंचते हैं। हनुमान जी की भगवान और भक्त के रूप में भी पूजा की जाती है। ‌‌हिंदू पंचांग के अनुसार हर वर्ष चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की उदया तिथि पूर्णिमा पर हनुमान जी का जन्मोत्सव मनाया जाता है। इस दिन को पूरे भारत में हनुमान जयंती के नाम से जाना जाता है। हनुमान मंदिरों को भव्य रूप से सजाया गया है। बता दें कि आज गुजरात के मोरबी में पीएम नरेंद्र मोदी 108 फुट ऊंची हनुमान प्रतिमा का अनावरण करेंगे। चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि पर भगवान शिव के 11वें रुद्रावतार यानी संकटमोचन हनुमान का जन्म हुआ था। इन्हें संकटों और विपत्तियों को दूर करने वाले देवता भी कहा जाता है। मनुष्य जब-जब अपने आपको परेशान और संकटों से घिरा रहता है तब और वह हनुमान जी की शरण में जाता है। ‌भक्तों को विश्वास है कि बजरंगबली उनकी परेशानी दूर कर देते हैं। हनुमान की उपासना के लिए यह दिन बहुत ही उत्तम माना गया है। इस बार हनुमान जयंती पर कई शुभ संयोग बन रहे हैं। गजकेसरी, शंख, विमल और समाधि नाम के चार राजयोग बन रहे हैं। साथ ही रवियोग भी दिनभर रहेगा। वहीं 31 साल बाद हनुमान जयंती पर शनि अपनी ही राशि यानी मकर में हैं और शनिवार भी है। हर मंगलवार को हनुमान जी का पूजा-पाठ करने का दिन होता है। हनुमान जयंती की धूम पूरे भारत में होती है। इस दिन हनुमान मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ रहती है। कहा जाता है जयंती के दिन विधि अनुसार हनुमान जी की पूजा करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। हनुमान जयंती के दिन भगवान राम की पूजा-अर्चना करने से भी हनुमान जी प्रसन्न होते हैं। हनुमान जयंती पर भगवान राम की पूजा किए बिना हनुमान जी की पूजा अधूरी मानी गई है। कहा जाता है कि हनुमान जी की पूजा करने वाले भक्तों की सभी परेशानियां भी दूर हो जाती हैं।

इस बार जयंती पर हनुमान चालीसा को लेकर गरमाई सियासत–

कई दिनों से महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों में मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने को लेकर सियासत भी गरमाई हुई है। ‌कई हिंदू संगठनों ने हनुमान जयंती पर हनुमान चालीसा का पाठ करने का एलान किया है। मामला महाराष्ट्र से शुरू होकर कई राज्यों में फैल गया है। ‘महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना’ (एमएनएस) के अध्यक्ष राज ठाकरे ने महाराष्ट्र में मस्जिदों से लाउडस्पीकर की आवाज कम करने और हटाने के लिए बड़े पैमाने पर आंदोलन छेड़ रखा है। पिछले दिनों मुंबई के नजदीक थाणे में एक मंच पर राज ठाकरे ने मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने के लिए अल्टीमेटम भी दिया हुआ है। जिसके बाद महाराष्ट्र की राजनीति गरमाई हुई है। इस बीच राज ठाकरे ने‌ आज हनुमान जयंती के मौके पर चेतावनी देते हुए एलान किया है कि वह पुणे में हनुमान चालीसा का महापाठ करेंगे। मनसे ने पोस्टर जारी कर राज ठाकरे द्वारा की जाने वाली इस महाआरती में शामिल होने का एलान किया है। पुणे के खालकर चौक, मारुति मंदिर में आज शाम 6 बजे हनुमान चालीसा के पाठ का आयोजन मनसे ने किया है। मनसे द्वारा इसे लेकर एक पोस्टर जारी किया है जिसमें राज ठाकरे को हिंदू जननायक के रूप में दिखाया गया है। बता दें कि राज ठाकरे की मस्जिदों से लाउडस्पीकर उतारने की चेतावनी को लेकर महाराष्ट्र के सियासत गरमाई हुई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी कई हिंदू संगठन आज जयंती पर हनुमान चालीसा करने की तैयारी कर रहे हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: