रविवार, नवम्बर 27Digitalwomen.news

पीएम मोदी और स्कॉट मॉरिसन के बीच आज होगा दूसरा वर्चुअल शिखर सम्मेलन, कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा

Second India-Australia Virtual Summit Starts Today
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के साथ एक वर्चुअल सम्मेलन में शामिल होंगे।
इस दौरान दोनों देश के नेताओं के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा करेंगे।

वहीं मिली जानकारी के मुताबिक, ‘अर्ली हार्वेस्ट ट्रेड एग्रीमेंट’ के नाम से जाने जाने वाले भारत-ऑस्ट्रेलिया अंतरिम व्यापार समझौता भी इसी महीने संपन्न होगा। वहीं साझेदारी को बढ़ावा देने के लिए दोनों देश ऑस्ट्रेलिया के कैनबरा में एक केंद्र भी बनाएंगे। अंतरिक्ष, साइबर गतिविधियों, प्रौद्योगिकी, कृषि, शिक्षा और प्रसारण पर भी घोषणाएं होंगी।

इस शिखर सम्मेलन को लेकर बीते शुक्रवार को ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मॉरिसन ने कहा था कि हम अपने कारोबारी व निवेश संबंधों को मजबूत करने पर चर्चा करेंगे और पारस्परिक आर्थिक वृद्धि को लेकर नए अवसरों पर बात करेंगे। उन्होंने कहा था कि हम यूक्रेन में हालात और हिंद प्रशांत व म्यांमार पर इसके प्रभाव पर भी बात करेंगे। उन्होंने दोनों देशों के बीच मजबूत होते संबंधों को बहुत महत्वपूर्ण करार दिया था।

इसके अलावा जानकारी के अनुसार सम्मेलन के बाद मॉरिसन भारत में विभिन्न क्षेत्रों में 1500 करोड़ रुपये के निवेश का एलान करेंगे। यह ऑस्ट्रेलियाई सरकार की ओर से भारत में अब तक का सबसे बड़ा निवेश होगा। उधर, समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि भारत और ऑस्ट्रेलिया महत्वपूर्ण खनिजों के क्षेत्र में एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करेंगे।
इससे भारत को ऑस्ट्रेलिया से धात्विक कोयला और लिथियम हासिल करने में पहुंच बढ़ाने में मदद मिलेगी।

बता दें कि पिछले कुछ वर्षों में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच संबंध काफी मजबूत हुए हैं। कारोबार समेत अन्य क्षेत्रों में दोनों के संबंध प्रगाढ़ हुए हैं। जून 2020 में भारत और ऑस्ट्रेलिया ने अपने संबंधों को एक व्यापक रणनीतिक साझेदारी के तहत बढ़ाया था। वहीं जन सुरक्षा के मद्देनजर दोनों देशों ने लॉजिस्टिक्स सहयोग के लिए एक ऐतिहासिक समझौते ‘म्युचुअल लॉजिस्टिक्स सपोर्ट एग्रीमेंट’ (एमएलएसए) पर हस्ताक्षर किए थे। यह समझौता दोनों देशों की सेनाओं को समग्र रक्षा सहयोग बढ़ाने की सुविधा के अलावा अन्य कार्यों के लिए एक दूसरे के ठिकानों का उपयोग करने की अनुमति देता है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: