गुरूवार, जुलाई 7Digitalwomen.news

रूस के खिलाफ अमेरिका ने किए बड़ा ऐलान, कहा रूस को चुकानी पड़ेगी बड़ी कीमत

Dictators must pay a price: Joe Biden
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

रूस और यूक्रेन देशों में चल रही जंग के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने आज स्टेट ऑफ द यूनियन को संबोधित किया।
इस दौरान जो बाइडेन ने अपने संबोधन में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर यूक्रेन के खिलाफ तानाशाही का आरोप लगाया है। जो बाइडेन ने कहा कि पुतिन की गलती रूस के अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर देगी। इसके अलावा अमेरिकी राष्ट्रपति ने आज अमेरिकी संसद में बड़ा एलान करते हुए कहा कि, अमेरिका ने रूस के लिए अपने एयरस्पेस को बंद करने का निर्णय लिया है। इसके तहत अब कोई भी रूसी विमान अमेरिका में नहीं घुस सकेगा। बता दें कि नाटो के कई देश पहले ही रूस के लिए अपना एयरस्पेस बंद कर चुके हैं।

जो बाइडेन के संबोधन की महत्वपूर्ण बातें:
1.अमेरिका ने रूस के लिए अपने एयरस्पेस को बंद करने का निर्णय लिया है।
2: अमेरिका यूक्रेन के साथ मजबूती के साथ खड़ा रहेगा। अमेरिका और हमारे सहयोगी सामूहिक शक्ति के साथ नाटो क्षेत्र के हर इंच की रक्षा करेंगे। यूक्रेनियन साहस के साथ लड़ रहे हैं। पुतिन को युद्ध के मैदान में लाभ हो सकता है, लेकिन उन्हें लंबे समय तक इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी।

3.बाइडन ने कहा कि पूरा यूरोपीय संघ मिलकर काम कर रहा है। हम पुतिन और उनके सहयोगियों की सम्पत्ति को जब्त कर रहे हैं और आगे भी करेंगे।

4.अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने यूक्रेन के लिए 100 करोड़ डॉलर की मदद देने का एलान भी किया है।

5.अपने संबोधन में जो बाइडन ने एक बार फिर से स्पष्ट कर दिया कि हम रूस के खिलाफ हर तरह के प्रतिबंध लगाएंगे लेकिन युद्ध के लिए अपनी सेना को नहीं भेजेंगे।

6.बाइडन ने चेतावनी देते हुए कहा कि हम नाटो की धरती पर कभी भी किसी को कब्जा करने नहीं देंगे। नाटो की जमीन की हर हाल में रक्षा करेंगे। इसके एक इंच पर भी किसी को कब्जा करने नहीं देंगे।

7.अपने संबोधन के दौरान राष्ट्रपति बाइडन ने कहा कि रूस के खिलाफ यूरोपीय संघ एक जुट होकर खड़ा है। उन्होंने कहा कि पुतिन की तानाशाही रोकने के लिए ये देश हर कदम उठा रहे हैं। यूरोपीय संघ के देश रूस में शासन करने वाले लोगों की नावों, उनके लग्जरी अपार्टमेंट, निजी जेट विमानों को जब्त कर रहे हैं।

8.जो बाइडन ने अपने संबोधन में कहा कि इतिहास से हमने यह सीखा है कि जब तानाशाह को उनके आक्रमण की कीमत नहीं चुकानी पड़ती है तो वे ज्यादा अराजक हो जाते हैं। जिसकी कीमत दुनिया के अन्य देश उठाते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: