सोमवार, अक्टूबर 3Digitalwomen.news

यूक्रेन से भारतीयों को वापस लाने के लिए चार मंत्रियों को यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भेजे जाने की तैयारी, जल्द हीं तैयार किए जाएंगे आगे की रणनीति

Russia-Ukraine War: Indian ministers to leave for countries bordering Ukraine tonight
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

रूस और यूक्रेन के बीच हो रहे युद्ध से अन्य देशों में भी परेशानियों के बादल छाए हैं। ऐसे में भारत सरकार की चिंता भी यूक्रेन में फंसे भारतीयों के लिए बढ़ रही है। इस मामले के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एक बार फिर से उच्च स्तरीय आपात बैठक बुलाई है।
वहीं सूत्रों के मुताबिक, यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों की निकासी के लिए केंद्र सरकार ने चार केंद्रीय मंत्रियों को यूक्रेन के सीमावर्ती देशों में भेजने का निर्णय लिया है।
न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, यूक्रेन के सीमावर्ती देशों में भेजे जाने वाले नेताओं की सूची में केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, किरण रिजिजू व जनरल वीके सिंह का नाम है। ये मंत्री निकासी मिशन के लिए अन्य देशों के साथ समन्वय स्थापित करेंगे और वहां फंसे भारतीय छात्रों की मदद करने के का काम करेंगे।

बता दें कि भारतीय छात्रों की निकासी के लिए केंद्र सरकार की ओर से ऑपरेशन गंगा की शुरुआत की गई थी। इस मिशन के तहत अब तक पांच फ्लाइट यूक्रेन में फंसे छात्रों को लेकर दिल्ली लौट चुकी हैं। और आज हीं सुबह एक फ्लाइट 249 छात्रों को लेकर दिल्ली पहुंची। इससे पहले 26 फरवरी को एक और 27 फरवरी को तीन फ्लाइट रोमानिया के रास्ते दिल्ली लौटी थीं।

भारत सरकार के द्वारा जारी किए गए बयान में बताया गया है कि मौजूदा समय में यूक्रेन में लगभग 20 हजार छात्र और अन्य लोग भारतीय लोग रह रहे थे जिनमें से करीब 1100 छात्रों को यूक्रेन से निकाला जा चुका है, आर लगभग 18000 लोग अभी भी यूक्रेन में फंसे हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: