शुक्रवार, जुलाई 1Digitalwomen.news

Indian Railways-IRCTC: रेलवे में बड़े बदलाव, अब चार्ट बनने के बाद भी टिकट कैंसिल करने पर मिलेगा रिफंड, जानें कैसे पाएं रिफंड

JOIN OUR WHATSAPP GROUP

भारत में प्रतिदिन लगभग लाखो लोग रेलवे यात्रा करते हैं। और शायद इसी वजह से रेलवे को देश की लाइफ लाइन भी कहा जाता है।
भारतीय रेलवे अक्सर अपने यात्रियों को बेहतर सुविधा देने के लिए कई बदलाव भी करती है। वहीं अब रेलवे के क्षेत्र में बदलाव के लिए भारतीय रेलवे ने अब एक और बड़ा कदम उठाया है। अब आप चार्ट तैयार होने के बाद भी अपने ट्रेन टिकट को कैंसिल करवा सकते हैं और आपको कैंसिलेशन पर रिफंड भी मिल सकता है। आईआरसीटीसी ने इस बात की जानकारी दी है कि चार्ट तैयार होने के बाद भी अगर आप टिकट को कैंसिल कराते हैं, तो इस स्थिति में आप रिफंड का दावा कर सकते हैं। आईआरसीटीसी ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो को शेयर करते हुए इस बारे में बताया है कि भारतीय रेलवे बिना यात्रा या आंशिक रूप से यात्रा किए गए टिकटों को कैंसिल करने पर रिफंड इश्यू करता है। अगर आप भी ऐसी स्थिति में रिफंड चाहते हैं, तो आपको टिकट डिपॉजिट रसीद यानी (TDR) भरकर जमा करना होगा। टीडीआर भरकर जमा करना काफी आसान है। इसमें आपको किसी भी प्रकार की दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

आइए जानते कैसे आप टीडीआर को जमा करके पा सकते हैं रिफंड:

रिफंड पाने के लिए सबसे पहले आपको www.irctc.co.in वेबसाइट पर जाकर होम पेज पर My Account के ऑप्शन पर क्लिक करें।

अब आपको ड्रॉप डाउन मेन्यू में जाकर My Transaction के ऑप्शन पर क्लिक करें।

यहां आपको File TDR के ऑप्शन पर क्लिक करके किसी एक ऑप्शन पर चयन करके टीडीआर को भरें।

नेक्स्ट स्टेप पर आपको उस व्यक्ति की जानकारी दिखाई देगी, जिसका आपने टिकट बुक किया था। इस प्रोसेस को करने के बाद आपको अपना पीएनआर नंबर, ट्रेन नंबर कैप्चा कोड दर्ज करके रद्द करने के नियमों के बॉक्स पर क्लिक करना है।

इसके बाद आपको सबमिट के बटन का चयन करना है। कुछ समय बाद आपके नंबर पर एक ओटीपी आएगा। ओटीपी को दर्ज करके सबमिट कर दें।

अब आपको पीएनआर डिटेल्स को वेरीफाई करना है। उसके बाद रद्द टिकट के ऑप्शन को सेलेक्ट करें।

अगले चरण पर आपको रिफंड की राशि शो होगी। बुकिंग के समय जो आपने नंबर दिया था। उस पर कन्फर्मेशन मैसेज आएगा। इस मैसेज में पीएनआर और रिफंड की पूरी जानकारी होगी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: