मंगलवार, मई 17Digitalwomen.news

Maharaja returns home: Tata Group Officially Takes Over Air India

69 साल बाद एयर इंडिया की हुई घर वापसी, नए नियमों के मुताबिक समय सारणी और यात्रियों के भोजन पर दिया जाएगा खास ध्यान

Maharaja returns home: Tata Group Officially Takes Over Air India
JOIN OUR WHATSAPP GROUP

आज 69 साल बाद एयर इंडिया की घर वापसी हो गई है और एक बार फिर से एयर इंडिया की कमान पूरी तरह से टाटा समूह को सौंप दी गई है। एयर इंडिया में सरकार की पूरी हिस्सेदारी टाटा संस की सब्सिडियरी कंपनी टैलेस प्राइवेट लिमिटेड को ट्रांसफर कर दी गई है जिसके बाद अब से एयर इंडिया का नया मालिक टाटा ग्रुप हो गया है।

N Chandrasekaran, the Chairman of Tata Sons called on Prime Minister Narendra Modi today ahead of official handover of Air India to Tata Group

इस आधिकारिक हैंडओवर से पहले टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दिल्ली उनके आवास स्थान पर मुलाकात की। पीएम मोदी से मुलाकात के बाद चंद्रशेखरन सीधे नई दिल्ली में एयर इंडिया के ऑफिस पहुंचे। इस मौके पर टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने कहा कि यह प्रक्रिया पूरी हो गई है। एयर इंडिया की घर वापसी से हम काफी खुश हैं। अब हमारी कोशिश इस एयरलाइन को वर्ल्ड क्लास बनाने की है।

मालूम हो कि 8 अक्टूबर को सरकार द्वारा लगाई गई प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया में एयर इंडिया ने यह बोली जीत ली थी जिसके बाद 18,000 करोड़ रुपये में एयर इंडिया को टैलेस प्राइवेट लिमिटेड को बेच दिया था। यह टैलेस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी की अनुषंगी इकाई है।

बता दें कि सबसे पहले इसकी शुरुआत गुरुवार को मुंबई से संचालित होने वाली चार उड़ानों में ‘उन्नत भोजन सेवा’ शुरू करके एयर इंडिया ने अपना पहला कदम उठाया। अधिकारियों ने स्पष्ट किया है कि चार उड़ानों AI864 (मुंबई-दिल्ली), AI687 (मुंबई-दिल्ली), AI945 (मुंबई-अबू धाबी) और AI639 (मुंबई-बेंगलुरु) में ‘उन्नत भोजन सेवा’ दी गई है।

वहीं नई सेवाओं के संबंध में टाटा समूह की ओर से केबिन क्रू के सदस्यों को एक मेल भी भेजा गया था। एक रिपोर्ट के मुताबिक, कमान संभालने के बाद ही टाटा समूह सबसे पहले एयर इंडिया के लेट लतीफी वाले दाग को साफ करेगा। टाटा समूह की पहली कोशिश होगी कि एयर इंडिया की फ्लाइट का संचालन समय पर हो सके। केबिन क्रू सदस्यों को भेजे गए मेल में कहा गया है कि अगले सात दिन हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण होंगे क्योंकि हम अपनी छवि, दृष्टिकोण और धारणा को बदल देंगे। टाटा के संदीप वर्मा और मेघा सिंघानिया द्वारा कहा गया कि केबिन क्रू सदस्य ब्रांड/छवि निर्माण में अहम भूमिका निभाने वाले ‘महत्वपूर्ण ब्रांड एंबेसडर’ हैं। वे यात्रियों का स्वागत करेंगे, मेहमानों को संबोधित करेंगे और उनकी सेवा करेंगे। उन्होंने कहा कि चालक दल नियमों का पालन करते हुए स्मार्ट ड्रेस पहने नजर आएंगे। इसके साथ ही ग्रूमिंग सहयोगी चालक दल का निरीक्षण करेंगे।

एयर इंडिया की पहली उड़ान:

Maharaja returns home: Tata Group Officially Takes Over Air India

एयर इंडिया के पुराने इतिहास के मुताबिक इसकी शुरुआत अप्रैल 1932 में हुई थी। इसकी स्थापना उद्योगपति जेआरडी टाटा ने की थी। उस समय एयरलाइन का नाम टाटा एयरलाइंस था। इसके साथ ही आपको बता दें कि एयरलाइन की पहली कॉमर्शियल उड़ान 15 अक्तूबर 1932 को भरी गई थी। तब सिर्फ सिंगल इंजन वाला ‘हैवीलैंड पस मोथ’ हवाई जहाज था, जो अहमदाबाद-कराची के रास्ते मुंबई गया था। उस समय इस प्लेन में एक भी यात्री नहीं था बल्कि 25 किलो चिट्ठियां रखी गई थीं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: