रविवार, जनवरी 29Digitalwomen.news

उत्तराखंड के लोक पर ‘इगास’ पर सीएम धामी ने की अवकाश की घोषणा, जानते हैं यह कब और क्यों मनाया जाता है

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने 10 नवंबर को बिहार, झारखंड पूर्वी यूपी के महापर्व छठ पूजा पर राज्य में सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की थी। आज एक बार फिर मुख्यमंत्री धामी ने उत्तराखंड का स्थानीय लोक पर्व इगास पर छुट्टी की घोषणा की है। सीएम धामी ने बाकायदा इसे अपने टि्वटर हैंडल पर स्थानीय भाषा में ट्वीट किया। सीएम धामी के ट्वीट करते ही उत्तराखंड ही नहीं बल्कि अन्य राज्यों के लोग देवभूमि के लोक पर्व इगास को लेकर सर्च करने लगे साथ ही इस पर्व के बारे में एक दूसरे से संपर्क भी करने लगे। मुख्यमंत्री धामी सरकार ने लोक पर्व इगास पर अवकाश घोषित किया, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ट्वीट कर जानकारी दी । गुरुवार शाम उन्‍होंने ट्वीट किया, उत्तराखण्ड की समृद्ध लोकसंस्कृति कु प्रतीक लोकपर्व ‘इगास’ पर अब छुट्टी रालि। हमारू उद्देश्य च कि हम सब्बि ये त्यौहार तै बड़ा धूमधाम सै मनौ, अर हमारि नई पीढी भी हमारा पारंपरिक त्यौहारों से जुणि रौ। अब आइए जान लेते हैं इगास लोक पर्व क्या है और कब मनाया जाता है। यह मुख्य रूप से गढ़वाल क्षेत्र में मनाया जाता है।

दीपावली के 11 दिन बाद मनाया जाता है उत्तराखंड का इगास लोक पर्व—

उत्तराखंड में बग्वाल, इगास मनाने की परंपरा है। दीपावली को यहां बग्वाल कहा जाता है, जबकि बग्वाल के 11 दिन बाद एक और दीपावली मनाई जाती है, जिसे इगास कहते हैं। पहाड़ की लोक संस्कृति से जुड़े इगास पर्व के दिन घरों की साफ-सफाई के बाद मीठे पकवान बनाए जाते हैं और देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। साथ ही गाय व बैलों की पूजा की जाती है। शाम के वक्त गांव के किसी खाली खेत अथवा खलिहान में नृत्य के भैलो खेला जाता है। भैलो एक प्रकार की मशाल होती है, जिसे नृत्य के दौरान घुमाया जाता है। इगास पर पटाखों का प्रयोग नहीं किया जाता है। यहां हम आपको बता दें कि उत्तराखंड में 4 बग्वाल होती है, पहली बग्वाल कर्तिक माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को होती है। दूसरी अमावस्या को पूरे देश की तरह गढ़वाल में भी अपनी लोक परंपराओं के साथ मनाई जाती है। तीसरी बग्वाल बड़ी बग्वाल (दिवाली) के ठीक 11 दिन बाद आने वाली, कर्तिक मास शुक्ल पक्ष की एकादशी को मनाई जाती है। गढ़वाली में एकादशी को इगास कहते हैं। इसलिए इसे इगास बग्वाल के नाम से जाना जाता है। चौथी बग्वाल आती है दूसरी बग्वाल या बड़ी बग्वाल के ठीक एक महीने बाद मार्गशीष माह की अमावस्या तिथि को। इसे रिख बग्वाल कहते हैं यह गढ़वाल के जौनपुर, थौलधार, प्रतापनगर, रंवाई, चमियाला आदि क्षेत्रों में मनाई जाती है।

इस लोक पर्व मनाने की यह रही है मान्यता—

कहा जाता है कि जब मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे, तो लोगों ने घी के दीये जलाकर उनका स्वागत किया था। लेकिन, गढ़वाल क्षेत्र में भगवान राम के लौटने की सूचना दीपावली के ग्यारह दिन बाद कार्तिक शुक्ल एकादशी को मिली थी, इसलिए ग्रामीणों ने खुशी जाहिर करते हुए एकादशी को दीपावली का उत्सव मनाया था । वहीं दूसरी ओर यह भी मान्यता है कि‌ दिवाली के वक्त गढ़वाल के वीर माधो सिंह भंडारी के नेतृत्व में गढ़वाल की सेना ने दापाघाट और तिब्बत का युद्ध जीतकर विजय प्राप्त की थी और दिवाली के ठीक 11वें दिन गढ़वाल सेना अपने घर पहुंची थी. युद्ध जीतने और सैनिकों के घर पहुंचने की खुशी में उस समय दिवाली मनाई गई थी। एक और ऐसे ही कथा है कि चंबा का रहने वाला एक व्यक्ति भैलो बनाने के लिए लकड़ी लेने जगंल गया था और ग्यारह दिन तक वापस नहीं आया। उसके दुख में वहां के लोगों ने दीपावली नहीं मनाई। जब वो व्यक्ति वापस लौटा तभी ये पर्व मनाया गया और लोक खेल भैला खेला। तब से इगास बग्वाल के दिन दिवाली मनाने और भैलो खेलने की परंपरा शुरू हुई।

Leave a Reply

%d bloggers like this: