शनिवार, अगस्त 13Digitalwomen.news

75th Independence Day: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया भारत की जनता को लाल किले से संबोधित, जानें पीएम मोदी के संबोधन की ख़ास बातें

India celebrates its 75th Independence Day
India celebrates its 75th Independence Day

भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज लाल किले की प्राचीर से आठवीं बार देश को संबोधित किया।
पीएम मोदी ने देश की जनता को स्वतंत्रता दिवस शुभकामनाएं देते हुए कहा कि देश को आगे बढ़ाने वालों का अभिनंदन करता हूं। देश महापुरुषों का ऋणी है। पीएम मोदी ने देश को स्वतंत्रता दिवस मौके पर कई सौगात दिए हैं। आईये जानते हैं पीएम मोदी के संबोधन की खास बातें:

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में यह कहा की मुझे गुजारिश मिलीं कि बेटियां भी सैनिक स्कूल में पढ़ना चाहती हैं। दो-ढाई साल पहले मिजोरम के सैनिक स्कूल में प्रयोग के तौर पर बेटियों को दाखिला देने का फैसला लिया गया था। अब देश के सभी सैनिक स्कूलों में बेटियों का भी एडमिशन हो सकेगा। इन्हें बेटियों के लिए खोल दिया जाएगा।

पीएम मोदी  ने नेशनल हाइड्रोजन मिशन का एलान किया। ऊर्जा के क्षेत्र में यह भारत की नई प्रगति होगी। भारत इससे आत्मनिर्भर बनेगा। इससे ग्रीन जॉब के लिए अवसर खुलेंगे। 

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में भाषा रुकावट नहीं बनेगी। खेल को इसका मुख्य हिस्सा बनाया गया है।अब खेल के प्रति जागरूकता बढ़ी है। पहले माता-पिता कहते थे पढ़ोगे नहीं तो खेलते रह जाओगे, लेकिन आज उनका भी नजरिया बदला है।ओलंपिक भी एक बड़ा टर्निंग प्वाइंट है। बोर्ड का रिजल्ट हो या ओलंपिक का मैदान, बेटियां बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं।

देश के सैंकड़ों पुराने कानूनों को खत्म किया गया। कोरोना काल में भी 15 हजार से ज्यादा अनुपालनों को समाप्त किया गया।  200 साल पहले से एक कानून चला आ रहा था, इसकी वजह से देश के नागरिक को मैपिंग (नक्शा) बनाने की स्वतंत्रता नहीं थी। ऐसे कानूनों का बोझ लेकर चलना ठीक नहीं था। इसलिए गैर जरूरी कानूनों को खत्म किया गया।  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पीएम गति शक्ति योजना जल्द ही लॉन्च होगी। गति शक्ति से यातायात में क्रांति आएगी। गति शक्ति भारत के कायाकल्प का आधार बनेगी। 

पीएम मोदी ने कहा कि मैन्युफैक्चरिंग की दिशा में तेजी से काम चल रहा है। मैन्युफैक्चरिंग से देश की प्रतिष्ठा जुड़ी होती है। आज भारत मोबाइल फोन निर्यात करने वाला देश बन गया है। छोटे स्टार्टअप के साथ सरकार खड़ी है। छोटे शहरों में भी नए स्टार्टअप शुरू हुए हैं।  कोरोना काल में कई स्टार्टअप उभरे हैं। स्टार्टअप हजारों करोड़ तक पहुंच रहे हैं।  

देश ने संकल्प लिया है कि आजादी के अमृत महोत्सव के 75 सप्ताह में 75 वंदेभारत ट्रेनें देश के हर कोने को आपस में जोड़ रही होंगी। आज जिस गति से देश में नए एयरपोर्ट का निर्माण हो रहा है, उड़ान योजना दूर-दराज के इलाकों को जोड़ रही है, वो भी अभूतपूर्व है। 

भारत के पास कोरोना का टीका नहीं होता तो क्या होता, पोलियो की वैक्सीन भारत को मिलने में कितना वक्त लग गया था, लेकिन आज हमें गर्व है कि दुनिया में कोरोना का सबसे बड़ा वैक्सीन कार्यक्रम भारत में चला है। भारत को वैक्सीन के लिए किसी दूसरे देशों पर निर्भर नहीं होना पड़ा। 54 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगवा चुके हैं। कोविन जैसी ऑनलाइन व्यवस्था, डिजिटल सर्टिफिकेट की व्यवस्था सबको आकर्षित कर रहा। 

लालकिले से अपने संबोधन में पीएम मोदी ने अमृत महोत्सव का जिक्र करते हुए कहा कि यह गौरव कल की ओर ले जाएगा। ‘अमृतकाल 25 वर्ष का है, लेकिन इतना लंबा इंतजार नहीं करना है, अभी से जुट जाना है। यही समय है, सही समय है, हमें खुद को बदलना होगा। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और अब सबका प्रयास, लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए आवश्यक है। 

सभी के सामर्थ्य को उचित अवसर देना लोकतंत्र की असली भावना है। जम्मू हो या कश्मीर, विकास का संतुलन अब जमीन पर दिख रहा है। जम्मू कश्मीर में डी-लिमिटेशन कमीशन का गठन हो चुका है और भविष्य में विधानसभा चुनावों के लिए भी तैयारी चल रही है।  लद्दाख भी विकास की अपनी असीम संभावनाओं की तरफ आगे बढ़ चला है। एक तरफ लद्दाख, आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण होते देख रहा है तो वहीं दूसरी तरफ सिंधु सेंट्रल यूनिवर्सिटी लद्दाख को उच्च शिक्षा का केंद्र भी बनाने जा रही है।

सरकारी योजना का लाभ गांव-गांव पहुंच रहा है, सरकारी योजना के लाभ कोई वंचित ना हो इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है। अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि गरीबों को पोषणयुक्त खाद्यन देना सरकार का लक्ष्य है। गांवों की अर्थव्यवस्था बढ़ाने के लिए जोर लगाना होगा। 

किसानों की जमीन लगातार छोटी हो रही है। 80 फीसदी से ज्यादा किसानों के पास 2 हेक्टेयर से कम जमीन है। छोटे किसानों पर पहले ध्यान नहीं दिया गया। आज किसानों के पक्ष में लगातार सकारात्मक फैसले लिए जा रहे हैं। इस फैसले से छोटे किसान सशक्त होंगे। किसानों को नई सुविधाएं देनी होगी। गांव की जमीन विवाद नहीं विकास का आधार बने। इस दिशा में हमें काम करना होगा। 

पीएम मोदी ने कहा कि बंटवारे का दर्द आज भी सीने को छलनी करता है। 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के तौर पर याद किया जाएगा। 

पीएम मोदी ने लाल किले पर मौजूद ओलंपिक खिलाड़ियों के लिए तालियां बजवाकर सम्मान किया। 

ब्लॉक स्तर पर मेडिकल सुविधा बढ़ाने पर जोर देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सरकार इस दिशा में काम कर रही है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: