रविवार, फ़रवरी 5Digitalwomen.news

Pyari Pahadan Restaurant: ढाबे का नाम ‘प्यारी पहाड़न’ रख देवभूमि की बेटी विरोध में घिरी तो नेताओं का मिला साथ

Pyari Pahadan Restaurant
Pyari Pahadan Restaurant

प्यारा पहाड़ शब्द सुनने में अच्छा लगता है और अपनेपन का एहसास कराता है। देवभूमि के सैकड़ों लोकगीतों में भी प्यारा पहाड़ के बोल सुनाई पड़ते हैं। खैर, आज हमारी चर्चा करने का उद्देश प्यारा पहाड़ नहीं है बल्कि ‘प्यारी पहाड़न’ है । बात करेंगे उत्तराखंड की राजधानी देहरादून की। ‌देहरादून वैसे तो पूरे देश में अपने शानदार ‘क्लाइमेट के साथ फैशन और स्मार्ट सिटी’ के रूप में पहचान रखता है। लेकिन कुछ दिनों से शहर का एक ‘ढाबा’ (रेस्टोरेंट) अपने नाम को लेकर सोशल मीडिया में ‘चर्चा’ का विषय बना हुआ है। यही नहीं इस नाम को लेकर नाराजगी भी है तो वहीं लोगों का कहना है कि इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता है। उत्तराखंड में अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियां भी ‘रफ्तार’ पकड़ने लगी है। ऐसे में ढाबे के नाम को लेकर राजनीतिक दलों के नेता भी अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। नेताओं के बयान हम आपको बाद में बताएंगे पहले पूरे मामले को जान लेते हैं, जिसने देहरादून में ‘तूल’ पकड़ लिया है। राजधानी दून का क्षेत्र है ‘कारगी चौक’। इसी के पास बंजारावाला मार्ग पर पौड़ी गढ़वाल जिले की 27 साल की प्रीति मंदोलिया ने अभी कुछ माह पहले एक ढाबे की शुरुआत की थी। ‌प्रीति ने अपने इस ढाबे का नाम ‘प्यारी पहाड़न’ रखा । समय बीतता गया ढाबा ठीक-ठाक चलने लगा। बाहर से आने वाले पर्यटकों में भी यहां खाना खाने की भीड़ लगने लगी। इस रेस्टोरेंट में ‘उत्तराखंड के व्यंजन’ ग्राहकों को परोसे जाते हैं। कुछ दिनों पहले तक ठीक-ठाक चल रहा था। लेकिन वहां के कुछ स्थानीय निवासियों ने इस ढाबे के नाम को लेकर आपत्ति जतानी शुरू कर दी। वहीं कुछ लोगों ने ढाबे की संचालिका प्रीति को जान से मारने की धमकी भी दी। यही नहीं उन लोगों ने यहां आकर हंगामा भी किया। इन लोगों ने ढाबे का नाम प्यारी पहाड़न को लेकर देवभूमि की ‘संस्कृति’ के खिलाफ बताया और इसे महिलाओं के मान सम्मान से जोड़ दिया। प्रीति की शिकायत के बाद आखिरकार पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इसके बाद यह मामला शहर भर में सुर्खियों में आ गया। सोशल मीडिया पर भी इस ढाबे के नाम को लेकर लोगों की समर्थन और विरोध की मिली-जुली प्रतिक्रियाओं का दौर जारी है। विरोध करने वाले लोग इसे उत्तराखंड संस्कृति के नाम पर खिलवाड़ करने का आरोप लगा रहे हैं। वहीं कुछ लोगों का कहना है इसमें कोई गलत नहीं है। ‌उसके बाद इस ढाबे के नाम को लेकर विरोध का शोर नेताओं के कानों में भी गूंज गया।

ढाबे के नाम को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत और आप के नेता समर्थन में आ गए–

राज्य में विधानसभा चुनाव दहलीज पर आ चुका है। ऐसे में राजनीतिक दल मुद्दों को तलाश रहे हैं। मामला महिलाओं से जुड़ा हुआ है ऐसे में नेताओं ने भी कारगी चौक स्थित प्यारी पहाड़न ढाबे की ओर दौड़ लगा दी। ‌ढाबे की संचालिका प्रीति मंदोलिया के समर्थन में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत और आम आदमी पार्टी के नेता रविंद्र जुगरान भी आ गए। बता दें कि पिछले कुछ समय से हरीश रावत देहरादून के सामाजिक मुद्दों को लेकर बढ़-चढ़कर भाग ले रहे हैं। यही नहीं उन्होंने महंगाई, पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि को लेकर सड़कों पर आकर भाजपा सरकार के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन भी करते रहे हैं। ढाबे का नाम प्यारी पहाडन को लेकर भी पूर्व सीएम हरीश रावत ने अपना समर्थन दिया है। रावत ने कहा कि इस रेस्टारेंट में उत्तराखंडी उत्पाद से बने भोजन की चर्चा हो रही है। फूड सेक्टर में उत्तराखंड की बेटी व बहनें आगे आएं। उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि सड़क किनारे बने कई ढाबों में उत्तराखंड का भोजन परोसा जा रहा है। हरीश रावत ने प्रीति की सराहना भी की। एक अन्य कांग्रेस के नेता और पूर्व पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने भी ढाबे की संचालिका प्रीति का अपना समर्थन करते हुए शुभकामनाएं दी। आम आदमी पार्टी के नेता रविंद्र जुगरान तो कारगी चौक में प्रीति से मिलने ही पहुंच गए। ‌‌’आप के नेता जुगरान ने बधाई देते हुए कहा कि प्रीति उत्तराखंड की बेटी है’। उसने स्वरोजगार अपनाते हुए प्यारी पहाड़न नाम से रेस्टोंरेट खोला है, जो एक युवा द्वारा किया गया काफी सार्थक प्रयास है। उन्होंने कहा कि ये सिर्फ रेस्टोरेंट नहीं बल्कि उत्तराखंड की संस्कृति और परंपरागत भोजन को भी आगे बढ़ाने का काम है। रविंद्र ने कहा कि बाहर से आने वाले पर्यटकों को भी इस रेस्टोरेंट में उत्तराखंड के स्वादिष्ट व्यंजन मिलेंगे जिससे हमारे राज्य का प्रचार-प्रसार भी होगा।उन्होंने कहा कि ढाबे के नाम में उत्तराखंड संस्कृति से कुछ भी खिलवाड़ नहीं है। फिलहाल इस पूरे मामले में सत्तारूढ़ भाजपा सरकार के किसी नेता की ओर से प्रतिक्रिया नहीं आई है। नाम को लेकर चर्चा में आए इस ढाबे को देखने के लिए हर रोज सैकड़ों लोग आ रहे हैं। प्यारी पहाड़न नाम पर तूल पकड़ने के बाद यह ढाबा पूरे राज्य में प्रसिद्धि पा चुका है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: