शुक्रवार, अगस्त 12Digitalwomen.news

Digital Women Special: Happy Birthday, Sanjay Dutt

संजय दत्त की फिल्मी परदे के साथ निजी जिंदगी भी उतार-चढ़ाव भरी रही फिर भी हार नहीं मानी

Digital Women Special: Happy Birthday, Sanjay Dutt
Digital Women Special: Happy Birthday, Sanjay Dutt

आज हम बॉलीवुड के एक ऐसे अभिनेता की बात करेंगे जिनकी फिल्मी परदे के साथ निजी जिंदगी भी काफी उतार-चढ़ाव भरी रही। लेकिन उन्होंने हर मुश्किलों का सामना डट कर किया। पिछले वर्ष उन्हें लंग्स कैंसर भी हुआ उसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और वह स्वस्थ होकर फिर लौटे। जी हां आप समझ ही गए होंगे, हम बात कर रहे हैं अभिनेता संजय दत्त की, आज संजय दत्त का जन्मदिन है। 29 जुलाई 1959 बंबई (अब मुंबई ) में जन्मे संजय दत्त आज 62 वर्ष के हो गए हैं। आइए आज उनकी निजी जिंदगी और फिल्मी करियर के बारे में कुछ चर्चा की जाए। पिता सुनील दत्त और मां नरगिस के बेटे संजय दत्त के घर बचपन से ही फिल्मी माहौल था। माता-पिता ने उनका घर का नाम संजू रखा था। संजय दत्त की प्रिया और नम्रता नाम की दो बहनें हैं। प्रिया कांग्रेस की मुंबई से सांसद भी रह चुकी हैं और उन्होंने ओवेन रोनकॉन से शादी की है, वहीं नम्रता ने अभिनेता कुमार गौरव से शादी की है। वर्ष 1981 में मां नरगिस की मौत के बाद संजय दत्त को ड्रग्स की लत लग गई थी। काफी संघर्षों के बाद अभिनेता और सांसद पिता सुनील दत्त संजय दत्त को इलाज कराने के लिए अमेरिका ले गए थे। उसके बाद संजय ने ड्रग्स को अलविदा कह कर फिल्मी करियर की ओर ध्यान देना शुरू किया। लेकिन संजय के लिए ऐसी इमेज बन गई थी कि फिल्मों में पैर जमाना आसान नहीं था। लेकिन अपनी दमदार अदाकारी के बल पर संजू धीरे धीरे बॉलीवुड में हिट होते गए और एक बहुत बड़ा फैंस फॉलोइंग भी खड़ा किया। उन्होंने बॉलीवुड में एक से बढ़कर एक फिल्में सुपरहिट दी। लेकिन संजय दत्त की जिंदगी किसी अन्य फिल्मी सितारे से काफी अलग रही । आपको बता दें कि अभिनेता संजय दत्त के ऊपर 2018 में ‘संजू’ नाम की फिल्म भी बन चुकी है। इस फिल्म में संजय दत्त की जिंदगी के कई पहलुओं को दिखाया गया था, उनमें से एक उनकी ड्रग्स की लत भी थी।

वर्ष 1981 में ‘रॉकी’ फिल्म से संजय दत्त ने किया था अपना करियर शुरू—

Digital Women Special: Happy Birthday, Sanjay Dutt

संजय की स्कूली शिक्षा हिमाचल प्रदेश के कसौली के पास सनावर के द लॉरेंस स्कूल में हुई थी। लेकिन स्कूल में संजय दत्त का पढ़ाई में मन नहीं लगा। संजय 12 साल की उम्र में पहली बार वर्ष 1971 में आई सुनील दत्त की फिल्म ‘रेशमा और शेरा’ में एक छोटी-सी भूमिका में नजर आए थे। वर्ष 1981 में अभिनेता सुनील दत्त ने संजय को लेकर ‘रॉकी’ फिल्म बनाई। यह फिल्म सुपरहिट रही थी, लेकिन इस फिल्म के रिलीज होने से 3 दिन पहले ही मां नरगिस की कैंसर से दुखद मृत्यु को संजय दत्त बर्दाश्त नहीं कर सके।
उसके बाद संजय दत्त की जिंदगी गलत दिशा में बढ़ गई। ड्रग्स की लत ने संजय दत्त का फिल्मी करियर बुरी तरह प्रभावित कर दिया था। पिता सुनील दत्त संजू को इलाज के लिए अमेरिका ले गए । आखिरकार संजय दत्त ने इस ड्रग्स की लत को अलविदा कह दिया । वर्ष 1986 में अभिनेता और निदेशक राजेंद्र कुमार और महेश भट्ट ने फिल्म ‘नाम’ फिल्म का निर्माण किया। नाम फिल्म संजय दत्त के लिए मील का पत्थर साबित हुई। यह उस वर्ष की सबसे बड़ी सुपरहिट फिल्म थी। इस फिल्म में उनके बहनोई कुमार गौरव ने भी काम किया था।

90 के दशक में संजू ने दमदार अभिनय के बल पर कई फिल्में सुपरहिट दी—

Digital Women Special: Happy Birthday, Sanjay Dutt

यहां हम आपको बता दें कि 90 के दशक में संजय दत्त ने सफलता का स्वाद चखना शुरू कर दिया था। एक के बाद एक कई सुपरहिट फिल्म देने के बाद संजू बॉलीवुड में अपनी एक खास जगह बनाने में सफल हो गए । इस दौरान उन्होंने ‘खलनायक’ और ‘सड़क’ के अलावा ‘थानेदार’ (1990), ‘खून का कर्ज’ (1991), ‘यलगार’ (1992), ‘गुमराह’ (1993), ‘साहिबान’ (1993) और ‘आतिश’ जैसी फिल्में कीं। वर्ष 1991 में आई ‘साजन’ में संजय ने एक्शन हीरो की अपनी छवि को बदलते हुए एक शायर का किरदार निभाया। फिल्म में उनके साथ माधुरी दीक्षित और सलमान खान प्रमुख भूमिकाओं में थे। इस किरदार के लिए ‘सर्वश्रेष्ठ अभिनेता’ वर्ग में उन्हें उनका पहला फिल्मफेयर पुरस्कार मिला। वर्ष 1993 में संजय दत्त को अवैध तरीके से हथियार रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। इसके बाद करीब 18 महीने तक वह जेल में रहे। गिरफ्तारी के तीन सप्ताह बाद ‘खलनायक’ रिलीज हुई, इस फिल्म में माधुरी दीक्षित और जैकी श्रॉफ उनके सह कलाकार थे। फिल्म सुपरहिट रही और संजय की गिनती बॉलीवुड के बड़े अभिनेताओं में होने लगी। जेल से बाहर आने के बाद संजय दत्त ने 1999 में ‘खूबसूरत’, ‘दाग द फायर’, ‘हसीना मान जाएगी’ और अवार्ड विनिंग ‘वास्तव’ से फिल्मों में वापसी की। ‘वास्तव’ में संजय दत्त ने एक गैंगस्टर की भूमिका निभाई थी, इसके लिए उन्हें फिर बेस्ट एक्टर के रूप में फिल्मफेयर अवॉर्ड दिया गया। वर्ष 2003 में रिलीज हुई मुन्ना भाई एमबीबीएस संजय दत्त की बड़ी सुपरहिट फिल्म साबित हुई थी। उसके बाद लगे रहो मुन्ना भाई भी सुपरहिट रही।

मुंबई बम हमले के मामले में वर्ष 2013 में संजय दत्त को 5 साल की सजा सुनाई गई–

1993 मुंबई बम हमले के मामले में साल 2013 में टाडा अदालत के फैसले को सही ठहराते हुए संजय को पांच साल की सजा सुनाई गई। हालांकि चार बार में कुल 17 महीने 6 दिन की जेल संजय पहले ही काट चुके थे। संजय जेल जाने के बाद भी विवादों में रहे। यह विवाद तब शुरू हुआ जब उन्होंने पैरोल पर बाहर आना शुरू किया। वर्ष 2016 में जेल से रिहा होने के बाद संजय दत्त ने कई फिल्में साइन की। संजय दत्त की अगर वैवाहिक जीवन की बात करें तो उन्होंने तीन शादी की। संजय दत्त ने 1987 में एक्ट्रेस ऋचा शर्मा से पहली शादी की थी। वर्ष 1996 ऋचा की कैंसर से मौत हो गई थी। दोनों की एक बेटी त्रिशाला हैं। इसके बाद 1998 में संजय ने मॉडल रिया पिल्लै से विवाह किया, लेकिन उनकी यह शादी सफल नहीं रही और 2005 में दोनों ने तलाक ले लिया। उसके बाद फरवरी, 2008 में दो साल तक चले अफेयर के बाद संजय दत्त ने मान्यता से शादी कर ली। मान्यता और संजय के शाहरान और इकरा नाम के दो जुड़वां बच्चे हैं। उम्र के इस पड़ाव में भी संजय दत्त फिल्मों में सक्रिय हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: