बुधवार, जनवरी 26Digitalwomen.news

Happy Birthday AMRISH PURI – Amrish Puri Birthday Special

हिंदी सिनेमा में सबसे बड़े खलनायक के रूप में अमरीश पुरी का रहा राज

Happy Birthday AMRISH PURI - Amrish Puri Birthday Special
Happy Birthday AMRISH PURI – Amrish Puri Birthday Special

वह रौबदार आवाज सुनाई देते ही सिनेमा हॉल में बैठे दर्शक भी शांत हो जाते थे। वे अपनी एक्टिंग से कई फिल्मों में हीरो पर भी भारी पड़ गए। अपने आप को हर किरदार में ढाल लेते थे। भले ही यह कलाकार हमारे बीच में नहीं हैं लेकिन इनके निभाए गए सिनेमा में अभिनय को दर्शक आज भी नहीं भूले हैं । आज हम बात करेंगे अमरीश पुरी की। हिंदी सिनेमा में अमरीश पुरी को दमदार अदाकारी और सबसे बड़े विलेन के रूप में याद किया जाता है। अमरीश पुरी जब फिल्मी पर्दे पर प्रकट होते थे तब पर्दा भी उनके खौफ की वजह से कांप जाता था। अमरीश के कई किरदार ऐतिहासिक बन गए, जिन्हें दर्शक आज भी याद करते हैं। उनकी संवाद अदायगी भी इतनी बेजोड़ रहती थी कि अभिनेताओं पर भी कई बार भारी पड़ जाती थी। 80 से लेकर 90 के दशक तक अपनी शानदार एक्टिंग की बदौलत हिंदी सिनेमा में राज किया था। हिंदी सिनेमा के सबसे बड़े खलनायक अमरीश पुरी का आज जन्मदिन है। आइए आज उनके फिल्मी और निजी जीवन के बारे में चर्चा की जाए । बॉलीवुड के दिग्गज कलाकार अमरीश पुरी का जन्म पंजाब के नौशेरा गांव में 22 जून 1932 को हुआ था। शिमला के बीएम कॉलेज से पढ़ाई की। अमरीश पुरी ने अपने करियर की शुरुआत श्रम मंत्रालय में नौकरी से की थी। बाद में उन्होंने अभिनय की दुनिया में कदम रखा शुरुआत में वह रंगमंच से जुड़े। अमरीश पुरी, पृथ्‍वी राज कपूर के ‘पृथ्‍वी थियेटर’ में बतौर कलाकार अपनी पहचान बनाने में सफल हुए। उसके बाद अमरीश पुरी की कड़क और रौबदार आवाज बॉलीवुड में एक अलग पहचान बननी शुरू हो गई थी।

वर्ष 1971 में पहली फिल्म ‘प्रेम पुजारी’ से की थी शुरुआत—

अमरीश पुरी ने बॉलीवुड में 40 की उम्र के बाद कदम रखा था। इसके बावजूद भी वह जल्द ही फिल्मी पर्दे पर छा गए थे। उन्‍होंने अपने फिल्‍मी करियर की शुरुआत वर्ष 1971 की फिल्‍म ‘प्रेम पुजारी’ से की थी। इस फिल्‍म में उनका रोल बहुत छोटा था। इसके बाद उन्‍होंने फिल्‍म ‘रेशमा और शेरा’ में अमिताभ बच्‍चन के साथ काम किया था। अमरीश पुरी का सफर वर्ष 1980 के दशक में यादगार साबित हुआ। यहां से हिंदी सिनेमा में अमरीश पुरी की पहचान बहुत तेजी के साथ बनने लगी थी। अमरीश पुरी के अभिनय से सजी कुछ मशहूर फिल्मों में ‘निशांत’, ‘गांधी’,’ शक्ति ‘नगीना’, विधाता ‘राम लखन’, ‘त्रिदेव’, ‘फूल और कांटे’, ‘विश्वात्मा’, ‘दामिनी’, ‘करण अर्जुन’, ‘कोयला’ ‘मिस्टर इंडिया’, ‘तहलका’, ‘घायल’, ‘घातक’ ‘जानी दुश्मन’, ‘दिलवाले दुल्हनियां’ ले जाएंगे, ‘गदर,’ आदि में अपनी एक्टिंग जलवा बिखेरा। यह फिल्म में ऐसी रहीं जिसमें दर्शकों ने खलनायकी की अदाकारी को याद किया। फिल्मों में अमरीश पुरी के बेहतरीन डायलॉग्स को भी उनके फैंस आज भी याद करते हैं। उन्‍होंने इंटरनेशनल फिल्‍म ‘गांधी’ में ‘खान’ की भूमिका निभाई था जिसके लिए उनकी दर्शकों ने जबरदस्त तारीफ की थी।

मिस्टर इंडिया का डायलॉग ‘मोगैंबो खुश हुआ’ आज भी देशभर में प्रसिद्ध–

वर्ष 1987 में आई शेखर कपूर की फिल्‍म ‘मिस्‍टर इंडिया’ में उनके ‘मोंगैंबो’ की खलनायकी भूमिका ने दर्शकों को उनका दीवाना बना दिया। अमरीश पुरी का बोला गया डायलॉग ‘मोगैंबो खुश हुआ’ आज भी देश भर में प्रसिद्ध है। दर्शकों ने उन्‍हें नकारात्‍मक भूमिकाओं के साथ-साथ सकारात्‍मक भूमिकाओं में भी पसंद किया। इसके बाद वर्ष 1990 में आई फिल्‍म ‘दिलवाले दुल्‍हानियां ले जायेंगे’ में दर्शकों ने उनके सकारात्‍मक भूमिका के जरिए सबका दिल जीत लिया। फिल्म तहलका का डायलॉग ‘डॉन कभी रॉन्ग नहीं होता’ ने दर्शकों में अलग छाप छोड़ी। ऐसे ही दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे से ‘जा सिमरन जा जी ले अपनी जिंदगी’ जैसे तमाम डायलॉग्स को कभी भुलाया नहीं जा सकता। विलेन के किरदार निभाने के लिए अमरीश पुरी को कई बार अवार्ड भी मिले। लगभग तीन दशक तक दर्शकों के दिलों में राज करने वाले अभिनेता अमरीश पुरी ने लगभग 250 फिल्मों में काम किया । अमरीश पुरी का 12 जनवरी 2005 को 72 वर्ष की उम्र में ब्रेन ट्यूमर की वजह से निधन हो गया। इसके साथ ही बॉलीवुड ने अनोखा हीरा खो दिया था। उनके अचानक हुए इस निधन से बॉलीवुड जगत के साथ-साथ पूरा देश शोक में डूब गया था। उनके जीवन की अंतिम फिल्‍म ‘किसना’ थी जो उनके निधन के बाद वर्ष 2005 में रिलीज हुई। ‍उन्होंने कई विदेशी फिल्‍मों में भी काम किया। अमरीश पुरी जब फिल्मों में अपने विलेन के किरदार को निभाते थे तो दर्शक हीरो से ज्यादा उनके लिए तालियां बजाते हैं। अमरीश पुरी जैसे महानायक सदी में एक ही बार पैदा होते हैं, सिनेमा प्रेमी उनको हमेशा याद रखेंगे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: