शनिवार, दिसम्बर 4Digitalwomen.news

Ministry of Health & Family Welfare issued revised guidelines for Home Isolation

स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किए नए गाइड लाइन…

केंद्र सरकार ने कोरोना कि महामारी के लिए नई गाइडलाइन जारी किए हैं।स्वास्थ्य मंत्रालय की ये गाइडलाइन उन सभी राज्यों के लिए है जिन्होंने होम आइसोलेशन की इजाजत दी है। इस गाइडलाइन के मुताबिक अब हल्के लक्षण या बगैर लक्षण वाले मरीज जिनको कोई दूसरी बीमारी नहीं है वो होम आइसोलेशन में रहते हुए अपना इलाज करा सकेंगे। लेकिन इसके लिए उन्हें पहले डॉक्टर की इजाजत जरूरी होगी। उनके होम आइसोलेशन पूरा होने के बाद टेस्टिंग की जरूरत नहीं होगी।

https://platform.twitter.com/widgets.js

सरकार की ओर से जारी नई गाइडलाइन में कहा गया है कि यदि होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज को सांस लेने में दिक्‍कत होती है, सीने में दर्द शुरू होता है या बोलने में तकलीफ होती है तो उन्हें अस्पताल आना होगा। इसके अलावा 60 साल के ऊपर के मरीजों को अस्पताल में ही अपना इलाज कराना होगा।
इसके अलावा जिन्हें डायबिटीज, हाईपर टेंशन, कैंसर, किडनी, फेफड़ों से संबंधित बीमारी है उनको भी अस्‍पताल में ही इलाज कराना होगा। सरकार का साफ कहना है कि होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को परिवार के सदस्‍यों से बिल्‍कुल ही अलग रहना होगा।

इसके अलेवा सरकार की यह गाइडलाइन कोरोना के माइल्‍ड, प्रीसिम्‍टोमेटिक और एसिम्‍टोमेटिक मामलों को लेकर भी है।
सरकार के नए निर्देश के मुताबिक, जो पहले से एचआईवी और कैंसर के मरीज हैं उन्हें होम आइसोलेशन में नहीं, बल्कि अस्पताल में इलाज कराना होगा। वहीं, होम आइसोलेशन वाले मरीज लक्षण की शुरुआत के 10 दिन बाद डिस्चार्ज हो जाएंगे।लेकिन यहां ये भी देखना होगा कि मरीज को 3 दिन तक बुखार न हो।

Leave a Reply

%d bloggers like this: