बुधवार, सितम्बर 28Digitalwomen.news

World Press Freedom Day 2020 :भय और पक्षपात रहित विश्व पत्रकारिता स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

आज वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम डे है। इस दिन वर्ष 1991 में यूनेस्को और संयुक्त राष्ट्र के ‘जन सूचना विभाग’ ने मिलकर इसे मनाने का निर्णय किया था। वहीं ‘संयुक्त राष्ट्र महासभा’ ने भी ‘3 मई’ को ‘अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारिता स्‍वतंत्रता दिवस’ की घोषणा की थी। 
यूनेस्को महासम्मेलन के 26वें सत्र में 1993 में इससे संबंधित प्रस्ताव को स्वीकार किया गया था और इस इस दिन को यानि 3 मई को अन्तर्राष्ट्रीय पत्रकारिता दिवस मनाने का का निर्णय लिया था।

आज भारत ऐसे लोकतांत्रिक देश में पत्रकार और पत्रकारिता सबसे खाश और सम्मान जनक माना जाता है लेकिन एक बड़ा सच यह भी है कि पत्रकार और पत्रकारिता हमेशा से सत्ता के आंखों कि चुभन रही है। आज के दौर में एक सच्चा पत्रकार होना भी एक बड़ी चुनौती है खाश कर जब दौर ऐसा हो जब कई मीडिया कम्पनियां सरकारी दवाब में काम कर रही हों। इसके बावजूद आज भी एक सच्चा पत्रकार अपनी पत्रकारिता को दाव पर नहीं लगाया है।दुनिया भर के कई देशों में अक्सर पत्रकारों पर हमले होने की खबरें आती हैं। मीडिया जब भी सरकार के खिलाफ आवाज उठाती है तो कई बार उसे इसके बदले में प्रताड़ित किया जाता है। उन मीडिया संगठनों को बंद करने तक के लिए मजबूर किया जाता है। जब भी पत्रकारों के द्वारा सच के लिए आवाज उठाया गया है, पत्रकारों की हत्या तक की गई है।

आज अभिव्यक्ति की आजादी को रोकने के लिए हर वो कोशिश की जाती है जिस से मीडिया अपना काम न सके। इन सारी बातों को ख्यात रखते हुए प्रेस डे बनाया गया, ताकी पत्रकार निडर होकर पत्रकारीता कर लोकतंत्र के मूल्यों की सुरक्षा और उसे बहाल करने में अहम भूमिका निभाता रहे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: